Prabhasakshi
सोमवार, जुलाई 23 2018 | समय 05:58 Hrs(IST)

राष्ट्रीय

राम मंदिर आंदोलन में तोगड़िया का कोई योगदान नहींः विहिप

By नीरज कुमार दुबे | Publish Date: Apr 16 2018 11:10AM

राम मंदिर आंदोलन में तोगड़िया का कोई योगदान नहींः विहिप
Image Source: Google

विश्व हिन्दू परिषद छोड़ने के बाद से संगठन के पूर्व प्रमुख प्रवीण भाई तोगड़िया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर हैं और उन्होंने मंगलवार से अनशन करने का ऐलान किया है। उन्होंने अहमदाबाद में कहा कि हिंदुओं की लंबित मांगों के लिए मंगलवार से मैं अनिश्चितकालीन अनशन करूँगा। उनके इस ऐलान का विहिप ने उपहास उड़ाते हुए कहा है कि जिस व्यक्ति के मधुमेह का स्तर बहुत ज्यादा हो उसके लिए 24 घंटे से ज्यादा भूखा रह पाना मुश्किल है ऐसे में अगर तबियत बिगड़ी तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना होगा। विहिप ने कहा कि जब हिंदुओं के लिए वह संगठन में रहते हुए नहीं लड़े तो अब क्या लड़ेंगे।

विहिप के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बातचीत में अपना नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि तोगड़िया लंबे समय से संगठन को नुकसान पहुँचा रहे थे। स्वर्गीय अशोक सिंघल भी तोगड़िया के कई फैसलों का विरोध करते थे लेकिन वह मनमानी पर उतारू रहते थे। उन्होंने कहा कि तोगड़िया को यह बात समझनी चाहिए थी कि जिस संगठन में रह रहे हैं उसका या उसके किसी आनुषांगिक संगठन का खुलकर विरोध करना उचित नहीं है। ''विहिप में रहते हुए तोगड़िया जिस तरह मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर रहते थे उससे सही संदेश नहीं जा रहा था। उन्होंने कहा कि तोगड़िया यहीं नहीं रुके वह संघ के खिलाफ भी बोलने लगे थे।'' 
 
विहिप पदाधिकारी ने कहा कि रामजन्मभूमि आंदोलन में तोगड़िया का कोई योगदान नहीं रहा और जिन्होंने इस आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाई तोगड़िया उन लोगों को पूछते तक नहीं थे। उन्होंने कहा कि तोगड़िया को लेकर संत समाज भी नाराज था और वह संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं का विश्वास खो चुके थे। उन्होंने कहा कि जिस संगठन में सर्वसम्मति से अध्यक्ष का चुनाव हो जाता था उसमें अगर चुनाव की नौबत आई तो उसके लिए तोगड़िया ही जिम्मेदार हैं क्योंकि उन्होंने मतदाता सूची को लेकर अविश्वास सार्वजनिक रूप से प्रकट किया था।
 
विहिप पदाधिकारी ने कहा कि तोगड़िया खुद संगठन से अलग हुए हैं, संगठन ने उन्हें नहीं निकाला। ''यदि वह समझते हैं कि अकेले सब कुछ कर लेंगे तो उन्हें उन लोगों का उदाहरण देख लेना चाहिए जो संघ परिवार को छोड़कर गये और आज कहां हैं।''
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


शेयर करें: