खेल मंत्री रीजीजू ने कहा, लॉस एंजिल्स ओलंपिक पदक तालिका में भारत टॉप 10 में रहेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2020   20:15
खेल मंत्री रीजीजू ने कहा, लॉस एंजिल्स ओलंपिक पदक तालिका में भारत टॉप 10 में रहेगा

खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने कहा कि लॉस एंजिल्स ओलंपिक पदक तालिका में भारत शीर्ष 10 में रहेगा।उन्होंने कहा, ‘‘ हम देश को खेलों का महाशक्ति बनने के हर भारतीय के सपने को पूरा करने पर काम कर रहे हैं।’’रीजीजू ने कहा कि प्रतिभाशाली युवाओं को विश्व चैंपियन बनाने के लिए विश्व स्तरीय कोचिंग सुविधा प्रदान की जा रही हैं।

नयी दिल्ली। खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने सरकार के महत्वाकांक्षी ‘टारगेट ओलंपिक पोडियम जूनियर स्कीम’ का हवाला देते हुए शनिवार को कहा कि भारत 2028 लॉस एंजिल्स ओलंपिक की पदक तालिका में शीर्ष 10 में जगह बनाने में सफल रहेगा। रीजीजू ने कहा, ‘‘हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।’’ उन्होंने कहा कि ‘टारगेट ओलंपिक पोडियम जूनियर स्कीम’ में 10 -12 साल की उम्र के बच्चों के प्रतिभा को विकसित किया जा रहा है जिससे उन्हें लॉस एंजिल्स खेलों के लिए तैयार किया जा सके। वह ‘इंडिया टुडे माइंडरॉक्स’ कार्यक्रम के दौरान आने वाले वर्षों में भारत के उद्देश्यों और लक्ष्यों के बारे में बता रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘ हम देश को खेलों का महाशक्ति बनने के हर भारतीय के सपने को पूरा करने पर काम कर रहे हैं।’’ रीजीजू ने कहा कि प्रतिभाशाली युवाओं को विश्व चैंपियन बनाने के लिए विश्व स्तरीय कोचिंग सुविधा प्रदान की जा रही हैं।

इसे भी पढ़ें: चीन में ब्राजीली फुटबॉलर को देना पड़ सकता है भारी जुर्माना, कोरोना के नियमों का किया उल्लंघन

उन्होंने कहा, ‘‘ हमारा उद्देश्य बहुत स्पष्ट हैं, हमने ‘टारगेट ओलंपिक पोडियम जूनियर स्कीम’ बनाई है। इसका मतलब है कि हम 10-13 वर्ष की आयु के बच्चों को2028 लॉस एंजिल्स ओलंपिक तक विश्व चैंपियन बनने के लिए तैयार होंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इस योजना को शुरू करके हम युवा प्रतिभाओं की पहचान कर रहे हैं। यह कम उम्र में प्रतिभाओं की पहचान करने और विश्व स्तर के कोचों की निगरानी में उनके प्रशिक्षण की पूरी जिम्मेदारी लेने की प्रक्रिया में है।’’ रीजीजू ने कहा कि हमने भारतीय कोचों द्वारा एलीट एथलीटों को प्रशिक्षण देने पर वेतन की ऊपरी सीमा दो लाख रुपये को हटाने की घोषणा की है जिससे वे प्रोत्साहित हो सकें। उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने कई विदेशी कोचों के अनुबंध को आगे बढ़ा दिया है और भारतीय कोचों के लिए वेतन की ऊपरी सीमा दो लाख रुपये को हटा दिया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमारा लक्ष्य 2028 ओलंपिक तक देश पदक तालिका में शीर्ष 10 में जगह दिलाना है। मैं इसे लेकर स्पष्ट हूं। हमने उसके लिए योजना बनाकर उसका क्रियान्वयन शुरू कर दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।