कोरोना महामारी: त्योहारों में भीड़ का हिस्सा बनने से बचने की जरुरत

कोरोना महामारी: त्योहारों में भीड़ का हिस्सा बनने से बचने की जरुरत

हमने कई पर्यटन स्थलों पर भीड़ देखी है। सामाजिक, राजनीतिक या धार्मिक कारण से भी भीड़ हो रही है। कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर की संभावना जताई है और भीड़ की स्थिति को देखते हुए तीसरी लहर की आशंका से इंकार भी नहीं किया जा सकता है।

हमारा देश त्योहारों का देश है, सावन शुरू होते ही देश में त्योहारों का सिलसिला शुरू हो जाता है। हर त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्र शुरू हो गया है और दशहरे की तैयारी भी होने लगी है और उसके बाद दिवाली ! इन त्योहारों का इंतजार सभी को रहता है, क्योंकि इस दौरान लोग अपनों से मिलते हैं, कुछ नए काम भी करते हैं और परिवार के साथ उत्सव का आनंद लेते हैं। कोरोना महामारी के दौरान लोग कोई भी त्योहार उत्साह और उमंग से नहीं मना पाए इसलिए इस साल नियमों में ढील और वैक्सीनेशन के बाद लोग पुरे उत्साह के साथ उत्सव मनाएंगे। पर अभी लोगों को कोरोना की भयावहता को देखते हुए भीड़ से बचने की जरुरत है। क्योंकि कुछ राज्यों में संक्रमण दर लगभग 10 प्रतिशत से ऊपर बनी हुयी है। हमें बाजारों, सार्वजनिक स्थानों, पूजा स्थलों की भीड़ का हिस्सा बनने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: पहला बंगाली गीत दुर्गा मां एलो रे आठ अक्टूबर को होगी रिलीज,देवी दुर्गा मां को किया गया समर्पित

हमने कई पर्यटन स्थलों पर भीड़ देखी है। सामाजिक, राजनीतिक या धार्मिक कारण से भी भीड़ हो रही है। कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर की संभावना जताई है और भीड़ की स्थिति को देखते हुए तीसरी लहर की आशंका से इंकार भी नहीं किया जा सकता है। आईसीएमआर के विशेषज्ञों ने अभी कोरोना से बचाव के सामान्य नियमों का पालन करने की सलाह दी है। हिमाचल प्रदेश के आकड़े यह बताते हैं कि त्योहारों के मौसम में पर्यटकों की वजह से आबादी में 40 फीसदी तक बढ़ोतरी हो जाती है। वीकेंड और त्योहारी छुट्टियों में उमड़ती भीड़ से तीसरी लहर की गंभीरता बढ़ सकती है। दूसरी लहर के दौरान संक्रमण की स्थिति कम जन घनत्व वाले राज्यों में अपेक्षाकृत कम थी। हालांकि, अब तक देश में लगभग 93 करोड़ लोग वैक्सीन ले चुके हैं, लेकिन अभी ध्यान रखने की आवश्यकता है की महामारी के खिलाफ हमारी लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। 

इसे भी पढ़ें: खास तरीके से बनाई जाती है मां दुर्गा की प्रतिमा, पंडालों की भव्यता में लगता है चार चांद

बीमारी की चपेट में आने से बचने के लिए हमें मास्क पहने के साथ-साथ भीड़भाड़ से दूर रहना होगा। वैक्सीन लेने के बाद भी सतर्कता की बहुत जरुरत है। इससे प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि जरुर होगी लेकिन बीमारी से बचाव का यह अंतिम उपाय नहीं है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 वैक्सीन उत्पादक वाला देश है, लेकिन यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाला भी देश है और यहाँ की पूरी आबादी को टीका लगाने में समय लग सकता है। हालाँकि केंद्र और राज्य सरकारों तथा स्थानीय प्रशासन के सामूहिक जागरूकता अभियान और अपील द्वारा तेजी के साथ वैक्सीनेशन की प्रक्रिया बढ़ रहा है और लोग वैक्सीन ले रहे हैं। सामान्य आवाजाही सुचारू रूप से चल रही है और देश के विभिन्न राज्यों में पर्यटन की गतिविधियाँ भी बढ़ी है। अब हम सभी को यह तय करना है की अत्यधिक भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। हमारी एक छोटी सी लापरवाही फिर से बड़ी मुसीबत को न्योता दे सकती है । इसलिए त्योहारों के समय खुशियाँ मनाएं लेकिन बच के ! नवरात्र की शुभकामनाए