FIFA World Cup 2022 : मैक्सिको से मैच से पहले मेस्सी और अर्जेंटीना पर बढ़ा दबाव, सऊदी अरब की हार बनी कारण

footballer lionel messi
ANI Image
पहले ही मैच में मिली हार से अर्जेंटीना के टूर्नामेंट में बने रहने पर खतरा मंडरा रहा है। मेक्सिको के खिलाफ होने मुकाबले में वापसी करने के लिये अर्जेंटीना की टीम काफी दबाव में होगी। टूर्नामेंट में बने रहने के लिए अर्जेंटीना को मेक्सिको को हराना जरुरी होगा वरना अर्जेंटीना शर्मनाक रूप से टूर्नामेंट से बाहर होगी।

दोहा। सऊदी अरब से फीफा विश्व कप के शुरूआती मैच में मिली 1-2 की शर्मनाक हार के बाद लियोनल मेस्सी और अर्जेंटीना का काफी मजाक बनाया जा रहा है जिससे टीम शनिवार को मेक्सिको के खिलाफ होने मुकाबले में वापसी करने के लिये काफी दबाव में होगी। पहले ही मैच में मिली हार से अर्जेंटीना के टूर्नामेंट में बने रहने पर खतरा मंडरा रहा है और अगर उसे अपनी उम्मीदों को बरकरार रखना है तो मेक्सिको के खिलाफ तुरंत वापसी करनी ही होगी। 

वर्ना उसे शर्मसार होकर टूर्नामेंट से बाहर होना होगा। दोहा में ‘फैन पार्क’ और सड़कों पर सऊदी अरबी में कह रहे हैं कि मेस्सी कहां हैं, हमने उसकी आंख फोड़ दी।’’जिसका स्थानीय में अर्थ है ‘किसी आदमी को शर्मसार करना’। मेस्सी ने कहा कि हमने हमेशा कहा है कि हम प्रत्येक मैच में जीतने की कोशिश करेंगे। और अब तो यह पहले से कहीं अधिक होगी। अर्जेंटीना के पूर्व खिलाड़ी और पूर्व कोच गेरार्डो मार्टिनो अब मेक्सिको के कोच हैं और वे प्रतिद्वंद्वी टीम को करारा झटका देने के लिये रणनीति तैयार कर रहे हैं। मार्टिनो ने 2014 से 2016 तक अपने देश अर्जेंटीना की अगुआई की, उन्हें लगातार कोपा अमेरिका के फाइनल में हार मिली जिसके बाद उन्होंने पद छोड़ दिया। अब वह कोच के तौर पर मेक्सिको को अंतिम 16 में पहुंचाने की कोशिश में जुटे हैं जिसके लिये वह अर्जेंटीना के खिलाफ कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहेंगे। 

मेक्सिको पिछले सात विश्व कप में से प्रत्येक में नॉकआउट चरण का अपना पहला मैच गंवाता रहा है जिसमें से 2006 और 2010 में दो बार उसे अर्जेंटीना से हार मिली है। पर इस बार दोनों टीमों की भिड़ंत ग्रुप चरण में हो रही है लेकिन टूर्नामेंट में अभी सात ही दिन हुए हैं और यह मुकाबला ‘करो या मरो’ का महसूस हो रहा है। और ऐसा विशेषकर अर्जेंटीना के लिये है। मार्टिनो ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि उनके (सऊदी अरब के खिलाफ) परिणाम से उनके खेलने के तरीके में बदलाव होगा। मेक्सिको ने ग्रुप सी में अपने पहले मैच में पोलैंड से 1-1 से ड्रा खेला था। 

अर्जेंटीना को निश्चित रूप से अपने खेलने के तरीके में कुछ बदलाव करना होगा। अर्जेंटीना के कोच के तौर पर लियोनेल स्कालोनी का यह पहला संकट होगा क्योंकि उन्हें मंगलवार को सऊदी अरब से मिली हार से पहले एक भी मैच में हार का सामना नहीं करना पड़ा था। यह देखना होगा कि वह किस तरह से प्रतिक्रिया करते हैं। क्या वह पिछले मैच में खेलने उतरे उन्हीं खिलाड़ियों को सुधार करने का मौका देंगे? या क्या उन्हें शुरूआती मैच में अपने लाइन अप में कुछ बदलाव की जरूरत होगी? सेंटर बैक क्रिस्टियन रोमेरो, फुल बैक नाहुएल मोलिना और निकोलास टैगेलियाफिको और मिडफील्डर रोड्रिगो डि पॉल और लिएंड्रो पारेडेस ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बाहर किया जा सकता है। 

निश्चित रूप से मेस्सी मैदान में उतरने वाले शुरूआती लाइनअप से कहीं नहीं जा सकते। स्कालोनी ने कहा कि इसमें कोई और विकल्प नहीं है, बस आगे बढ़ते रहना है। उन्होंने कहा कि हम उसी तरह से सोचना जारी रखेंगे। सऊदी अरब के खिलाफ मैच से पहले उन्होंने हमें प्रबल दावेदार बना दिया था लेकिन विश्व कप में ऐसी चीजें हो सकती हैं। आपको उन पहलुओं पर काम करना होता है जो अच्छे नहीं रहे। मेक्सिको की टीम विश्व कप में तीन प्रयासों में अर्जेंटीना को कभी हरा नहीं पायी है और मार्टिनो की मेक्सिको के कोच के तौर पर उससे सबसे बुरी शिकस्त सितंबर 2019 में मिली थी जब लॉटारो मार्टिनेज ने 4-0 की जीत में हैट्रिक लगायी थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़