फिनिशर की भूमिका मिलना बहुत अच्छा हैः हार्दिंक पंड्या

अभ्यास मैच में आखिरी ओवरों में 54 गेंदों पर नाबाद 80 रन की धुआंधार पारी खेलने वाले हार्दिंक पंड्या आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी में भारत के लिये फिनिशर की भूमिका निभाना चाहते हैं और उन्होंने कहा कि उन्हें यह ‘मुश्किल काम’ पसंद है।

लंदन। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से टिप्स लेकर बांग्लादेश के खिलाफ अभ्यास मैच में आखिरी ओवरों में 54 गेंदों पर नाबाद 80 रन की धुआंधार पारी खेलने वाले हार्दिंक पंड्या आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी में भारत के लिये फिनिशर की भूमिका निभाना चाहते हैं और उन्होंने कहा कि उन्हें यह ‘मुश्किल काम’ पसंद है। पंड्या ने मैच के बाद कहा, ‘‘फिनिशर की भूमिका मिलना बहुत अच्छा है। यह आसान नहीं है। आपको परिस्थितियों के अनुसार खेलना होता है। लेकिन इससे मेरा काफी आत्मविश्वास बढ़ा है और ऐसा करना मुझे पसंद है।’’ इस आलराउंडर ने 33वें ओवर में क्रीज पर कदम रखा और वह आखिर तक एक छोर पर टिके रहे। उन्होंने शुरू में क्रीज पर पांव जमाने में समय लगाया लेकिन बाद में अपने नैसर्गिक शाट खेले। पंड्या ने कहा, ‘‘यहां आते ही अपना नैसर्गिक खेल खेलना आसान नहीं है। परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाना जरूरी है। जब मैं बल्लेबाजी के लिये आया तो बादल छाये हुए थे और इसलिए मैंने जमने में थोड़ा समय लगाया। इंग्लैंड में क्रीज पर कुछ समय बिताने के बाद आप रन बना सकते हो। यही हमारी रणनीति थी और हमने ऐसा किया।’’

भारत ने चैंपियन्स ट्राफी में अपना पहला मैच पाकिस्तान के खिलाफ चार जून को बर्मिंघम में खेलना है और पंड्या ने कहा कि टीम पर इसका दबाव नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘हम इसे एक अन्य मैच की तरह ही ले रहे हैं। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ खेल खेलें।’’ पंड्या न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले अभ्यास मैच में गेंदबाजी में प्रभाव नहीं छोड़ पाये थे। इस बारे में उन्होंने कहा, ‘‘भारत की तुलना में यहां काफी भिन्नता है। मेरा मानना है कि भारतीय पिचों की लेंथ की तुलना में पहले मैच में मुझे थोड़ा अधिक फुललेंथ गेंद करनी चाहिए थी। भुवनेश्वर और उमेश यादव ने अच्छी गेंदबाजी की। वे यहां पहले भी खेल चुके हैं और जानते हैं कि किस लेंथ से गेंदबाजी करने से विकेट मिल सकते हैं।''

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़