भारतीय भौतिक विज्ञान का एक गुमनाम सितारा- बिभा चौधरी

भारतीय भौतिक विज्ञान का एक गुमनाम सितारा- बिभा चौधरी

संविधान को लागू कराने के बाद बहन के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे डॉ. प्रसाद

संविधान को लागू कराने के बाद बहन के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे डॉ. प्रसाद

19 साल के उम्र में खुदीराम देश के लिए झूल गए फांसी के फंदे पर

19 साल के उम्र में खुदीराम देश के लिए झूल गए फांसी के फंदे पर

शोषित समाज के उत्थान के लिए आजीवन प्रयासरत रहे ज्योतिबा फुले

शोषित समाज के उत्थान के लिए आजीवन प्रयासरत रहे ज्योतिबा फुले

दृढ़ इरादों और सटीक फैसलों के लिए जानी जाती थीं इंदिरा गांधी

दृढ़ इरादों और सटीक फैसलों के लिए जानी जाती थीं इंदिरा गांधी

देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर कर दिया था लाला लाजपत राय ने

देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर कर दिया था लाला लाजपत राय ने

देश का भविष्य सँवारने के लिए बच्चों का विशेष ध्यान रखते थे पं. नेहरू

देश का भविष्य सँवारने के लिए बच्चों का विशेष ध्यान रखते थे पं. नेहरू

हिन्दू राष्ट्रवाद के समर्थक और तुष्टीकरण की नीतियों के खिलाफ थे पं. मालवीय

हिन्दू राष्ट्रवाद के समर्थक और तुष्टीकरण की नीतियों के खिलाफ थे पं. मालवीय

राम सुतार: पत्थर से इंसान गढ़ने वाला सरस्वती पुत्र

राम सुतार: पत्थर से इंसान गढ़ने वाला सरस्वती पुत्र

'आपरेशन ब्लू स्टार' नहीं करना चाहती थीं इंदिरा गांधी!

'आपरेशन ब्लू स्टार' नहीं करना चाहती थीं इंदिरा गांधी!

राम नाम के जाप ने डाकू रत्नाकर को बना दिया महर्षि वाल्मीकि

राम नाम के जाप ने डाकू रत्नाकर को बना दिया महर्षि वाल्मीकि

भारत मुकुट थे डॉ. लोहिया, इस मुकुट में कई भारत रत्न सुशोभित हो सकते हैं

भारत मुकुट थे डॉ. लोहिया, इस मुकुट में कई भारत रत्न सुशोभित हो सकते हैं

सच्चे कर्मयोगी का अर्थ समझना है तो डॉ. कलाम के जीवन को देखिये

सच्चे कर्मयोगी का अर्थ समझना है तो डॉ. कलाम के जीवन को देखिये

कलाम से इसलिए कांग्रेस हो गयी थी नाराज? आज भी यह नाराजगी दिखती है

कलाम से इसलिए कांग्रेस हो गयी थी नाराज? आज भी यह नाराजगी दिखती है

जयप्रकाश नारायण का संपूर्ण क्रांति का सपना अभी भी है अधूरा

जयप्रकाश नारायण का संपूर्ण क्रांति का सपना अभी भी है अधूरा

तमाम व्यस्तताओं के बावजूद माँ के साथ बैठने का समय जरूर निकालते थे शास्त्रीजी

तमाम व्यस्तताओं के बावजूद माँ के साथ बैठने का समय जरूर निकालते थे शास्त्रीजी

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा: तमाम चुनौतियों के बीच ऐतिहासिक फैसले सुनाते रहे

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा: तमाम चुनौतियों के बीच ऐतिहासिक फैसले सुनाते रहे

अंग्रेज सरकार को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था सरदार भगत सिंह ने

अंग्रेज सरकार को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था सरदार भगत सिंह ने

अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की भी चिंता करते थे पं. दीनदयाल उपाध्याय

अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की भी चिंता करते थे पं. दीनदयाल उपाध्याय

विश्व में भारत की पहली सांस्कृतिक प्रतिनिधि थीं मैडम भीकाजी कामा

विश्व में भारत की पहली सांस्कृतिक प्रतिनिधि थीं मैडम भीकाजी कामा

सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की याद में मनाया जाता है इंजीनियर दिवस

सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की याद में मनाया जाता है इंजीनियर दिवस

भूदान आंदोलन के जरिये भूमिहीनों की जिंदगी सँवारी थी विनोबा भावे ने

भूदान आंदोलन के जरिये भूमिहीनों की जिंदगी सँवारी थी विनोबा भावे ने

फिरोज गांधी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ उठायी थी बुलंद आवाज

फिरोज गांधी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ उठायी थी बुलंद आवाज

बचपन से ही मेधावी थे भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

बचपन से ही मेधावी थे भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

शांति और सेवा की मूर्ति थीं मदर टेरेसा, परमार्थ में लगा दिया पूरा जीवन

शांति और सेवा की मूर्ति थीं मदर टेरेसा, परमार्थ में लगा दिया पूरा जीवन

सत्यपाल मलिक, पिछले पांच दशक में J & K के राज्यपाल बनने वाले पहले राजनीतिज्ञ

सत्यपाल मलिक, पिछले पांच दशक में J & K के राज्यपाल बनने वाले पहले राजनीतिज्ञ

राजीव गांधी ने उन्नीसवीं सदी में इक्कीसवीं सदी के भारत का सपना देखा था

राजीव गांधी ने उन्नीसवीं सदी में इक्कीसवीं सदी के भारत का सपना देखा था

इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा है बोस का नाम, पढि़ए कुछ दिलचस्प किस्से

इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा है बोस का नाम, पढि़ए कुछ दिलचस्प किस्से

अटलजी ने अपने अंतिम समय तक किया अविवाहित जीवन का निर्वहन

अटलजी ने अपने अंतिम समय तक किया अविवाहित जीवन का निर्वहन

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ: लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ: लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

उपनिवेशवाद, धर्म और राजनीतिक विषयों पर मुखर होकर बात रखते थे नायपॉल

उपनिवेशवाद, धर्म और राजनीतिक विषयों पर मुखर होकर बात रखते थे नायपॉल

खुदीराम बोस ने 19 साल की उम्र में वतन के लिए दिया सर्वोच्च बलिदान

खुदीराम बोस ने 19 साल की उम्र में वतन के लिए दिया सर्वोच्च बलिदान

सिताब दियारा: जे पी के बाद अब हरिवंश

सिताब दियारा: जे पी के बाद अब हरिवंश

हरिवंश: पत्रकारिता से राज्यसभा के उपसभापति तक का सफर

हरिवंश: पत्रकारिता से राज्यसभा के उपसभापति तक का सफर

करुणानिधि: जिन्होंने अपनी लेखनी से लिखी तमिलनाडु की तकदीर

करुणानिधि: जिन्होंने अपनी लेखनी से लिखी तमिलनाडु की तकदीर

नोबल पुरस्कार विजेता गुरुदेव टैगोर ने दो देशों के लिए राष्ट्रगान लिखा था

नोबल पुरस्कार विजेता गुरुदेव टैगोर ने दो देशों के लिए राष्ट्रगान लिखा था

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, कहने वाले तिलक पर लगा था राजद्रोह

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, कहने वाले तिलक पर लगा था राजद्रोह

देखिए कैसे लिया था जलियांवाला कांड का बदला महान क्रांतिकारी ऊधम सिंह ने!

देखिए कैसे लिया था जलियांवाला कांड का बदला महान क्रांतिकारी ऊधम सिंह ने!

अनुशासित देशभक्त और मार्गदर्शक थे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम

अनुशासित देशभक्त और मार्गदर्शक थे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम

कारगिल में ऊँचाई पर बैठी पाकिस्तानी सेना को भारतीय सेना ने दिया था मुँहतोड़ जवाब

कारगिल में ऊँचाई पर बैठी पाकिस्तानी सेना को भारतीय सेना ने दिया था मुँहतोड़ जवाब

'मेरा नाम आजाद है, पिता का नाम स्वतंत्रता और पता जेल है'

'मेरा नाम आजाद है, पिता का नाम स्वतंत्रता और पता जेल है'

महफिलों और मंचों की शान थे प्रख्यात कवि गोपालदास नीरज

महफिलों और मंचों की शान थे प्रख्यात कवि गोपालदास नीरज

प्राण साहब की खलनायकी का जवाब नहीं, हीरो तक दब जाते थे उनके आगे

प्राण साहब की खलनायकी का जवाब नहीं, हीरो तक दब जाते थे उनके आगे

कश्मीर की खातिर अपने प्राणों की परवाह नहीं की डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने

कश्मीर की खातिर अपने प्राणों की परवाह नहीं की डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने

स्वामी विवेकानंद ने अपने विचारों से विश्व को सही राह दिखाई

स्वामी विवेकानंद ने अपने विचारों से विश्व को सही राह दिखाई

प्रशान्त चन्द्र महालनोबिस, जिन्होंने आंकड़ों से बनायी विकास की राह

प्रशान्त चन्द्र महालनोबिस, जिन्होंने आंकड़ों से बनायी विकास की राह

सर्व धर्म सद्भाव के असली प्रतीक हैं महान संत कबीरदास

सर्व धर्म सद्भाव के असली प्रतीक हैं महान संत कबीरदास

वीपी सिंह के इस फैसले से राजनीति में आये थे बुनियादी फर्क

वीपी सिंह के इस फैसले से राजनीति में आये थे बुनियादी फर्क

स्वाभिमानी राष्ट्रनायक थे महाराणा प्रताप, कभी झुके नहीं दूसरों को झुकाते रहे

स्वाभिमानी राष्ट्रनायक थे महाराणा प्रताप, कभी झुके नहीं दूसरों को झुकाते रहे

पाकिस्तान ही नहीं भारत में भी खूब मशहूर हैं मेहंदी हसन की गज़लें

पाकिस्तान ही नहीं भारत में भी खूब मशहूर हैं मेहंदी हसन की गज़लें

इसलिए आदिवासियों के बीच भगवान की तरह पूजे जाते हैं बिरसा मुंडा

इसलिए आदिवासियों के बीच भगवान की तरह पूजे जाते हैं बिरसा मुंडा

मुगलों की गुलामी से कराहते देश की उम्मीद की किरण बने थे शिवाजी

मुगलों की गुलामी से कराहते देश की उम्मीद की किरण बने थे शिवाजी

भारतीय गणितज्ञ, जिन्होंने आइंस्टीन के सिद्धांत का किया सरलीकरण

भारतीय गणितज्ञ, जिन्होंने आइंस्टीन के सिद्धांत का किया सरलीकरण

स्वतंत्र पत्रकारिता के जनक थे राजा राममोहन राय, समाज सुधार भी खूब किये

स्वतंत्र पत्रकारिता के जनक थे राजा राममोहन राय, समाज सुधार भी खूब किये

भले इस दुनिया में नहीं हैं राजीव गांधी पर उनके विचार आज भी जिंदा हैं

भले इस दुनिया में नहीं हैं राजीव गांधी पर उनके विचार आज भी जिंदा हैं

बाल उम्र से ही अदम्य साहस का परिचय देने लग गये थे महाराणा प्रताप

बाल उम्र से ही अदम्य साहस का परिचय देने लग गये थे महाराणा प्रताप

प्रखर राष्ट्रवादी के साथ मानवतावादी भी थे रवींद्रनाथ टैगोर

प्रखर राष्ट्रवादी के साथ मानवतावादी भी थे रवींद्रनाथ टैगोर

जानिये भीमराव अम्बेडकर के जीवन से जुड़ी बड़ी बातें और उनके सिद्धांत

जानिये भीमराव अम्बेडकर के जीवन से जुड़ी बड़ी बातें और उनके सिद्धांत

गणितीय जटिलताओं को प्रेमपूर्वक सुलझा देते थे के. चंद्रशेखरन

गणितीय जटिलताओं को प्रेमपूर्वक सुलझा देते थे के. चंद्रशेखरन

जाति आधारित विभाजन और भेदभाव के खिलाफ थे ज्योतिबा फुले

जाति आधारित विभाजन और भेदभाव के खिलाफ थे ज्योतिबा फुले

मधुर स्वर और भावपूर्ण गायिकी से दशकों तक राज किया किशोरी अमोनकर ने

मधुर स्वर और भावपूर्ण गायिकी से दशकों तक राज किया किशोरी अमोनकर ने