Prabhasakshi
बुधवार, अप्रैल 25 2018 | समय 22:09 Hrs(IST)

विशेषज्ञ राय

जनधन खातों में अघोषित धन पर निगाह रखे है सरकार

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Dec 17 2016 12:25PM

जनधन खातों में अघोषित धन पर निगाह रखे है सरकार
Image Source: Google

प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह में इस सप्ताह भी नोटबंदी से उपजे हालात पर पाठकों के प्रश्नों के उत्तर दिये जा रहे हैं। सामान्य प्रश्नों के उत्तर अगले अंकों में देने का प्रयास रहेगा। पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रहे हैं द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक व कंपनी सचिव श्री बी.जे. माहेश्वरी जी। श्री माहेश्वरी पिछले 32 वर्षों से कंपनी कानून मामलों, कर (प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष) आदि मामलों को देखते रहे हैं। यदि आपके मन में भी आर्थिक विषयों से जुड़े प्रश्न हों तो उन्हें edit@prabhasakshi.com पर भेज सकते हैं।

 
प्रश्न-1. पीओएस मशीन क्या होती है? इससे किस तरह पैसे निकाले जा सकते हैं?
 
उत्तर- पीओएस मशीन (point of sale machine) में fingerprint scanning सुविधा है और उसे खाताधारक के आधार नंबर से लिंक कर दिया जाता है। इसमें आपको अपना आधार कार्ड नंबर पंच करना होगा और फिर कितनी रकम निकालनी है वह भरना होगा और इसके बाद अपने finger print मशीन में लगाकर जिसका वेरिफिकेशन आपके आधार कार्ड की centralized सूचना में रिकार्ड finger print से किया जाएगा और यदि वह सही है तो आपको रुपये का भुगतान करने दिया जायेगा। इसके लिए आपको क्रेडिट व डेबिट कार्ड की जरूरत नहीं है।
 
प्रश्न-2. मैंने सुना है कि एटीएम से 2000 रुपए के पुराने नोट भी निकल रहे हैं यदि ऐसी घटना कोई हमारे साथ हो जाए तो हम कैसे साबित करें कि नकली नोट एटीएम से निकला है। इसके बारे में शिकायत कहां करनी चाहिए?
 
उत्तर- पुराने नोट 2000 रुपए के नहीं होंगे। पुराने नोट 1000 रुपये के होंगे। ऐसी घटना घटे तो आप अपने बैंक को शिकायत करें या जिस बैंक के एटीएम से नोट निकाले हैं वहां शिकायत करें।
 
प्रश्न-3. सरकार ने कहा है कि पेट्रोल के लिए डिजिटल रूप में भुगतान करने पर छूट मिलेगी। क्या इससे हमें कम दाम में पेट्रोल मिलेगा या छूट के पैसे कार्ड में कैशबैक के रूप में वापिस आएंगे?
 
उत्तर- यह पैसा कैशबैक के रूप में मिलने की संभावना है।
 
प्रश्न-4. क्या सरकार की ओर से नए जन धन खाते खोलने पर कोई रोक लगायी गयी है?
 
उत्तर- ऐसा कोई आदेश नहीं है। हालांकि सरकार जन धन खाता में बड़ी मात्रा में यदि कोई अघोषित धन जमा होता है तो उस पर नजर रखे है। ऐसे मामले में सरकार पूछताछ कर सकती है।
 
प्रश्न-5. यदि मैं इस समय अपना आईटीआर संशोधित करता हूँ तो क्या आयकर विभाग कोई कार्रवाई कर सकता है?
 
उत्तर- नहीं, अगर आपके खाते में कोई अघोषित धन जमा नहीं हुआ हो, तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है।
 
प्रश्न-6. मैंने सुना है कि जीएसटी पोर्टल के साथ दिसंबर में पंजीकरण की सुविधा मिलेगी। इस सुविधा से क्या लाभ होगा?
 
उत्तर- इससे आपको migration में सुविधा रहेगी और आपका काम आसान हो जाएगा जब भी जीएसटी लागू होगा।

प्रश्न-7. यदि किसी फर्म की इस साल की आय कुछ ज्यादा बढ़ गयी है तो क्या पिछले सालों के मामले खोले जाने की संभावना है?
 
उत्तर- ऐसा कोई जरूरी नहीं है। अगर आप बढ़ी हुई आय के बारे में आयकर विभाग को समझाने में सक्षम है तो फिर कोई कार्रवाई नहीं होगी।
 
प्रश्न-8. मैंने सुना है कि सरकार की ओर से डिजिटल भुगतान के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए युवाओं की भर्तियां की जा रही हैं। इस बारे में ज्यादा जानकारी कहां से मिल सकती है?
 
उत्तर- ज्यादा जानकारी के लिए आप वित्त मंत्रालय की वेबसाइट और रोजगार समाचार पत्र की वेबसाइट देख सकते हैं।
 
प्रश्न-9. एक समाचार रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में कोई भी मोबाइल भुगतान एप ऐसा नहीं है जोकि पूरी तरह सुरक्षित हो, ऐसे में हम अपने पैसे की सुरक्षा के लिए क्या करें?
 
उत्तर- कोई भी मोबाइल भुगतान एप यूज करने में आपको कुछ बातों को ध्यान रखना होगा जैसे कि-
1. आप अपने मोबाइल को किसी अपरिचित व्यक्ति के हाथ में न दें।
2. आप अपना पिन लॉगिन, पासवर्ड, ओटीपी भी किसी व्यक्ति के साथ शेयर न करें।
3. आप कोई भी संदेहास्पद एप डाउनलोड न करें। हो सकता है कि इससे आपकी गोपनीय सूचनायें लीक हो जायें।
 
प्रश्न-10. पांच सौ के ऐसे पुराने नोट जिन पर प्रकाशन वर्ष प्रकाशित नहीं हुआ है उन्हें अपनी बैंक शाखा में ही जमा करा सकते हैं या फिर आरबीआई की किसी शाखा में जाना होगा?
 
उत्तर- पांच सौ के पुराने नोट जिन पर प्रकाशन वर्ष प्रकाशित नहीं है उसके जमा करने की अवधि 1 अप्रैल 2014 से 30 जून 2014 थी। अब इस अवधि के बाद आपको अपने बैंक से सम्पर्क करना होगा और उनसे नोट बदलवाने के बारे में पूछताछ करनी होगी।
 
नोटः कर से जुड़े हर मामले चूँकि भिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए संभव है यहाँ दी गयी जानकारी आपके मामले में सटीक नहीं हो इसलिए अपने विशेषज्ञ की सलाह भी ले लें।

Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.