इंग्लैंड दौरे से पहले भारत की पुरुष और महिला टीमों का कड़ा क्वांरटीन शुरू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2021   15:49
इंग्लैंड दौरे से पहले भारत की पुरुष और महिला टीमों का कड़ा क्वांरटीन    शुरू

इंग्लैंड दौरे से पहले भारत की पुरुष और महिला टीमों का कड़ा पृथकवास शुरू हो गया है।सभी खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के आरटी पीसीआर के तीन परीक्षण नेगेटिव आने के बाद दोनों टीमों के दो जून को इंग्लैंड रवाना होने की संभावना है।

मुंबई। भारतीय कप्तान विराट कोहली, उप कप्तान रोहित शर्मा और मुख्य कोच रवि शास्त्री भी मंगलवार को इंग्लैंड के दौरे पर जाने वाली टीम के लिये तैयार किये जैव सुरक्षित वातावरण (बायो बबल) में शामिल हो गये। इसके साथ ही भारत की पुरुष और महिला टीमों का आठ दिन का कड़ा पृ​थकवास भी शुरू हो गया। भारतीय महिला टीम की सदस्यों ने भी मुंबई में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के करीब स्थि​त ग्रैंड हयात में आठ दिन के कड़े पृथकवास में प्रवेश कर लिया है। सभी खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के आरटी पीसीआर के तीन परीक्षण नेगेटिव आने के बाद दोनों टीमों के दो जून को इंग्लैंड रवाना होने की संभावना है।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 से प्रभावित लोगों को ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर देगा पंजाब किंग्स

भारतीय पुरुष टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 जून से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेलना है। इसके बाद टीम इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलेगी। महिला टीम को इंग्लैंड के खिलाफ एक टेस्ट, तीन वनडे और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं। महिला टीम अपना अभियान 16 जून से शुरू करेगी। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के सूत्रों ने बताया, ऋद्धिमान साहा और प्रसिद्ध कृष्णा कोविड—19 से पूरी तरह उबरने पर दो दिन बाद बायो बबल में आएंगे। मुंबई में रहने वाले खिलाड़ी जैसे विराट, रोहित और कोच शास्त्री बायो बबल में चले गये हैं।

इसे भी पढ़ें: कोविड नियमों का उल्लंघन करने पर PCB ने नसीम शाह को PSL से ​किया बाहर

पता चला है कि खिलाड़ियों के परिवारों को अभी तक मंजूरी नहीं मिली है लेकिन बीसीसीआई को उम्मीद है कि जल्द ही ऐसा हो जाएगा। सूत्रों ने कहा, हम खिलाड़ियों को तीन महीने तक अपने परिवारों से दूर नहीं रख सकते हैं और वह भी बायो बबल में। यह मानसिक स्वा​स्थ्य के लिये भी अच्छा नहीं है। टीमों के इंग्लैंड पहुंचने पर पृथकवास की अवधि को लेकर अब भी बातचीत चल रही है। इस अवधि को कम किया जा सकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।