CWG 2022 में गोल्ड जीतने वाले पाकिस्तानी एथलीट बोले- “मेरे पाकिस्तान से ज्यादा भारत में फैंस हैं”

Muhammad Nooh Dastgir Butt
Twitter @nooh_dastgir
निधि अविनाश । Aug 05, 2022 2:35PM
24 साल के पाकिस्तान एथलीट बताते है कि उन्होंने तीनों खेलों में अपना रिकॉर्ड बनाया है। इस साल हो रहे कॉमनवेल्थ गेम में बट ने कुल 405 किग्रा का वजन उठाकर नया रिकॉर्ड सेट किया और गोल्ड अपने नाम किया। वहीं भारत के गुरदीप सिंह ने इसी में ब्रॉन्ज मेडल जीता है।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में पाकिस्तान के लिए पहला गोल्ड जीतने वाले वेटलिफ्टर नूह दस्तगीर बट ने पदक जीतने के बाद मीडिया से बातचीत की। बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि वह अंतरराष्ट्रीय खेलों के लिए दो बार भारत आ चुके हैं। पहली बार पुणे में यूथ कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान और दूसरी बार गुवाहाटी में हुए साउथ एशियन गेम्स के दौरान।

इसे भी पढ़ें: CWG 2022: 8वें दिन कुश्ती में गोल्ड जीतने की उम्मीद से उतरेंगे बजरंग, इन खेलों में पदकों की उम्मीद

24 साल के पाकिस्तान एथलीट बताते है कि उन्होंने तीनों खेलों में अपना रिकॉर्ड बनाया है। इस साल हो रहे कॉमनवेल्थ गेम में बट ने कुल 405 किग्रा का वजन उठाकर नया रिकॉर्ड सेट किया और गोल्ड अपने नाम किया। वहीं भारत के गुरदीप सिंह ने इसी में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। बट भारत के गुरदीप सिंह को अपना काफी अच्छा दोस्त बताते हैं। बट ने पीटीआई को दिए एक बयान में बताया कि "मैं दो बार भारत आ चुका हूं और हर बार मुझे जो समर्थन मिला वह यादगार है। मैं फिर से भारत वापस जाने के लिए तरस रहा हूं"। बता दें कि बट ने मजाक-मजाक में ही ये बता दिया कि पाकिस्तान से ज्यादा उनके भारत में फैंस हैं।
 
पाकिस्तानी एथलीट गुवाहाटी-शिलांग में दक्षिण एशियाई खेलों के लिए भारत आए थे। उन्होंने अपने भारत दौरे को याद करते हुए कहा कि "मैं फिर से भारत का दौरा करने के लिए उत्सुक हूं। मैंने कभी भी किसी अन्य प्रतियोगिता का आनंद नहीं लिया, जिस तरह से भारत में किया था"।

इसे भी पढ़ें: एथलीट बनने के लिए पिता के सामने की थी भूख हड़ताल, Athletics Championship में रूपल चौधरी ने झटका कांस्य पदक

पाकिस्तानी एथीलट को ट्रेनिंग उनके पिता सह कोच गुलाम बट से मिली है। जानकारी के लिए बता दें कि इस साल हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में पाकिस्तान की झोली में केवल 2 ही गोल्ड आए है। बट के पिता और सह कोच भी पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन और दक्षिण एशियाई खेलों के पदक विजेता रह चुके है। गोल्ड विजेता बट ने आगे कहा कि "मुझसे बहुत उम्मीदें थीं क्योंकि हमारे कई साथी एथलीट जीत नहीं सके।मेरे कंधों पर मेरे देश को राष्ट्रमंडल खेलों में पहला स्वर्ण पदक दिलाने की जिम्मेदारी थी"।

अन्य न्यूज़