1 दिसंबर से शुरू हो रहा है हॉर्नबिल फेस्टिवल, जानें कैसे बन सकते हैं इस त्यौहार का हिस्सा

hornbill
Google common license
हॉर्नबिल फेस्टिवल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उतना ही लोकप्रिय है जितना अपने देश में। नागालैंड में रहने वाली जनजातियों के द्वारा मनाये जाने वाले पर्व, त्यौहार उनके पारंपरिक संगीत, नृत्य और कला को संरक्षित रखने के लिए भी यह फेस्टिवल आयोजित किया जाता है।

नागालैंड में लगभग 16 प्रकार की जनजातियां रहती हैं। यह जनजातियां हमारी संस्कृति और इतिहास का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। इनके द्वारा मनाये जाने वाले पर्व और त्यौहार हमारी सांस्कृतिक विरासत है। हॉर्नबिल फेस्टिवल भारत के पूर्वी हिस्से में मनाया जाने वाला त्यौहार है। हॉर्नबिल फेस्टिवल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उतना ही लोकप्रिय है जितना अपने देश में। नागालैंड में रहने वाली इन जनजातियों के द्वारा मनाये जाने वाले पर्व,त्यौहार उनके पारंपरिक संगीत, नृत्य और कला को संरक्षित रखने के लिए भी यह फेस्टिवल आयोजित किया जाता है। अगर आप घूमने का प्लान कर रहें हैं तो नागालैंड इस फेस्टिवल के दौरान आपके लिए बेस्ट प्लेस हो सकता है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता के साथ ही आप यहां की स्थानीय कला यहां की संस्कृति से भी परिचित होते हैं।

 

हॉर्नबिल फेस्टिवल की शुरुआत

दुनिया को नागालैंड की परम्पराओं और संस्कृति से परिचित करने के उद्देश्य से हॉर्नबिल फेस्टिवल की शुरुआत की गयी। नागालैंड में बहुत से जनजातियां रहती हैं। इस आयोजन के माध्यम से यह जनजातियां एक दूसरे की संस्कृति से भी परिचित होती हैं। हॉर्नबिल फेस्टिवल का आयोजन राज्य पर्यटन, कला एवं संस्कृति विभाग नागालैंड द्वारा कराया जाता है। इसका आयोजन सबसे पहले वर्ष 2000 में नागालैंड सरकार ने कराई थी।

इसे भी पढ़ें: ओडिशा के मनाये जाने वाले प्रमुख उत्सवों में से एक है 'बालि यात्रा'

फेस्टिवल का नाम हॉर्नबिल क्यों पड़ा

हॉर्नबिल नाम की चिड़िया का नागा संस्कृति में बहुत महत्व है। इस पक्षी के नाम पर ही इस फेस्टिवल को हार्नबिल फेस्टिवल कहा गया। हॉर्नबिल चिड़िया को नागा जनजाति में पवित्र माना जाता है। यहां पौराणिक कथाओं में इसका जिक्र भी मिलता है। भारत में इस पक्षी की लगभग 9 प्रजातियां पाई जाती हैं। हॉर्नबिल फेस्टिवल को 'फेस्टिवल ऑफ फेस्टिवल्स' भी कहा जाता है।

कैसे जा सकते हैं फेस्टिवल में

हॉर्नबिल फेस्टिवल दस दिनों तक चलने वाला आयोजन है। हॉर्नबिल फेस्टिवल के दौरान आप कोहिमा, खोनोमा, इंफाल, मोइरंग मणिपुर आदि कई बेहतरीन टूरिस्ट प्लेस घूम सकते हैं। इस फेस्टिवल के लिए IRCTC आपके लिए एक टूर पैकेज लाया है यह सात दिनों का पैकेज है। इस बेहतरीन टूर पैकेज का लुत्फ़ उठाने के लिए आपको इंफाल पहुंचना होगा। यहां आप आईएनए संग्रहालय, कीबुल लामजाओ राष्ट्रीय उद्यान और जापानी युद्ध स्मारक आदि जगहों पर घूमने जा सकते हैं।

संगाई महोत्सव का भी लें आनंद

आप हॉर्नबिल फेस्टिवल का आनंद लेने के साथ ही संगाई महोत्सव का आनंद ले सकते हैं। यह हॉर्नबिल फेस्टिवल से ठीक पहले मनाया जाता है। इसका आयोजन मणिपुर पर्यटन विभाग द्वारा लगभग 21 नवम्बर से लेकर 30 नवम्बर तक किया जाता है। इसमें मणिपुर की लोक कला, संगीत, संस्कृति की झलक देखने को मिलती है।

अन्य न्यूज़