श्रीसंत पर लगा आजीवन प्रतिबंध हटा, कोर्ट ने कहा- BCCI करे पुनर्विचार

By निधि अविनाश | Publish Date: Mar 15 2019 2:21PM
श्रीसंत पर लगा आजीवन प्रतिबंध हटा, कोर्ट ने कहा- BCCI करे पुनर्विचार
Image Source: Google

ये फैसला जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने स्पॉट फिक्सिंग मामले में अपना फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई को श्रीसंत को दी जाने वाली सजा की मात्रा पर तीन महीने के भीतर पुन: विचार करने का आदेश दिया है।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की अनुशासनात्मक समिति के आदेश को खारिज करते हुए उन्हें स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से मुक्त कर दिया है। ये फैसला जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने स्पॉट फिक्सिंग मामले में अपना फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई को श्रीसंत को दी जाने वाली सजा की मात्रा पर तीन महीने के भीतर पुन: विचार करने का आदेश दिया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले का स्वागत किए हुए श्रीसंत बेहद खुश नजए आए। इसी के साथ उन्होंने कहा कि क्रिकेट में वापसी के लिए अब वह पूरी तरह तैयार हूं। वहीं, दिल्ली पुलिस ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में शामिल श्रीसंत समेत सभी आरोपियों को बरी करने के निचली अदालत के फैसले को दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती दे रखी है।  



इसे भी पढ़ें: रोहित शर्मा वनडे में 8000 रन पूरे करने वाले नौवें भारतीय

सुप्रीम कोर्ट के दिए गए आदेश के अनुसार श्रीसंत अब बीसीसीआई की अनुशासनात्मक समिति के सामने अपना पक्ष रख सकते है। हालांकि, अदालत ने श्रीसंत की इस दलील को खारिज कर दिया कि उन्हें स्पॉट फिक्सिंग मामले में बरी होने के बाद सजा नहीं दी जानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि आईपीएल के स्पॉट फिंक्सिग मामले में नाम आने पर उन्हें क्रिकेट खेलने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था। तेज गेंदबाज श्रीसंत ने दावा किया था कि उन पर लगे स्पॉट फिक्सिंग पूरी तरह से अनुचित है। श्रीसंत ने यह भी तर्क दिया था कि बीसीसीआई द्वारा गठित जांच टीम ने उन्हें सुनवाई का मौका दिए बिना ही अंतिम रिपोर्ट सौंप दी थी। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप