Commonwealth Games 2022: जूडो के 48 किलोग्राम में सुशीला देवी को रजत पदक, विजय कुमार ने जीता कांस्य

sushila and vijay
Twitter @ Narendra Modi
अंकित सिंह । Aug 01, 2022 10:23PM
सुशीला देवी ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए अपना दम दिखाया है। इसके साथ ही भारत का इस बार का यह सातवा पदक है। वहीं तीसरा रजत पदक है। सुशीला देवी से पहले बिंदियारानी देवी और संकेत ने वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीता था।

कॉमनवेल्थ गेम्स में आज एक बार फिर से भारत ने अपना दम दिखाया है। भारत की सुशीला देवी ने जूडो में रजत पदक अपने नाम किया है। सुशीला देवी को फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। सुशीला देवी को जूडो के 48 किलोग्राम में रजत पदक हासिल हुआ है। वहीं, भारतीय जुडोका विजय कुमार ने पुरुषों की 60 किग्रा स्पर्धा में साइप्रस के पेट्रोस क्रिस्टोडौलाइड्स को हराकर कांस्य पदक जीता।सुशीला देवी ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए अपना दम दिखाया है। इसके साथ ही भारत का इस बार का यह सातवा पदक है। वहीं तीसरा रजत पदक है। सुशीला देवी से पहले बिंदियारानी देवी और संकेत ने वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीता था। 

इसे भी पढ़ें: CWG 2022: अचिंता शेउली ने रचा स्वर्णिम इतिहास, फाइनल में पहुंची भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम

भारत की सुशीला देवी लिकाबम ने राष्ट्रमंडल खेलों की जूडो स्पर्धा के महिला 48 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता। फाइनल में सुशीला देवी का मुकाबला दक्षिण अफ्रीका की मिशेला वाइटबूइ से था। व्हीबोई ने सुशीला देवी को आर्म लॉक में फंसा कर नीचे गिरा दिया। सुशीला देवी खुद को छुड़ाने के लिए लगातार संघर्ष करती रही। लेकिन मैच रेफरी ने बाद में अफ्रीकी खिलाड़ी को विजेता घोषित कर दिया। सुशीला ने ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेल 2014 में भी रजत पदक जीता था। सुशीला ने इससे पहले सेमीफाइनल में मॉरीशस की प्रिसिला मोरांड को इप्पोन को शिकस्त देकर अपना पदक पक्का किया था। उन्होंने क्वार्टर फाइनल में मालावी की हैरियट बोनफेस को हराया था। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि शुशीला देवी लिकमबम द्वारा असाधारण प्रदर्शन से उत्साहित हूं। रजत पदक जीतने पर उन्हें बधाई। उन्होंने उल्लेखनीय कौशल और लचीलापन का प्रदर्शन किया है। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं। विजय कुमार यादव के लिए मोदी ने लिखा कि उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में जूडो में कांस्य पदक जीता है और देश को गौरवान्वित किया है। उनकी सफलता भारत में खेलों के भविष्य के लिए शुभ संकेत है। वह आने वाले समय में सफलता की नई ऊंचाइयों को छूते रहें। 

अन्य न्यूज़