ऑस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच ने टेस्ट क्रिकेट को लेकर किया बड़ा खुलासा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   11:33
ऑस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच ने टेस्ट क्रिकेट को लेकर किया बड़ा खुलासा

ऑस्ट्रेलिया की सीमित ओवरों के कप्तान आरोन फिंच किवह शायह फिर से टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल पाएंगे।फिंच ने कहा कि भारत में 2023 में होने वाला वनडे विश्व कप उनका आखिरी टूर्नामेंट हो सकता है।क्रिकेट.कॉम.एयू केअनुसार फिंच ने कहा, ‘जहां तक लाल गेंद वाली क्रिकेट का सवाल है तो मेरा फिर से टेस्ट क्रिकेट में खेलना वास्तविकता नहीं लगता है।

डर्बी।ऑस्ट्रेलिया की सीमित ओवरों के कप्तान आरोन फिंच ने स्वीकार किया कि उनका टेस्ट करियर खत्म हो गया है और उनका फिर से लंबी अवधि के प्रारूप में खेलना वास्तविकता से परे लगता है। आस्ट्रेलिया की टीम तीन वनडे और इतने ही टी20 मैच खेलने के लिये इंग्लैंड दौरे पर है। फिंच ने कहा कि वह आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में एक जगह के लिये अपना दावा करने के लिये प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पर्याप्त मैच नहीं खेल रहे हैं। फिंच ने कहा कि भारत में 2023 में होने वाला वनडे विश्व कप उनका आखिरी टूर्नामेंट हो सकता है। क्रिकेट.कॉम.एयू के अनुसार फिंच ने कहा, ‘‘जहां तक लाल गेंद वाली क्रिकेट का सवाल है तो मेरा फिर से टेस्ट क्रिकेट में खेलना वास्तविकता नहीं लगता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं दो बातों को ध्यान में रखकर ऐसा कह रहा हूं।

इसे भी पढ़ें: अश्वेतों पर पुलिस अत्याचार के विरोध में हटी नाओमी ओसाका, टूर्नामेंट रोका गया

पहला अपना दावा मजबूत करने के लिये जितने चार दिवसीय मैच खेलने चाहिए मैं उतने नहीं खेल रहा हूं और दूसरा युवा बल्लेबाज सामने आ रहे हैं। आस्ट्रेलिया में वास्तव में शीर्ष क्रम में कुछ बहुत अच्छे युवा बल्लेबाज हैं।’’ फिंच ने अपने करियर में केवल पांच टेस्ट मैच खेले जबकि वह अब तक 126 वनडे और 61 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘प्रतिभा की कमी नहीं है और इसलिए ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मेरे लिये कोई मौका है। ’’ यह 33 वर्षीय बल्लेबाज इंग्लैंड में काफी सफल रहा है। वह इंग्लैंड में वनडे में 1000 रन पूरे करने से केवल 28 रन दूर हैं। केवल रिकी पोंटिंग, एडम गिलक्रिस्ट और माइकल क्लार्क ने उनसे अधिक रन बनाये हैं। फिंच ने कहा, ‘‘मैं जब यहां क्लब खिलाड़ी के रूप में पहली बार आया था तब से ही मुझे यहां बल्लेबाजी करना पसंद है। मुझे लगता है कि टी20 में छह काउंटी सत्र में खेलने और कुछ चार दिवसीय मैचों में भाग लेने से मदद मिली।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।