लॉन बॉल में भारतीय लड़कियों ने रचा इतिहास, जूडो में दो पदक

Medal
प्रतिरूप फोटो
ANI
भारतीय टीम पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में महिला फोर्स प्रारूप के फाइनल में पहुंची है। लवली चौबे (लीड), पिंकी (सेकेंड), नयनमोनी सेकिया (थर्ड) और रूपा रानी टिर्की (स्किप) की भारतीय महिला फोर्स टीम मंगलवार को स्वर्ण पदक के मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका से भिड़ेगी। जीत के बाद टिर्की ने कहा ,‘‘ हम अपने जज्बात शब्दों में जाहिर नहीं कर सकते।

बर्मिंघम, 2 अगस्त। राष्ट्रमंडल खेलों में मंगलवार को भारत को अप्रत्याशित सफलता मिली जब लॉन बॉल में भारतीय महिलाओं की ‘गुमनाम’ चौकड़ी ने फाइनल में पहुंचकर ऐतिहासिक पदक पक्का कर लिया जबकि जूडो में भारत की झोली में दो पदक आये। भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने महिला फोर्स (चार खिलाड़ियों की टीम) स्पर्धा के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को 16-13 से हराया।

भारतीय टीम पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में महिला फोर्स प्रारूप के फाइनल में पहुंची है। लवली चौबे (लीड), पिंकी (सेकेंड), नयनमोनी सेकिया (थर्ड) और रूपा रानी टिर्की (स्किप) की भारतीय महिला फोर्स टीम मंगलवार को स्वर्ण पदक के मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका से भिड़ेगी। जीत के बाद टिर्की ने कहा ,‘‘ हम अपने जज्बात शब्दों में जाहिर नहीं कर सकते। हम एक टीम के रूप में लड़े और हमारा सफर यहीं खत्म नहीं होता।

हमें फाइनल में भी ऐसे ही खेलकर वह कर दिखाना है जो पहले कभी नहीं हुआ।’’ जूडो में दो पदक : भारतीय जूडो खिलाड़ी एल सुशीला देवी और विजय कुमार यादव ने क्रमश: महिलाओं के 48 किलो और पुरूषों के 60 किलो वर्ग में यहां रजत और कांस्य पदक अपने नाम किये। सुशीला को फाइनल में बेहद करीबी मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका की मिशेला वाइटबूइ ने 4.25 मिनट में हराया। चार मिनट के नियमित समय में दोनों जूडो खिलाड़ियों कोई अंक नहीं बना पाए थे।

वाइटबूट ने इसके बाद गोल्डन अंक जुटा कर मुकाबला जीत लिया। वहीं यादव ने साइप्रस के पेट्रोस क्राइस्टोडोलिडेस को इप्पोन से अंक जुटाकर मात दी। सुशीला ने ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेल 2014 में भी रजत पदक जीता था। यादव ने शानदार प्रदर्शन करते हुए विरोधी की गलतियों का पूरा फायदा उठाया और 58 सेकंड के भीतर ही जीत दर्ज कर ली। पुरूषों के 60 किलो रेपेशाज में यादव ने स्कॉटलैंड के डिनलान मुनरो को हराकर कांस्य पदक के मुकाबले में जगह बनाई थी।

वहीं जसलीन सिंह सैनी पुरूषों के 66 किलोवर्ग में कांस्य पदक का मुकाबला आस्ट्रेलिया के नाथन काज से हार गए। भारोत्तोलन में आज झोली रही खाली : दो दिन में पांच पदक जीतने के बाद भारोत्तोलन में भारत की झोली आज खाली रही। स्नैच में कम भार उठाने और क्लीन एवं जर्क में गलती का खामियाजा अजय सिंह (81 किग्रा) को उठाना पड़ा जब यह भारोत्तोलक पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा लेते हुए मामूली अंतर से कांस्य पदक जीतने से चूक गया।

पच्चीस साल के अजय पुरुषों की 81 किग्रा स्पर्धा में कुल 319 किग्रा (143 किग्रा और 176 किग्रा) वजन उठाकर चौथे स्थान पर रहे। मुक्केबाजी में आसान जीत : भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल ने पुरुषों के फ्लाइवेट (51 किग्रा) वर्ग में अपने अभियान की शुरुआत आसान जीत के साथ करते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह पक्की की। विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता पंघाल ने वानुअतु के नामरी बेरी को सर्वसम्मत फैसले से हराया। जीत के बाद उन्होंने कहा ,‘‘ मेरा विरोधी अच्छा था लेकिन मुझे जीतने में कोई दिक्कत नहीं आई।

