शक्ति पर्व दशहरा के आयोजन के पीछे प्रचलित हैं कई मान्यताएं, आप भी इन्हें जानिए

Dussehra
ANI
कमलेश पांडे । Oct 04, 2022 5:59PM
हिंदू पौराणिक कथाओं के मुताबिक, जिस दिन भगवान राम ने अपनी पत्नी सीता का अपहरण करने वाले राक्षस राज रावण का वध किया था, उस दिन को ही "विजय दशमी" के रूप में मनाया जाता है। गौरतलब है कि विजयादशमी शब्द दो शब्दों- विजय और दशमी से बना है।

श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण शक्ति पर्व "दशहरा" हिन्दू धर्मावलंबियों का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। इसके आयोजन के बारे में तरह-तरह की पौराणिक कथाएं, लोक गाथाएं जनमानस में बहु प्रचलित हैं। जिनमें दशानन रावण पर भगवान राम की विजय, राक्षस महिषासुर पर माता दुर्गा की विजय, माता पार्वती की घर वापसी, महाभारत युगीन पांडवों के अज्ञेय वंश का अंत और कौत्स की गुरु दक्षिणा जैसी कथाएं लोगों की जुबां पर रची-बसी हुई हैं। इसके अलावा भी मैंने कई अन्य पौराणिक कहानियाँ पढ़ीं कि आखिरकार दशहरा क्यों मनाया जाता है? कहने का मतलब यह कि इस उत्सव के पीछे भगवान राम की राक्षस राज रावण पर जीत ही एकमात्र कारण नहीं है, बल्कि कुछ और बातें भी इसकी पृष्ठभूमि में निहित हैं जिनके बारे में हम सभी को जानना चाहिए ताकि अपने जिज्ञासु बच्चों को बता सकें।  

# दशानन रावण पर भगवान राम की विजय

हिंदू पौराणिक कथाओं के मुताबिक, जिस दिन भगवान राम ने अपनी पत्नी सीता का अपहरण करने वाले राक्षस राज रावण का वध किया था, उस दिन को ही "विजय दशमी" के रूप में मनाया जाता है। गौरतलब है कि विजयादशमी शब्द दो शब्दों- विजय और दशमी से बना है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक, जिस दिन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम ने दैत्यराज रावण को हराया और विभीषण के सुझाव पर उसकी नाभि में अपना वाण मारा, वह पुण्यतिथि अश्विन शुक्ल दशमी ही था। इसलिए दशहरा नाम की उत्पत्ति हुई।

इसे भी पढ़ें: भगवान राम की विजय और शक्ति पूजा का पर्व है दशहरा

बता दें कि बहुत से लोग दशहरे के दिन "आदित्य होम" को "शांति यज्ञ" के रूप में करते हैं। ऐसा माना जाता है कि ये यज्ञ अनुष्ठान घर के आसपास के वातावरण में शक्तिशाली औरा बनाते हैं जो घर के वातावरण को स्वच्छ और स्वस्थ रखेंगे। इन अनुष्ठानों का उद्देश्य घर के दस बुरे गुणों से छुटकारा पाना है, जिनका प्रतिनिधित्व रावण के 10 मुखों द्वारा किया जाता है: 1. काम वासना (वासना),  2. क्रोध (क्रोध), 3. मोह (आकर्षण), 4. लोभ (लालच), 5. मद (ओवर प्राइड), 6. मत्सरा (ईर्ष्या), 7. स्वार्थ (स्वार्थ), 8. अन्याय (अन्याय), 9. अमानवीयता (क्रूरता) और 10. अहंकार (अहंकार).

