सोनू सूद ने बचाई बच्ची की जान,मुंबई में कराया 9 लाख का ऑपरेशन

Sonu Sood
भीनमाल के रहने वाले प्रमोद कुमार की बच्ची को जन्म से ही दिल में छेद था, लेकिन घरवाले इलाज नहीं करवा पा रहे थे। उन्होंने ट्वीट के जरिये सोनू सूद से मदद की मांग की थी। जिसके पास सोनू सूद की टीम ने तुरंत बच्ची के परिजनों से संपर्क किया।

कोरोना के समय सोनू सूद ने जिस तरह से आगे आकर लोगों की मदद की उसे सभी ने सराहा। जब सरकारें नागरिकों की मदद करने में लाचार नजर आ रही थी तब सोनू सूद एक मसीहा की तरह लोगों की मदद के लिए आगें आए थे और सोनू सूद ने बहुत से लोगों की मदद की थी। सोनू के दरियादिली की तारीफ पूरा देश कर रहा था। सोनू सूद की ऐसी ही एक और दरियादिली की खबर आई है, जहां उन्होंने एक परिवार की मदद की है। खबर है कि राजस्थान के जालोर के भीनमाल में सोनू सूद ने एक 5 महीने की बच्ची के दिल का ऑपरेशन करवाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भीनमाल की रहने वाली 5 महीने की बच्ची सानिया के दिल में छेद होने के कारण उसकी सांस की नली दबी हुई थी। सोनू सूद ने यह इलाज करवा कर मानवता की एक और मिसाल पेश की है।

  बच्ची के इलाज में 8 से 9 लाख रुपये का खर्च था। आर्थिक स्थिति कमजोर होने के चलते परिवार वाले इलाज नहीं करा पा रहे थे, अब सोनू सूद ने इस बच्ची का इलाज करवाया है। आपको बता दें कि यह इलाज सोनू सूद फाउंडेशन की ओर से मुंबई में कराया गया जहां स्वस्थ होकर घर लौटने के बाद परिवार वालों ने बच्ची का नाम सोनू रखा है। सोनू सूद ने भी ट्वीट करके खुशी जताई है।

 भीनमाल के रहने वाले प्रमोद कुमार की बच्ची को  जन्म से ही दिल में छेद था, लेकिन घरवाले इलाज नहीं करवा पा रहे थे। उन्होंने ट्वीट के जरिये सोनू सूद से मदद की मांग की थी। जिसके पास सोनू सूद की टीम ने तुरंत बच्ची के परिजनों से संपर्क किया। सोनू सूद की टीम बच्ची के घर पहुंची और वहां से उसको इलाज के लिए मुंबई लाया गया।

 सोनू सूद फाउंडेशन के प्रभारी हितेश जैन ने बताया कि, जालोर जिले की सानिया की उम्र 5 महीने है उसके दिल में छेद था। जैन ने कहा कि हमें ट्वीट के माध्यम से जानकारी मिली जिसके बाद हम बच्ची के परिवारजनों के पास पहुंचे और उन्हें हमारी मुहिम के बारे में बताया। इसके बाद बच्ची को मुंबई लेकर गए। आपको बता दें कि, प्रमोद कुमार इससे पहले बच्ची का इलाज 2 महीने से गुजरात के पालनपुर, और अहमदाबाद में करवा रहे थे। प्रमोद ने कहा कि, इलाज के दौरान ही डॉक्टरों ने दिल में छेद होने की बात बताई और ऑपरेशन में होने वाले खर्च की जानकारी दी। सारी जानकारी होने के बाद भी हम ऑपरेशन नहीं करवा पा रहे थे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, इससे पहले सोनू सूद फाउंडेशन ने जालोर शहर के गोडीजी में एक महीने की मासूम का भी इलाज कराया था।

अन्य न्यूज़