विश्व कप में धोनी का खेलना जरूरी, रहे हैं शानदार कप्तान: युवराज

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Feb 8 2019 8:29PM
विश्व कप में धोनी का खेलना जरूरी, रहे हैं शानदार कप्तान: युवराज

वर्ष 2011 विश्व कप में प्लेयर आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज ने धोनी के बारे में कहा कि मुझे लगता है कि माही का क्रिकेट ज्ञान शानदार है और विकेटकीपर के तौर पर आप खेल पर निगाह लगाये रखने के लिये बेहतरीन जगह पर होते हो और उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में शानदार तरीके से यह काम किया है।

मुंबई। अनुभवी क्रिकेटर युवराज सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय टीम के विश्व कप में प्रदर्शन के मद्देनजर महेंद्र सिंह धोनी की मौजूदगी अहम है क्योंकि वह मौजूदा कप्तान विराट कोहली के लिये ‘मार्गदर्शक’ हैं और फैसले लेने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। फार्म को लेकर धोनी का टीम में स्थान विवाद का विषय बना हुआ है लेकिन पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर सहित अन्य ने कहा है कि मैच की परिस्थितियों में उनकी परख उन्हें टीम के लिये अहम बनाती है। वर्ष 2011 विश्व कप में प्लेयर आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज से जब धोनी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने यहां एक कार्यक्रम के इतर कहा, ‘मुझे लगता है कि माही (धोनी) का क्रिकेट ज्ञान शानदार है। और विकेटकीपर के तौर पर आप खेल पर निगाह लगाये रखने के लिये बेहतरीन जगह पर होते हो और उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में शानदार तरीके से यह काम किया है। वह शानदार कप्तान रहे हैं। वह युवा खिलाड़ियों और विराट (कोहली) का हमेशा मार्गदर्शन करते रहते हैं।’

इसे भी पढ़ें: कीवियों के खिलाफ कृणाल और रोहित ने दिलाई धमाकेदार जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

वर्ष 2007 में विश्व टी20 के दौरान एक ओवर में छह छक्के जड़ने वाले युवराज ने कहा, ‘इसलिये मुझे लगता है कि फैसले लेने के मामले में उनकी मौजूदगी काफी अहम है। आस्ट्रेलिया में उन्होंने टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया और उन्हें उसी तरह से गेंद हिट करते हुए देखना अच्छा है जैसे वह किया करते थे और मैं उन्हें शुभकामनायें देता हूं।’ धोनी को किस स्थान पर बल्लेबाजी करनी चाहिए, इस बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘इस बारे में आपको धोनी से पूछना चाहिए कि उन्हें किस नंबर पर बल्लेबाजी करनी चाहिए।’ युवराज आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिये खेलेंगे और उन्होंने कहा कि वह कप्तान रोहित शर्मा पर से दबाव कम करने की कोशिश करेंगे। उन्होंने यहां पत्रकारों से कहा, ‘मुझे लगता है कि अगर मैं मध्यक्रम में योगदान दे सकता हूं तो इससे उससे (रोहित) पर से कुछ दबाव कम हो जायेगा और वह पारी का आगाज करते हुए अपना नैसर्गिक खेल खेल सकता है। हम देखेंगे कि संयोजन कैसा रहता है।’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Story