• ओलंपिक क्वालीफायर से हटी भारतीय जूडो टीम, पृथकवास से गुजर रही पूरी टीम

भारतीय जूडो टीम दो खिलाड़ियों के कोविड पॉजिटिव होने के बाद ओलंपिक क्वालीफायर से हट गई है।सभी 12 जुडोका और चार कोच किर्गिस्तान पहुंचने के बाद हुए पहले परीक्षण में नेगेटिव पाए गए थे। भारत का पूरा 16 सदस्यीय दल अभी बिशकेक में एक होटल में पृथकवास से गुजर रहा है।

नयी दिल्ली। भारत की 12 सदस्यीय जूडो टीम को किर्गिस्तान के बिशकेक में चल रहे एशिया-ओसियाना ओलंपिक क्वालीफायर से बाहर होने को बाध्य होना पड़ा जब टूर्नामेंट की शुरुआत से ठीक पहले उसके दो खिलाड़ी अजय यादव और रितु कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए। किर्गिस्तान में पहुंचने के बाद दूसरे परीक्षण में यादव (73 किग्रा) और रितु (52 किग्रा) को पॉजिटिव पाया गया और दोनों में ही लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। यह पहला मौका है जब इस घातक संक्रमण में कारण भारतीय टीम का ओलंपिक क्वालीफायर अभियान पटरी से उतर गया। सभी 12 जुडोका और चार कोच किर्गिस्तान पहुंचने के बाद हुए पहले परीक्षण में नेगेटिव पाए गए थे। भारत का पूरा 16 सदस्यीय दल अभी बिशकेक में एक होटल में पृथकवास से गुजर रहा है।

इसे भी पढ़ें: TOPS में शामिल हुई भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ,साइ ने दी जानकारी

टीम के कोच जीवन शर्मा ने बिशकेक से कहा, ‘‘चार अप्रैल को किर्गिस्तान पहुंचने के बाद परीक्षण किया गया और सभी नेगेटिव पाए गए। लेकिन पांच अप्रैल को टूर्नामेंट की शुरुआत से ठीक पहले हुए दूसरे परीक्षण में अजय और रितु पॉजिटिव आए। ’’ उन्होंने बताया, ‘‘अजय और रितु में लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं और वे अपने अपने कमरों में पृथकवास में हैं। उनका मनोबल बढ़ा हुआ है और हम फोन के जरिए उनके बात करके उनका हौसला बढ़ा रहे हैं।’’ एशिया-ओसियाना चैंपियनशिप बिशकेक में मंगलवार को शुरू हुई और शनिवार को खत्म होगी। टूर्नामेंट के नियमों के अनुसार एक भी खिलाड़ी के पॉजिटिव पाए जाने पर पूरी टीम को प्रतियोगिता से हटना होगा। टीम में सुशीला देवी (महिला 48 किग्रा), जसलीन सिंह सैनी (पुरुष 66किग्रा), तुलिका मान (महिला 78 किग्रा) और अवतार सिंह (पुरुष 100 किग्रा) जैसे खिलाड़ी शामिल थे। ये चारों एक महाद्वीपीय कोटे की दौड़ में थे। कोच ने कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि दोनों अगले कुछ दिनों में नेगेटिव आ जाएंगे।’’

इसे भी पढ़ें: क्या कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी से टी20 विश्व कप पर पड़ेगा असर? ICC ने बताया बैकअप प्लान

बाकी दल भी बिशकेक के उसी होटल में पृथकवास से गुजर रहा है और टीम प्रबंधन यहां भारतीय दूतावास से सहायता मांग रहा है। कोच ने कहा, ‘‘हम भारतीय खेल प्राधिकरण और यहां भारतीय दूतावास से बात कर रहे हैं। हम आग्रह कर रहे हैं कि नेगेटिव पाए गए कुछ सदस्यों को स्वदेश लौटने की स्वीकृति दी जाए। बेशक अन्य दो खिलाड़ियों की देखभाल भी करनी होगी। हमें एक या दो दिन में इस बारे में पता चलेगा।’’ इससे पहले भारतीय जूडो महासंघ (जेएफआई) के एक सूत्र ने खिलाड़ी के पॉजिटिव पाए जाने की पुष्टि की। सूत्र ने कहा, ‘‘पूरा दल अब बिशकेक में 14 दिन पृथकवास में रहेगा।’’ सूत्र ने इस सभी समस्या के लिए जेएफआई के कुप्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि महासंघ ने पूरे दल को एक साथ यात्रा कराकर देश की संभावनाओं को नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा, ‘‘चार कोच सहित पूरी टीम एक साथ बिशकेक गई जिससे बचा जा सकता था। पूरी टीम ने एक साथ यात्रा की और वहां पहुंचने पर एक खिलाड़ी पॉजिटिव आया तो इससे अन्य खिलाड़ियों की उम्मीदें भी टूट गईं। इससे बचा जा सकता था।’’ जीवन शर्मा ने कहा कि भारतीय जुडोकाओ को ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने के दो और मौके मिलेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मई में रूप में एक ग्रां प्री प्रतियोगिता होगी और इसके बाद हंगरी में जून में विश्व चैंपियनशिप होगी। हमारे पास अब भी मौका है। लेकिन हमारे पास सभी वजन वर्गों में सिर्फ एक कोटा स्थान होगा और जो भी सर्वाधिक अंक बनाएगा उसे एकमात्र कोटा स्थान मिलेगा।