Prabhasakshi
रविवार, अप्रैल 22 2018 | समय 08:26 Hrs(IST)

मोबाइल एप

सिनेमाघर क्यों जाना जब मोबाइल पर देख सकते हैं फ्री मूवी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 11 2017 12:13PM

सिनेमाघर क्यों जाना जब मोबाइल पर देख सकते हैं फ्री मूवी
Image Source: Google

फिल्म के दीवानों को सिनेमा हॉल जाने से कोई नहीं रोक सकता लेकिन अक्सर ऐसा होता है कि काम के चलते या फिर किसी और वजह से हम मूवी देखने नहीं जा पाते और वैसे ये ज़रूरी नहीं कि जो मूवी आप देखना चाहें वह सिनेमा हॉल में चल ही रही हो। ऐसे में होता ये है कि हम उस मूवी का इंतज़ार टीवी पर आने का करते हैं। लेकिन अब आपको चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आप अब, जब चाहें अपनी फेवरिट मूवीज़ सिनेमा हॉल के बजाय अपने फोन में देखें और वो भी बिना पैसे खर्च करे। जी हां, आज हम आपको बताने जा रहें हैं कुछ ऐसी एप्स के बारे में जिसके ज़रिये आप कोई भी मूवी देख सकते और वो भी जब आप चाहें।

आमतौर पर हम मोबाइल में बहुत कुछ करते हैं जैसे कि गाने सुनना, गेम खेलना, लोगों से बात करना, सोशल साइट्स पर एक्टिव रहना, आदि। लेकिन कुछ लोगों को मोबाइल पर मूवीज़ या टीवी देखना भी बहुत पसंद है। आजकल, घर पर बैठकर मूवी देखने की ऑनलाइन फैसिलिटी मौजूद है। हम आपको ऐसे एंड्रॉयड मोबाइल एप्प बताएंगे, जहां आपको मूवीज़ का अच्छा खासा कलेक्शन मिल जाएगा। आप इनको गूगल प्ले स्टोर से या फिर ऑफिशियल पेज से आधिरकारिक तौर पर डाउनलोड कर मूड रिफ्रेश कर सकते हैं। आइये जानते हैं ऐसी ही कुछ एप्स के बारे में-
 
1. शोबॉक्स- यह एप्प यूज़र्स के बीच काफी पॉपुलर है जहां पर आप अपनी मनपसंद मूवीज़, वीडियोज़, टीवी शोज़ आदि देख सकते हैं। यह एप्प क्रोम के साथ-साथ एंड्रॉयड, ब्लैकबेरी, मैक और विंडोंज़ आदि को सपोर्ट करते हैं। इसके साथ ही इस एप्प से आप इसकी एपीके फाइल को गूगल साइट से डाउनलोड कर सकते हैं। फिर डाउनलोड कर उसे आप ऑफलाइन देख सकते हैं। इस एप्प में आपको काफी सारी फिल्मों का कंटेंट देखने  को मिलेगा लेकिन ध्यान रहे कि आप अपने पसंदीदा शो को अपने ही देश में देख सकते हैं। अंतः आप अन्य देशों में इन्हें नहीं देख पाएंगे। 
 
2. क्रैकल फ्री- अगर आप हॉलीवुड मूवीज़ का शौक रखते हैं, तो यह ऑनलाइन मूवी साइट आपको बेहद पसंद आएगी। क्योंकि इस एप्प पर आपको टीवी शोज़ और फिल्में दोनों ही काफी कैटेगरीज़ में देखने को मिलती हैं। मूवी स्ट्रीमिंग देखने के लिए ये एप्प डाउनलोड कर सकते हैं लेकिन ध्यान रहे कि यहां आपको डाउनलोड का ऑप्शन नहीं मिलेगा।
 
3. व्यूस्टर- यह मोबाइल एप्प युरोप फ्री ऑनलाइन वीडियो सर्विस में काफी फेमस है। इस एप्प के ज़रिये फ्री मूवीज़, टीवी शो देखे जा सकते हैं। यहां पर एकदम फ्री ऑरिजनल कंटेंट मौजूद है जिसके लिए आपको साइन-अप करने की कोर्इ ज़रूरत नहीं है। व्यूस्टर एप्प आपको अपने एंड्रॉयड डिवाइस में फ्री मूवीज़ देखने की सुविधा देती है। 
 
4. हुबी- फ्री में ऑनलाइन फिल्म देखने व डाउनलोड करने का शौक रखने वालों के लिए यह एप्प खास है। यहां आपको ऑनलाइन मूवीज़ देखने के साथ-साथ हर वीडियो को डाउनलोड करने का लिंक मिलेगा। इस एप्प की मदद से आप अपना मूवीज़ का अच्छा-खासा कलेक्शन बना सकते हैं।
 
5. फ्लिप्स- फ्लिप्स मोबाइल एप्प एक पूरा कॉम्बो पैकेज है जहां आपको हिट मूवीज़, कॉमेडी शोज़, न्यूज़, टीवी एपिसोड, वायरल वीडियोज़, म्यूज़िक, स्पोर्ट्स हाइलाइट्स और भी बहुत कुछ देखने को मिल जाएगा। इस एप्प के इस्तेमाल से आप मूवीज़, शोज़ आदि केवल अपने टैबलेट या स्मार्टफोन में ही नहीं बल्कि अपने टीवी पर भी प्रोजेक्ट कर सकते हैं। इसके अलावा यह क्रोमकास्ट को भी सपोर्ट करता है।
 
6. हॉटस्टार- इस एप्प पर आप फ्री हिंदी फिल्मों का मज़ा ले सकते हैं। यहां तक कि वो फ़िल्में भी जो 3-4 महीने पहले ही रीलीज़ हुई हैं। हालांकि हर फिल्म इसमें हों ऐसा ज़रूरी नहीं है। इसके साथ ही आप इस पर टीवी शोज़ भी देख सकते हैं। अगर आपके पास हर दिन टीवी शोज़ देखने का टाइम नहीं है तो ये आपके लिए बेस्ट ऑप्शन साबित हो सकता है। इस एप्प पर आप स्टार प्लस के सभी चैनल लाइव और उनका पोस्ट टेलीकास्ट भी देख सकते हैं।
 
7. यू-ट्यूब- यू-ट्यूब जिसे हम विडियोज़ का महासागर भी कहें तो गलत नहीं होगा। दुनिया में सबसे ज्यादा वीडियोज़ देखने के लिए इस्तेमाल होने वाला इस प्लेटफॉर्म का दायरा काफी बड़ा हो चुका है। यू-ट्यूब पर पॉपूलर शोज़ के अलावा आप वो सभी फ़िल्में देख सकते हैं जिनका कॉपीराइट एक्सपायर हो चुका है। और जिसके लिए आपको पैसा भी खर्च करने की ज़रूरत नहीं है।
 
8. स्नैग फिल्म्स- इस एप्प के ज़रिये आप फ्री में मूवीज़, डॉक्यूमेंटरीज़ और टीवी शोज़ देख सकते हैं। इस एप्प पर आपको 5000 से ज्यादा फ्री स्ट्रीमिंग मूवीज़ देखने को मिलती है। यह एप्प इस्तेमाल करने में भी काफी सिंपल है।
 
शैव्या शुक्ला

Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.