Prabhasakshi
सोमवार, अप्रैल 23 2018 | समय 12:52 Hrs(IST)
भरी सभा में भी वो मौन थे (कविता)

भरी सभा में भी वो मौन थे (कविता)

हिन्दी काव्य संगम से जुड़ीं लेखिका मीनाक्षी मिश्रा की ओर से प्रेषित कविता 'भरी सभा में भी वो मौन थे' में महिलाओं पर होने वाले अत्याचार को उकेरा गया है।

उपवास का मौसम (व्यंग्य)

उपवास का मौसम (व्यंग्य)

आजकल बेमौसमी उपवासों का दौर चल रहा है। वैसे तो साल में दो बार नवरात्र आते हैं। दो मौसम के संधिकाल में नौ दिन कम खाने या कुछ नहीं खाने से पेट को आराम मिलता है। इससे पूरे शरीर की आंतरिक शुद्धि हो जाती है।