नासा ने मंगल 2020 रोवर के उतरने वाले स्थान के तौर पर प्राचीन गढ्ढे को चुना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2018   15:44
नासा ने मंगल 2020 रोवर के उतरने वाले स्थान के तौर पर प्राचीन गढ्ढे को चुना

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सोमवार को कहा कि उसने 3–6 अरब साल पुराने एक गढ्ढे (क्रेटर) को मानवरहित मंगल 2020 रोवर मिशन के उतरने वाले स्थान के तौर पर चुना है।

वाशिंगटन। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सोमवार को कहा कि उसने 3–6 अरब साल पुराने एक गढ्ढे (क्रेटर) को मानवरहित मंगल 2020 रोवर मिशन के उतरने वाले स्थान के तौर पर चुना है। इस मिशन का लक्ष्य, लाल ग्रह पर पूर्व में अगर कोई जीवन रहा है तो उसके संकेतों का पता लगाना है। नासा ने पांच साल की खोज के बाद जेजेरो क्रेटर का चयन किया है। इन पांच सालों के दौरान मंगल पर करीब 60 स्थानों के संबंध में उपलब्ध प्रत्येक ब्यौरे को मिशन टीम और ग्रह विज्ञान से जुड़े समूहों ने बारीकी से देखा और उस पर चर्चा की। अंतरिक्ष एजेंसी ने एक बयान में कहा कि लाल ग्रह की खोज के नासा के अगले कदम के तहत रोवर मिशन जुलाई 2020 में वहां भेजा जाएगा। 

बयान में बताया गया कि यह मिशन न सिर्फ रहने योग्य पुरानी स्थितियों और सूक्ष्मजीवों के पूर्व के जीवन के संकेतों का पता लगाएगा बल्कि रोवर पत्थरों एवं मिट्टी के नमूने भी इकठ्ठे करेगा और ग्रह की सतह पर एक भंडार में जमा करेगा। नासा के विज्ञान मिशन निदेशालय के सहायक प्रशासक थॉमस जुरबुचेन ने कहा, “जेजेरो कार्टर में मिशन के उतरने वाली जगह भौगोलिक रूप से समृद्ध इलाका है जहां जमीन 3–6 अरब साल से भी पुराने समय से अपने प्राकृतिक रूप में मौजूद है जो ग्रह की उत्पत्ति एवं खगोल जीव विज्ञान से जुड़े अहम सवालों का संभवत: उत्तर दे सकती हैं।”





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।