हद हो गई! लखनऊ एयरपोर्ट से मिराज 2000 फाइटर जेट का पहिया चुरा ले गए चोर, तहकीकात में जुटी पुलिस

हद हो गई! लखनऊ एयरपोर्ट से मिराज 2000 फाइटर जेट का पहिया चुरा ले गए चोर, तहकीकात में जुटी पुलिस

सेना के अफसरों ने आशंका जताई है कि,दुश्मन के साजिश के तहत यह टायर चोरी हुआ है। अफसरों का कहना है कि, गाड़ी हेमसिंह की है। वह कई सालों से सेना से संबंधित है। सेना के संवेदनशील इलाकों में उसकी पहुंच है। जिस टायर को प्लेन के अलावा कहीं उपयोग नहीं किया जा सकता उसका चोरी होने शक का कारण है।

लखनऊ से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। जहाँ एक फाइटर जेट का पहिया चोरी हो गया। एयरफोर्स के अधिकारियों ने ट्रेलर को कब्जे में लेते हुए चालक को पकड़ लिया है। आइये जानते हैं यह पूरा मामला है क्या? लखनऊ के बख्शी के तलाब एयरपोर्ट स्टेशन से ट्रेलर से जोधपुर के लिए रवाना हुए मिराज फाइटर जेट का एक पहिया चोरी हो गया। ट्रेलर ड्राइवर को जैसे ही इस बात की खबर लगी,उसने लखनऊ पुलिस को मामले से अवगत कराया। मौके पर पहुंची पुलिस ने ड्राइवर से इस बाबत पूछताछ की,और आशियाना में इसकी एफआईआर दर्ज कर ली गई है और मामले की जांच शुरू कर दी है।

मिली जानकारी के अनुसार, लखनऊ के बख्शी तलाब एयरबेस से फाइटर जेट  के पांच ट्रेलर को जोधपुर भेजा गया था। ड्राइवर हेमसिंह 27 नवंबर को रात दो  बजे सेना से संबंधित इस ट्रेलर टायर को लोड करके निकला था। लेकिन वो 30 नवंबर को 4  टायर लेकर ही जोधपुर एयरबेस पहुंचा। ड्राइवर ने बताया कि, शहीद पथ पर sr होटल के पास जाम लगा था। इसी बीच ट्रेलर के पीछे चल रही दो स्कोर्पियो से दो लोग उतरे और रस्सी काटकर 1 टायर उतार लिया। जाम की वजह से वह उन्हें पकड़ नहीं पाया और वो भाग निकले। 30 नवंबर को जब हेमसिंह जोधपुर पहुंचा तो उसे एयरफोर्स की पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

सीसीटीवी फुटेज खंगाल रहे हैं

इस मामले की छानबीन शुरू की जा चुकी है। आशियाना थाने के इंस्पेक्टर धीरज शुक्ला ने कहा कि, शहीद पथ से लेकर आसपास के सभी रास्तों के CCTV देखे जा रहे हैं। लेकिन चोरों का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है।

क्या कहना है सेना के अफसरों का 

सेना के अफसरों ने आशंका जताई है कि,दुश्मन के साजिश के तहत यह टायर चोरी हुआ है। अफसरों का कहना है कि, गाड़ी हेमसिंह की है। वह कई सालों से सेना से संबंधित है। सेना के संवेदनशील इलाकों में उसकी पहुंच है। जिस टायर को प्लेन के अलावा कहीं उपयोग नहीं किया जा सकता उसका चोरी होना शक का कारण है।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

ट्रेंडिंग

झरोखे से...