Prabhasakshi
सोमवार, जून 25 2018 | समय 07:37 Hrs(IST)

राष्ट्रीय

TDP के दोनों मंत्रियों ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दिया, पार्टी NDA में बनी रहेगी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 8 2018 5:48PM

TDP के दोनों मंत्रियों ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दिया, पार्टी NDA में बनी रहेगी
Image Source: Google

नयी दिल्ली। आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने की मांग को लेकर राजग में पिछले कुछ समय से जारी राजनीतिक उथलपुथल के बीच भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार में तेलगू देशम पार्टी (तेदेपा) के दो मंत्रियों अशोक गजपति राजू और वाई एस चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना इस्तीफा सौंप दिया। अशोक गजपति राजू ने बाद में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने प्रधानमंत्री को अपना इस्तीफा सौंप दिया है लेकिन हमारी पार्टी सत्तारूढ़ गठबंधन ‘राजग’ का हिस्सा बनी रहेगी। ’’

इससे पहले तेदेपा प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने घोषणा की थी कि केंद्र की ओर से राज्य को विशेष श्रेणी का दर्जा प्रदान किये जाने से मना किये जाने के विरोध में पार्टी के मंत्री केंद्र सरकार से इस्तीफा देंगे। वाई एस चौधरी ने कहा, ‘‘विशेष श्रेणी का दर्जा राज्य के लिए बहुत भावनात्मक है लेकिन केंद्र ने इसका समाधान नहीं किया। विशेष पैकेज भी पर्याप्त नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि यह कहना अनुचित होगा कि केंद्र ने राज्य के लिए कुछ नहीं किया। हिस्सों में कुछ विषयों पर सहायता प्रदान की गई लेकिन यह पर्याप्त नहीं है।राजू और चौधरी ने कहा कि आंध्र प्रदेश के लोगों ने काफी बलिदान दिया है और बंटवारे के बाद काफी कुछ सहा है, ऐसे में प्रदेश के लोगों की आशा.. आकांक्षा को पूरा किया जाना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि जब राष्ट्रीय दलों ने आंध्र प्रदेश का बंटवारा किया तब उस समय केंद्र में कांग्रेस नीत संप्रग की सरकार थी और भाजपा ने बंटवारे का समर्थन किया था। यह बंटवारा न्यायोचित नहीं था और आज जो आंध्र प्रदेश हमारे समक्ष है, वह पूर्व के आंध्र प्रदेश का अवशेष मात्र है। राजू ने कहा, ‘‘हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकार के दौरान राज्यसभा में जो आश्वासन दिया गया था, उसे पूरा किया जाए।’’ दोनों नेताओं ने कहा कि वे काफी समय तक नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल का हिस्सा रहे हैं, ऐसे में शिष्टाचार के नाते उन्होंने प्रधानमंत्री से मिलकर अपना इस्तीफा उन्हें सौंपा। 

यह पूछे जाने पर कि इस मुद्दे पर आगे की उनकी रणनीति क्या होगी, चौधरी ने कहा, ‘‘हम अपना प्रयास जारी रखेंगे। ’’ इस सवाल पर कि इस मुद्दे पर संसद में उनकी रणनीति क्या होगी, उन्होंने कहा, ‘‘ हम अपने नेता के निर्देश का इंतजार करेंगे और अभी तो हम राजग का हिस्सा हैं।’’ इससे पहले दिन में चंद्रबाबू नायडू की प्रधानमंत्री मोदी के साथ टेलीफोन पर बातचीत हुई थी।संसद के दोनों सदनों में आंध्र प्रदेश पुनर्गठन कानून को पूरी तरह से लागू करने और आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने के मुद्दे पर तेलगू देशम पार्टी, वाईएसआर कांग्रेस सदस्य पिछले चार दिन से हंगामा कर रहे हैं जिससे संसद का कामकाज बाधित हो रहा है।

 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


शेयर करें: