जिस तरह राहुल को कमान दी जा रही है वह लोकतांत्रिक नहीं

The way Rahul is being given command is not democratic
कांग्रेस के बारे में यह भी कहा जाने लगा है कि जब राहुल के हाथों में कमान आएगी तब वे ही लोग पार्टी को चलाएंगे जो राहुल गांधी के आसपास रहते हैं। ऐसे में कांग्रेस का भविष्य क्या होगा, इस पर आशंका के बादल उमड़ते दिखाई दे रहे हैं।

देश के सबसे पुराने राजनीतिक दल के रूप में पहचान रखने वाली कांग्रेस की आंतरिक स्थितियां वर्तमान में कुछ अच्छी दिखाई नहीं दे रहीं हैं। लम्बे समय से कुशल राजनीतिक नेतृत्व के अभाव से जूझ रही कांग्रेस पार्टी का वर्तमान कमोवेश नेतृत्वहीन-सा ही दिख रहा है। कांग्रेस के विरोध में पार्टी के अंदर ही उठ रहे स्वर पार्टी को सत्ता तक पहुंचाने के लिए अवरोध का काम ही कर रहे हैं। अभी हाल ही में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने कुछ ऐसा ही अवरोध स्थापित करने का काम किया है। पूर्व में इन्हीं मणिशंकर अय्यर ने नरेन्द्र मोदी को चाय वाला कहकर कांग्रेस को ऐसा झटका दिया कि मोदी को सत्ता मिल गयी। देश के सभी चाय वाले मोदी के साथ जुड़ते चले गए। इसलिए कहा जा सकता है कि मणिशंकर अय्यर ने एक प्रकार से भाजपा की जीत की राह आसान कर दी। कांग्रेस लगभग ऐसे ही हालातों से अब भी गुजर रही है। अंदर ही अंदर अपने ही लोग नेतृत्व पर सवाल उठा रहे हैं।

कुछ समय पूर्व मेरठ के कांग्रेस जिलाध्यक्ष विनय प्रधान को इसलिए पदच्युत कर दिया गया था कि उन्होंने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पप्पू कह दिया। इसी प्रकार बिहार के कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी को भी कुछ ऐसी ही स्थितियों का सामना करना पड़ा। अभी हाल ही में मणिशंकर अय्यर ने भी संकेतों में सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष मां या बेटा ही बन सकता है। इसका सीधा-सा आशय यह भी है कि यह पहले से ही तय है कि सोनिया या राहुल ही कांग्रेस प्रमुख रह सकते हैं। सवाल यह आता है कि ऐसे में कांग्रेस कौन से लोकतांत्रिक मूल्यों का पालन कर रही है।

अय्यर ने ऐसा बयान देकर वास्तव में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर ही सवाल उठाए हैं। संभवत: वह इस बात को जानते हैं कि राहुल गांधी राजनीतिक रूप से पूरी तरह से अपरिपक्व हैं। कांग्रेस में राहुल से वरिष्ठ कई नेता लम्बा राजनीतिक अनुभव रखते हैं, इसके बाद भी वरिष्ठ नेताओं को राहुल के बराबर महत्व नहीं दिया जा रहा है। कुछ ऐसा ही आशय प्रदर्शित करने वाला बयान पूर्व केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश ने भी दिया था। धरे धीरे ही सही आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को अपने भविष्य के प्रति चिन्ता होने लगी है। कांग्रेस पार्टी का वर्तमान और भविष्य उसके वरिष्ठ नेताओं के लिए कई प्रकार के प्रश्नचिह्न उपस्थित कर रहा है।

कांग्रेस में अपने जीवन का महत्वपूर्ण समय व्यतीत करने वाले नेताओं द्वारा गाहे बगाहे कहा जा रहा है कि कांग्रेस की कमान बहुत जल्दी विरासती पृष्ठभूमि से उपजे राजनेता राहुल गांधी को मिलने वाली है। इससे कांग्रेस के कुछ ऐसे नेता तो प्रसन्न दिखाई दे रहे हैं, जिन्हें अपनी क्षमताओं पर विश्वास नहीं हैं। देखा जाए तो ऐसे नेता कांग्रेस में बहुत हैं, जो संक्षिप्त मार्ग से पद और प्रतिष्ठा प्राप्त करने की लालसा रखते हैं, लेकिन जो नेता अपना राजनीतिक प्रभाव रखते हैं वे जरूर आत्म मंथन के दौर से गुजर रहे होंगे। कांग्रेस की भावी राजनीति के बारे में यह भी कहा जाने लगा है कि जब राहुल गांधी के हाथों में कमान आएगी तब वे ही लोग पार्टी को चलाएंगे जो राहुल गांधी के आसपास रहते हैं। ऐसे में कांग्रेस का भविष्य क्या होगा, इस पर आशंका के बादल उमड़ते दिखाई दे रहे हैं। जिस प्रकार से राहुल गांधी को कांग्रेस में नंबर एक पर विराजमान किया जा रहा है, कमोवेश उस तरीके को लोकतांत्रिक कतई नहीं माना जा सकता। केवल सोनिया गांधी के संकेत पर किए जाने सारे निर्णयों से यही बात सामने आती है कि कांग्रेस में सांघिकता का अभाव है। वहां महत्वपूर्ण निर्णयों में संगठन की भूमिका का कोई महत्व नहीं है। ऐसे में आज मणिशंकर अय्यर ने मुंह खोला है, भविष्य में कांग्रेस का अन्य कोई वरिष्ठ नेता मुंह खोल दे तो कोई बड़ी बात नहीं होगी।

सुरेश हिन्दुस्थानी

(लेखक वरिष्ठ स्तंभकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं।)

अन्य न्यूज़