मुक्केबाज मैरी कॉम की पोशाक को लेकर हुए विवाद पर नियमों की होगी पड़ताल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   17:36
मुक्केबाज मैरी कॉम की पोशाक को लेकर हुए विवाद पर नियमों की होगी पड़ताल

ओलंपिक में कुछ भारतीय मुक्केबाजों की पोशाक पर उनका नाम और देश का नाम नहीं होने पर विवाद हुआ जिसमें दिग्गज एमसी मैरी कॉम ने भी आरोप लगाया था कि आयोजकों से उचित स्पष्टीकरण के बिना उनके अंतिम -16 मुकाबले से कुछ मिनट पहले पोशाक बदलने पर मजबूर कर दिया था।

तोक्यो। ओलंपिक में कुछ भारतीय मुक्केबाजों की पोशाक पर उनका नाम और देश का नाम नहीं होने पर विवाद हुआ जिसमें दिग्गज एमसी मैरी कॉम ने भी आरोप लगाया था कि आयोजकों से उचित स्पष्टीकरण के बिना उनके अंतिम -16 मुकाबले से कुछ मिनट पहले पोशाक बदलने पर मजबूर कर दिया था। मैरीकॉम गुरुवार को और फिर लवलीना बोरगोहेन शुक्रवार को जब रिंग में उतरीं तो उनकी पोशाक के पीछे ना तो उनका नाम था ना ही देश का नाम।  

इसे भी पढ़ें: Gyan Ganga: धृतराष्ट्र के मन में महाभारत युद्ध के परिणाम के प्रति शुरू में ही क्यों हो गया था संदेह?

प्री-क्वार्टर फाइनल मैच में अपने मुकाबले को 2-3 से गंवाने के बाद मैरीकॉम ने पीटीआई-से कहा था , ‘‘ यह थोड़ा परेशान करने वाला था कि उन्होंने मुझे बाउट से ठीक पांच मिनट पहले ड्रेस बदलने के लिए कहा। उस समय दरअसल, मेरे नाम की घोषणा हो चुकी थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मेरा मानना है कि मुझे परेशान करने के लिए यह जानबूझकर की गई कार्रवाई थी। मैंने पहले राउंड के मैच को इसी तरह के कपड़े में जीत दर्ज की थी। वहां भी मेरा नाम मैरीकॉम और भारत लिखा था। ’’ भारतीय मुक्केबाजी के हाई परफार्मेंस निदेशक सैंटियागो नीएवा के साथ बातचीत और अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के नियमों को देखने के बाद इस विवाद की जड़ के बारे में पता चला। नीएवा ने कहा, ‘‘ मुक्केबाजों को अपने उपनाम या दिए गए नाम को पोशाक पर इस्तेमाल करने की अनुमति है। ऐसे में अगर उसके पीठ पर कॉम होता, तो कोई समस्या नहीं होती या सिर्फ मांगटे भी ठीक था।’’

इसे भी पढ़ें: तोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का जलवा जारी, जापान को 5-3 से दी मात

उन्होंने कहा, ‘‘ उसे मैरीकॉम लिखे कपड़े को पहनने की इजाजत नहीं थी। लवलीना के साथ भी ऐसा ही हुआ। उसके कपड़े पर भी पूरे नाम की जगह बोरगोहेन होना चाहिये था। नीएवा ने कहा, ‘‘ इसमें कोई बड़ी समस्या नहीं है। हमने लवलीना के लिए नयी ड्रेस मंगाई है। वह सेमीफाइनल में उसे ही पहनेगी।’’ मैरीकॉम की शिकायत यह थी कि उन्हें बिना करण बताये ही मुकाबले से ठीक पहले कपड़े को बदलने पर मजबूर किया गया। नीएवा ने कहा कि यह टीम के तौर पर यह बड़ा मुद्दा नहीं हैं उन्होंने कहा, ‘‘देखिये, जब तक आपको रिंग में उतरने से रोका नहीं जा रहा है तब तक कोई समस्या नहीं है। ’’ ड्रेस को लेकर पर आईओसी के नियम कहते हैं कि ‘एथलीट का नाम (पारिवारिक नाम) ड्रेस के पीछे (पीठ पर) लिखा जा सकता है’ और राष्ट्रीय ध्वज या राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रतीक को ‘बनियान, शॉर्ट्स और स्कर्ट पर तय जगह पर इस्तेमाल की अनुमति है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।