मैं यहां स्वर्ण जीतने आया हूं। पिछली बार रजत जीता था लेकिन इस बार पदक बेहतर करना है।’’ फेदरवेट (54-57 किग्रा) मुक्केबाज हसमुद्दीन मोहम्मद ने भी लगातार दूसरी जीत के साथ क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। उन्होंने अंतिम 16 मुकाबले में बांग्लादेश के मोहम्मद सलीम हुसैन पर 5-0 की प्रभावशाली जीत दर्ज की। हॉकी में भारत ने गंवाया जीत का मौका : तीन गोल की बढत को गंवाकर भारत ने पुरूष हॉकी स्पर्धा में सोमवार को पूल बी के मैच में इंग्लैंड से 4 . 4 से ड्रॉ खेला।

भारतीय टीम ने शानदार शुरूआत की और पहले दो क्वार्टर में दबदबा बनाये रखा। हाफटाइम तक भारत के पास 3 . 0 की बढत थी। आखिरी दो क्वार्टर में इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने शानदार वापसी की। भारतीय खिलाड़ियों को मिले कार्ड का भी इंग्लैंड को फायदा हुआ। वरूण कुमार पहले हाफ में पांच मिनट और दूसरे हाफ में दस मिनट बाहर रहे जबकि गुरजंत सिंह को आखिरी क्वार्टर में खतरनाक खेल के लिये दस मिनट का निलंबन झेलना पड़ा।

भारत के लिये ललित उपाध्याय (तीसरा मिनट), मनदीप सिंह (13वां और 22वां) और हरमनप्रीत सिंह (46वां) ने गोल दागे। वहीं इंग्लैंड के लिये लियाम अंसेल (42वां), निक बेंडुराक (47वां और 53वां) और फिर रोपेर (50वां) ने गोल किये। स्क्वाश में मिले जुले नतीजे : भारत के शीर्ष स्क्वाश खिलाड़ी सौरव घोषाल पुरूष एकल सेमीफाइनल में पहुंच गए लेकिन जोशना चिनप्पा महिला एकल स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में कनाडा की होली नॉटन से हारकर बाहर हो गई।

दुनिया के 15वें नंबर के खिलाड़ी घोषाल ने स्कॉटलैंड के ग्रेग लेबोन को 11 . 5, 8 . 11, 11 . 7, 11 . 3 से हराया। अब उनका सामना न्यूजीलैंड के पॉल कोल से होगा। वहीं 18 बार की राष्ट्रीय चैम्पियन जोशना अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सकी और 9 . 11, 5 . 11, 13 . 15 से हार गई। जिम्नास्टिक में प्रणति पांचवें स्थान पर : भारत की प्रणति नायक राष्ट्रमंडल खेलों में कलात्मक जिम्नास्टिक स्पर्धा के महिला वॉल्ट फाइनल में पांचवें स्थान पर रहीं। एशियाई चैंपियनशिप (2019 और 2022) में दो बार कांस्य पदक जीतने वाली पश्चिम बंगाल की 27 साल की इस खिलाड़ी नेवॉल्ट के अपने पहले प्रयास में 13.633 और दूसरे में 11.766 का स्कोर किया।

यहां एरिना बर्मिंघम में आयोजित स्पर्धा में उनका औसत स्कोर 12.699 का रहा। साइकिलिंग में निराशा : भारतीय साइकिलिस्ट रोनाल्डो लैटनजम सोमवार को पुरुषों की 1000 मीटर टाइम ट्रायल स्पर्धा के फाइनलमें एक मिनट 02.500 सेकंड के समय के साथ 12वें स्थान पर रहे। रोनाल्डो रविवार को पुरुषों की स्प्रिंट स्पर्धा के प्री-क्वार्टर फाइनल में भी ग्लेट्जर से हार गए थे। महिलाओं के कीरेन स्पर्धा के पहले दौर में त्रियशा पॉल, शशिकला अगाशे और मयूरी लुटे को पहले दौर के मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। तैराकी में साजन फिर नाकाम : भारत के स्टार तैराक साजन प्रकाश का राष्ट्रमंडल खेलों में अभियान खत्म हो गया जब वह सोमवार को यहां पुरुष 100 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा के सेमीफाइनल में जगह बनाने में नाकाम रहे। अनुभवी साजन 54.36 सेकेंड के समय के साथ अपनी हीट में सातवें और कुल 19वें स्थान पर रहे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़