# दैत्यराज महिषासुर पर माता दुर्गा की विजय

एक समय की बात है। भैंसा के रूप में एक असुर महिषासुर बहुत अधिक शक्तिशाली हो गया। उसने पृथ्वी पर तबाही मचा दी। उनके नेतृत्व में, असुरों ने देवों को हराया। तब महिषासुर के अत्याचार के खिलाफ लड़ने के लिए, देवों ने अपनी ऊर्जा को एक शक्ति पुंज में शामिल कर लिया, जो कि गरमागरम ऊर्जा का एक द्रव्यमान है। ब्रह्मा, विष्णु और शिव के मुख से बिजली का एक बहुत शक्तिशाली बैंड निकला और दस हाथों वाली एक युवा, सुंदर महिला प्रकट हुई। सभी देवताओं ने उसे अपने अपने विशेष हथियार दिए। इस शक्ति ने मिलकर देवी दुर्गा का निर्माण किया, जिसने उसकी सहायता की। एक शेर पर सवार होकर माता दुर्गा ने राक्षस कुल के महिषासुर से युद्ध किया, जो नौ दिन और रात तक चलता रहा। अंत में अश्विन शुक्ल पक्ष के दसवें दिन, राक्षस राज महिषासुर को देवी दुर्गा माता ने पराजित किया और मार डाला। इसलिए हम इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाते हैं।

# माता पार्वती की घर वापसी

लोकश्रुति है कि पार्वती अपने पिछले जन्म में सती थीं।  सती शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं। उन्होंने शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए अहर्निश प्रार्थना की। उनकी पूजा से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उनसे विवाह किया। हालांकि, सती के पिता इस विवाह के खिलाफ थे, लेकिन इसे चाहकर भी रोक नहीं सके। 

ततपश्चात राजा दक्ष ने एक यज्ञ का आयोजन किया जिसमें उन्होंने भगवान शिव को छोड़कर बाकी सभी स्वजनों को आमंत्रित किया। अपने पिता के इस कृत्य से लज्जित होकर और पिता दक्ष द्वारा अपने पति का अपमान देखकर, वह यानी सती, यज्ञ की आग में कूद गई और खुद को भष्म कर  डाला। यह जानकर भगवान शिव को बहुत ही पीड़ा हुई। लिहाजा, उन्होंने सती के शरीर को अपने कंधों पर उठा लिया और नाचने लगे यानी तांडव नृत्य करने लगे। समझा जाता है कि जैसे ही सर्वोच्च शक्ति क्रोध से नाच रही थी, वैसे ही यह दुनिया विनाश के कगार पर खड़ी थी।

ऐसे में भगवान विष्णु एक जन-उद्धारकर्ता के रूप में आगे आए और सती के शरीर को टुकड़ों में काटने के लिए अपने सुदर्शन चक्र का उपयोग किया। इससे वे टुकड़े नाचते हुए भगवान शिव के कंधों से गिरे और पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में बिखर गए। जब आखिरी टुकड़ा उनके कंधे से गिरा तो भगवान शिव बिल्कुल शांत हो गए। वहीं, अपने अगले जन्म में, सती ने हिमालय के शासक हिमावत की बेटी पार्वती के रूप में जन्म लिया। भगवान विष्णु ने शिव से दक्ष को क्षमा करने के लिए कहा। तब से, शांति बहाल हुई और पार्वती हर साल शरतकल या शरद ऋतु के दौरान अपने पिछले जन्म के माता-पिता से मिलने जाती हैं, जब दुर्गा पूजा मनाई जाती है।

इसे भी पढ़ें: दशहरे पर इस खास पक्षी के दर्शन मात्र से जीवन में होती है धन वर्षा

# महाभारत कालीन पांडवों के अज्ञेय वंश का अंत

द्वापर युग के युग में, पांडव कौरवों से पासा के खेल में हार गए और बारह वर्ष वनवास यानी वन में निर्वासन, उसके बाद एक वर्ष का अज्ञात वास यानी गुप्त निर्वासन अवधि में बिताया। पांचों भाइयों ने अज्ञातवास के अंतिम वर्ष को पूरा करने के लिए राजा विराट के राज्य में प्रवेश करने से पहले शमी वृक्ष में मौजूद एक छेद में अपने हथियार छुपाए। उस वर्ष के बाद, "विजय दशमी" पर ही उन्होंने हथियार बरामद किए। फिर अपनी असली पहचान घोषित की और कौरवों को हराया, जिन्होंने मवेशियों को चुराने के लिए राजा विराट पर हमला किया था। उस दिन से ही दशहरा पर शमी वृक्षों और शस्त्रों की पूजा की जाती है। दशहरे पर शमी के पत्तों का आदान-प्रदान सद्भावना और जीत का प्रतीक भी माना जाता है।

# शिष्य कौत्स की गुरु दक्षिणा से पनपी परम्परा

देवदत्त नामक ब्राह्मण का युवा पुत्र कौत्स, पैठण शहर में रहता था। ऋषि वरतंतु के साथ अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने अपने गुरु से गुरु दक्षिणा के तौर पर एक उपहार स्वीकार करने पर जोर दिया। इस पर गुरु ने कहा, "कौत्स, ज्ञान सीखने के बदले में दक्षिणा देना उचित नहीं है। शिष्य का स्नातक यानी स्वभाव गुरु को खुश करता है, और यही वास्तविक गुरु दक्षिणा है।" इससे कौत्स संतुष्ट नहीं थे। उन्हें अभी भी लगा कि अपने गुरु को कुछ देना उनका कर्तव्य है। गुरु ने कहा, "ठीक है, यदि आप मुझे दक्षिणा देने की जिद करते हैं, तो मुझे 14 करोड़ सोने के सिक्के दें, जो 14 विज्ञान मैंने आपको सिखाए हैं, उनमें से प्रत्येक के लिए 10 मिलियन।"

यही वजह है कि कौत्स राजा रघु के पास गया। रघुराज भगवान राम के पूर्वज थे, जो अपनी उदारता के लिए प्रसिद्ध थे। लेकिन उस समय उन्होंने विश्वजीत यज्ञ करने के बाद अपना सारा पैसा ब्राह्मणों पर खर्च कर दिया था। रघुराज ने कौत्स को तीन दिन में वापस आने के लिए कहा। रघुराज तुरंत इंद्र से सोने के सिक्के लेने के लिए निकल पड़े। इंद्र ने धन के देवता कुबेर को बुलाया। 

राजाधिराज भगवान इंद्र ने कोषाध्यक्ष कुबेर से कहा, "सोने के सिक्कों से भरी बारिश करो, रघुराज के अयोध्या शहर के आसपास, शानू और आपती के पेड़ों पर गिरो।" इससे वहां पर सोने के सिक्कों की बारिश होने लगी। ततपश्चात राजा रघु ने सभी सिक्के कौत्स को दे दिए। हालांकि कौत्स ने वरतंतु ऋषि को ये सिक्के देने के लिए जल्दबाजी की। गुरु ने केवल 140 करोड़ मांगे थे, इसलिए शेष कौत्स को दे दिया। मान को धन से अधिक मूल्यवान मानते हुए कौत्स को धन में कोई दिलचस्पी नहीं थी। इसलिए उसने राजा से शेष सोने के सिक्कों को वापस लेने के लिए कहा। लेकिन राजा ने इनकार कर दिया, क्योंकि राजा दान (उपहार) वापस नहीं लेते हैं।

अंत में कौत्स ने अश्विन शुक्ल दशमी के दिन ही अयोध्या के लोगों को सोने के सिक्के वितरित किए। इस घटना की याद में आपती के पेड़ की पत्तियों को तोड़ने का रिवाज रहा है और फिर लोग इन पत्तों को सोने के रूप में एक दूसरे को भेंट करते हैं। यही वजह है कि दशहरा पर बड़े बुजुर्ग अपने से छोटे बच्चों को कुछ नकद नारायण, वस्त्र आदि अवश्य भेंट करते हैं।

- कमलेश पांडेय

वरिष्ठ पत्रकार व स्तम्भकार

अन्य न्यूज़