कतर 2032 ओलंपिक और पैरालंपिक की मेजबानी के लिए बोली लगाने को तैयार, 2020 में करेगा FIFA की मेजबानी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   18:40
कतर 2032 ओलंपिक और पैरालंपिक की मेजबानी के लिए बोली लगाने को तैयार, 2020 में करेगा FIFA की मेजबानी

कतर 2022 में फीफा विश्व कप की मेजबानी करेगा।कतर ओलंपिक समिति के अध्यक्ष शेख जोआन बिन हमद बिन खलीफाअल-थानी ने एक बयान में कहा, ‘आज की घोषणा के साथ ही आईओसी की भविष्य मेजबानी आयोग के साथ सार्थक बातचीत की शुरुआत हुई।इससे यह भी पता चलेगा कि ओलंपिक खेल कतर के दीर्घकालिक विकास लक्ष्यों का समर्थन कैसे कर सकते हैं।

दोहा। कतर ने 2032 ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों की मेजबानी करने की इच्छा जताते हुए अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी)को एक पत्र लिख कर इसकी जानकारी दी है। प्राकृतिक गैस भंडार के लिए मशहूर इस खाड़ी देश की कोशिश दुनिया के सबसे बड़े खेलों को पहली बार पश्चिम-एशिया में कराने की है। कतर 2022 में फीफा विश्व कप की मेजबानी करेगा। कतर ओलंपिक समिति के अध्यक्ष शेख जोआन बिन हमद बिन खलीफा अल-थानी ने एक बयान में कहा, ‘‘ आज की घोषणा के साथ ही आईओसी की भविष्य मेजबानी आयोग के साथ सार्थक बातचीत की शुरुआत हुई। इससे यह भी पता चलेगा कि ओलंपिक खेल कतर के दीर्घकालिक विकास लक्ष्यों का समर्थन कैसे कर सकते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ कई वर्षों तक हमारे देश के विकास में खेल का बहुत बड़ा योगदान रहा है। यह शांति और संस्कृति के आदान-प्रदान को बढ़ावा देने के लिए खेल का उपयोग करने की हमारी इच्छा को दर्शाता है।

इसे भी पढ़ें: 'इंग्लैंड दौरे पर महिला टीम को नहीं भेजने का फैसला BCCI की लापरवाही नहीं'

हमारे पहले के अच्छे रिकार्ड और अनुभव आयोग के साथ हमारी चर्चा का आधार बनेगा।’’ ओलंपिक का आयोजन आम तौर पर जुलाई-अगस्त के महीने में होता है लेकिन इस मौसम में कतर में काफी गर्मी होती है। गर्मी के कारण ही फीफा ने विश्व कप को जून-जुलाई की जगह नवंबर-दिसंबर 2022 में कराने का फैसला किया है। कतर ने पिछले साल विश्व ट्रैक एवं फील्ड चैम्पियनशिप का आयोजन सितंबर अक्टूबर में आउटडोर स्टेडियम में एयर कंडीशन के इस्तेमाल के साथ किया था। अगले ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की मेजबानी 2021 में तोक्यो के पास है जबकि इनका आयोजन 2024 में पेरिस और 2028 में लॉस एंजिल्स में होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।