गोल्ड मेडलिस्ट गीता फोगाट बोलीं, बाहरी सुंदरता के लिए अंदरूनी ताकत जरूरी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Feb 2 2019 3:05PM
गोल्ड मेडलिस्ट गीता फोगाट बोलीं, बाहरी सुंदरता के लिए अंदरूनी ताकत जरूरी
Image Source: Google

पहलवान गीता फोगाट ने कहा कि मैं पहली बार रैम्प पर चलीं। कुश्ती के मैदान में उतरने से अधिक यहां डर लगा। यह अच्छा अनुभव था। कई ताकतवर और प्रेरणादायक लोगों से मिलना अच्छा अनुभव था।

मुम्बई। पहलवान गीता फोगाट का मानना है कि एक महिला केवल स्वस्थ और ताकतवर होने पर ही सुंदर दिख सकती है। राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली गीता शुक्रवार को ‘लैक्मे फैशन वीक समर/रिजॉर्ट 2019’ में डिजाइनर रीना सिंह के लेबल 'इक्का' के लिए रैम्प पर चलीं। पहली बार रैम्प वॉक करने वाली गीता ने कहा, ‘मैं पहली बार रैम्प पर चलीं। कुश्ती के मैदान में उतरने से अधिक यहां डर लगा। यह अच्छा अनुभव था। कई ताकतवर और प्रेरणादायक लोगों से मिलना अच्छा अनुभव था।’

इसे भी पढ़ें: विनेश फोगाट को मिली जीती, मुंबई महारथी को चखना पड़ा हार का स्वाद

उन्होंने कहा कि अंदरूनी ताकत सबसे जरूरी है। अगर आप अंदर से मजबूत नहीं हैं तो बाहर से सुंदर नहीं दिख सकते। मेरे यहां आने का लक्ष्य यह संदेश देना ही था। भारत की सुंदर ताकतवर महिलाओं के सम्मान में आयोजित शो में विभिन्न क्षेत्रों की 11 महिलाएं शो स्टॉपर थीं। गीता फोगाट के अलावा तिलोत्तमा शोम, सयानी गुप्ता, थिएटर कलाकार आइशा सैयद और शेफ सारा टॉड भी यहां शो स्टॉपर थीं। ‘मानसून वेडिंग’ की अदाकारा तिलोत्तमा शोम भी रीना सिंह के लिए यहां रैम्प पर चलीं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप