विदेश मंत्रालय के पास मोसुल में मारे गये 39 भारतीयों का ब्योरा नहीं

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 16 2018 2:56PM
विदेश मंत्रालय के पास मोसुल में मारे गये 39 भारतीयों का ब्योरा नहीं

विदेश मंत्रालय ने इराक के मोसुल शहर में मारे गये 39 भारतीय नागरिकों के नाम, स्थायी पते और उनकी डीएनए रिपोर्ट आदि का ब्योरा सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत हासिल करने के लिये इराक स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क करने को कहा है।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने इराक के मोसुल शहर में मारे गये 39 भारतीय नागरिकों के नाम, स्थायी पते और उनकी डीएनए रिपोर्ट आदि का ब्योरा सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत हासिल करने के लिये इराक स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क करने को कहा है। सामाजिक कार्यकर्ता अशोक रंधावा के आरटीआई आवेदन पर विदेश मंत्रालय ने अपने जवाब में बगदाद स्थित दूतावास से मोसुल के मृतकों की विस्तृत जानकारी हासिल करने को कहा है। रंधावा ने आरटीआई आवेदन में मंत्रालय से इराक के मोसुल में आतंकी संगठन आईएसआईएस के हमले में मारे गये 39 भारतीय नागरिकों की डीएनए रिपोर्ट, मृतकों के नाम और स्थायी पते, मृतकों के भारत में रह रहे परिजनों के संपर्क सूत्र और पीड़ित परिवारों की सहायता के लिये सरकार द्वारा की गयी अब तक की कार्रवाई की जानकारी मांगी थी।

मंत्रालय में आरटीआई शाखा की अधिकारी के पी हेमलता ने रंधावा के गत 23 मार्च के आवेदन के जवाब में पांच अप्रैल को बताया कि उनका आरटीआई आवेदन बगदाद में भारतीय दूतावास को भेज दिया गया है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिये हेमलता ने रंधावा को दूतावास में तैनात द्वितीय सचिव और प्रमुख सूचना अधिकारी महिपाल सिंह से संपर्क करने को कहा है। रंधावा ने बताया कि वह वर्ष 2005 में दिल्ली के विभिन्न स्थानों पर हुये आतंकवादी हमले के दौरान सरोजनी नगर में हुए विस्फोट में सही सलामत बच गए लोगों में से एक हैं। उसके बाद से वह देश विदेश में आतंकी हमलों के शिकार हुये भारतीय नागरिकों और उनके परिजनों को कानूनी एवं चिकित्सकीय मदद पहुंचाने के लिए अभियान चला रहे हैं। इसी के तहत उन्होंने मोसुल में मारे गये 39 भारतीयों के परिजनों की मदद के लिये मंत्रालय से यह जानकारी मांगी थी।
 
उल्लेखनीय है कि मोसुल से लापता हुये 39 भारतीयों की मौत की पुष्टि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पिछले महीने संसद में मृतकों की डीएनए रिपोर्ट के आधार पर की थी। रंधावा ने कहा ‘‘उस समय स्वराज ने सभी मृतकों के परिजनों से मंत्रालय द्वारा संपर्क किये जाने की भी बात कही थी लेकिन अब, जबकि पीड़ित परिवारों की मदद करने के लिये हम जानकारी मांग रहे हैं तो मंत्रालय इराक जाने को कह रहा है।’’
 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Video