Axelsen ने खत्म की Srikanth की चुनौती; माल्विका, आकर्षि भी हारे

Axelsen ends Srikanth challenge
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
श्रीकांत दूसरे गेम में एक समय 14-5 से आगे थे लेकिन वह इस बढ़त को बरकरार नहीं रख सके और दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी से 14-21 19-21 से हार गए। उनकी हार से यहां के स्टेडियम में मौजूद दर्शकों को काफी निराशा हुई। दर्शक दूसरे गेम में लगातार तालियां बजा कर उनके हौसले को बढ़ा रहे थे।

भारत के शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत खराब लय से उबरने में नाकाम रहे और योनेक्स-सनराइज इंडिया ओपन सुपर 750 टूर्नामेंट के अपने शुरुआती पुरुष एकल मैच में बुधवार को यहां ओलंपिक और विश्व चैंपियन विक्टर एक्सेलसेन से सीधे गेम में हार गये।  श्रीकांत दूसरे गेम में एक समय 14-5 से आगे थे लेकिन वह इस बढ़त को बरकरार नहीं रख सके और दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी से 14-21 19-21 से हार गए। उनकी हार से यहां के स्टेडियम में मौजूद दर्शकों को काफी निराशा हुई। दर्शक दूसरे गेम में लगातार तालियां बजा कर उनके हौसले को बढ़ा रहे थे।  

विश्व रैंकिंग में 39 स्थान पर काबिज आकर्षि और 34वें नंबर पर काबिज मालविका बंसोड़ को भी शुरुआती मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। आकर्षि को अमेरिका की बेईवेन झांग जबकि मालविका को थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरुंग ने शिकस्त दी। आकर्षि जहां पूर्व चैंपियन झांग से 15-21 12-21 से हारी, वहीं मालविका ने शुरुआती गेम में 11-8 की बढ़त गंवा दी और  दुनिया की 12वें नंबर की खिलाड़ी से 17-21 12-21 से हार गईं।

दर्शकों के समर्थन के साथ विश्व के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी श्रीकांत रैलियों पर हावी होने के साथ एक्सेलसेन की गलतियों  का फायदा उठा रहे थे। भारतीय खिलाड़ी की कोशिश एक्सेलसेन को नेट के सामने रखने की थी। एक्सेलसेन ने स्कोर 8-8 से बराबर होने के बाद ब्रेक से पहले लगातार तीन अंक बनाये। वो जब 13-9 से आगे थे तब उन्होंने गलत सर्विस की। श्रीकांत इस दौरान रैलियों में दमदार खेल दिख रहे थे लेकिन उसे सही से फिनिशिंग नहीं कर पा रहे थे।

श्रीकांत ने लगातार दो शॉट कोर्ट से बाहर खेले जिससे डेनमार्क के खिलाफ पहला गेम अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम में श्रीकांत ने आक्रामक शुरुआत की और स्मैश के दमदार इस्तेमाल से अपनी बढ़त को 5-1 तक ले गये। उन्होने दो और शानदार स्मैश लगाकर अपनी बढ़त को 8-3 किया। ब्रेक के समय भारतीय खिलाड़ी के पास सात अंक की बढ़त थी। श्रीकांत ने इसके बाद अपनी बढ़त को 14-6 की लेकिन फिर लय को बनाये रखने में नाकाम रहे। उन्होंने कई असहज गलतियां की जिससे उनके पास 15-13 की ही बढ़त रह गयी।

एक्सेलसेन ने इसके बाद स्कोर को 18-18 से बराबर किया और फिर दो मैच प्वाइंट हासिल कर मुकाबला जीत लिया। दिन के अन्य मैचों में दूसरी वरीयता प्राप्त ली जी जिया और डेनमार्क के एंडर्स एंटोनसेन ने अपने अपेक्षाकृत कमजोर प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ संघर्ष करने के बाद जीत दर्ज की। जापान के कोडाई नारोका सिंगापुर के तीसरी वरीयता प्राप्त लोह कीन यू के खिलाफ तीन गेम में हार गए। चोटों से जूझ रहे एंटोनसेन ने फ्रांस के टोमा जूनियर पोपोव को 18-21 21-19 21-13 से हराया।

जिया को इससे पहले  इंडोनेशिया के शेसार हिरेन रुस्तावितो खिलाफ 20-22 21-19 21-12 से जीत के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी। महिला एकल में, शीर्ष वरीयता प्राप्त जापान की अकाने यामागुची, दूसरी वरीयता प्राप्त दक्षिण कोरिया की एन से-यंग और चौथी वरीयता प्राप्त चीन की ही बिंगजियाओ बिना कोई गेम गंवाए दूसरे दौर में पहुंच गईं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़