इस वर्ष अपने दिन पूरे करने की जल्दी में है पृथ्वी? 24 घंटे से भी कम समय में लगा रही चक्कर, जानें क्या होगा परिणाम

Earth
creative common
अभिनय आकाश । Aug 01, 2022 2:21PM
पृथ्वी ने इस वर्ष 29 जून को 24 घंटे से भी कम समय में 1.59 मिलीसेकंड में अपना चक्कर पूरा किया, जो एवरेज स्पीड से ज्यादा है। परमाणु घड़ी द्वारा मिनट परिवर्तन का पता लगाया गया था जिसका उपयोग ग्रह की घूर्णी गति को न्यूनतम विवरण तक मापने के लिए किया जाता है।

पृथ्वी इस वर्ष अपने दिन पूरे करने की जल्दी में है। सामान्य गति से घूमने वाली पृथ्वी अब तेज गति से घूमने लगी है। ऐसे में क्या अब पृथ्वी 24 घंटे से भी कम समय में अपना चक्कर पूरा कर ले रही है। ये सवाल इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि 29 जून को रिकॉर्ड किए गए इतिहास में सबसे छोटा दिन पाया गया है। पृथ्वी ने इस वर्ष 29 जून को 24 घंटे से भी कम समय में 1.59 मिलीसेकंड में अपना चक्कर पूरा किया, जो एवरेज स्पीड से ज्यादा है। परमाणु घड़ी द्वारा मिनट परिवर्तन का पता लगाया गया था जिसका उपयोग ग्रह की घूर्णी गति को न्यूनतम विवरण तक मापने के लिए किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: लड़कियों को नहीं पसंद होती लड़कों की ये आदतें, आज ही छोड़ दें वरना हो सकता है ब्रेकअप

इससे पहले साल 2020 में पृथ्वी की तेज गति के चलते जुलाई का महीना सबसे छोटा देखा गया था। उस वर्ष के 19 जुलाई को सबसे छोटा दिन 1.47 मिलीसेकंड था, जो 24 घंटे से भी कम था। यानी इस दिन पृथ्वी ने अपना चक्कर 1.47 मिलीसेकंड में पूरा कर लिया था। इस साल 26 जुलाई को धरती 1.50 मिलीसेकंड में पूरी घूम गई। 

पृथ्वी का घूर्णन छोटा क्यों हो रहा है?

पृथ्वी की घूर्णन प्रकृति की प्रमुख शक्तियों से प्रभावित होती है, जिसमें कोर की इनर और आउटर लेयर, महासागरों, टाइड या फिर जलवायु में लगातार हो रहे परिवर्तन के कारण हो रहे हैं। हालांकि वैज्ञानिकों ने अभी तक पृथ्वी की घूर्णन गति में गिरावट के कारणों का पता नहीं लगाया है, लेकिन इसके लिए चांडलर वॉबल को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। ये पृथ्वी के घूमने की धुरी में एक छोटा सा डेविएशन है। अगर पृथ्वी इसी बढ़ती हुई गति से घूमती रही, तो ये नेगेटिव लीप सेंकेड की शुरुआत कर सकती है। इसका मतलब है कि पृथ्वी को उस दर को बनाए रखना होगा, जिसके मुताबिक पृथ्वी अटोमिक घड़ियों के समान सूर्य की परिक्रमा करती है। नासा के अनुसार, चांडलर वॉबल, पृथ्वी द्वारा प्रदर्शित एक गति है क्योंकि यह अपनी धुरी पर घूमती है। 2000 में वैज्ञानिकों ने इस रहस्य को सुलझाया और कहा कि चांडलर डगमगाने का मुख्य कारण समुद्र के तल पर दबाव में उतार-चढ़ाव है, जो तापमान और लवणता में परिवर्तन और महासागरों के संचलन में हवा से चलने वाले परिवर्तनों के कारण होता है।

इसे भी पढ़ें: यहाँ दुल्हन को दूल्हे के भाइयों के साथ भी लेने पड़ते हैं फेरे, शादी की ये अजीबोगरीब रस्में सुनकर उड़ जाएंगे होश!

अब आगे क्या?

वैज्ञानिक अभी तक पूरी तरह से उन प्रभावों को नहीं समझ पाए हैं जो एक सदी में संकलित होने पर इस मिनट के बदलाव का असर होगा। हालांकि, वैज्ञानिकों डॉ. जोतोव का कहना है कि 70 प्रतिशत संभावना है कि हम न्यूनतम स्तर पर हैं। इससे और छोटे दिन होने की संभावना बेहद कम है। नेगेटिव सेकंड लीप संभावित रूप से आईटी सिस्टम के लिए कई तरह की समस्याएं पैदा करेगा. मेटा ने हाल ही में एक ब्लॉग पब्लिश किया है, जिसमें कहा गया है कि सेकंड लीप वैज्ञानिकों और खगोलविदों को फायदा पहुंचाएगी. लेकिन यह एक खतरनाक अभ्यास है, जो काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है। मेटा द्वारा प्रकाशित एक ब्लॉग के अनुसार लीप सेकंड 'खास करके वैज्ञानिकों और खगोलविदों को लाभ दे सकता है' लेकिन, यह एक 'जोखिम भरा तरीका है जो अच्छे से ज्यादा नुकसान करता है।' यह इसलिए कि घड़ी 00:00:00 . पर रीसेट होने से पहले 23:59:59 से 23:59:60 तक बढ़ती है। इस तरह के टाइम जंप से प्रोग्राम क्रैश हो सकते हैं और डेटा करप्ट हो सकता है। 

अन्य न्यूज़