Unlock 2 के 25वें दिन महाराष्ट्र, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कोरोना की रफ्तार और तेज

Unlock 2 के 25वें दिन महाराष्ट्र, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कोरोना की रफ्तार और तेज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि भारत ने कोविड-19 जांच क्षमता में धीरे-धीरे बढ़ोतरी करते हुए एक दिन में सर्वाधिक 4.20 लाख जांच का रिकॉर्ड बनाया। मंत्रालय के मुताबिक, प्रयोगशालाओं की संख्या में वृद्धि की वजह से इतनी जांच करना मुमकिन हो पाया।

भारत में कोविड-19 के मामलों की संख्या शनिवार को 13 लाख के आंकड़े को पार कर गई। महज दो दिन पहले संक्रमण के मामले 12 लाख के पार हुए थे। इस संक्रामक रोग से अब तक देश में 8,49,431 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सुबह आठ बजे तक जारी आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना वायरस के 48,916 नए मामले सामने आए जिसके बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 13,36,861 हो गई। वहीं, 757 और लोगों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 31,358 हो गई। देश में फिलहाल 4,56,071 संक्रमित लोगों का इलाज चल रहा है। अभी तक करीब 63.54 प्रतिशत लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। संक्रमितों की कुल संख्या में विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। यह लगातार तीसरा दिन है जब कोविड-19 के एक दिन में 45,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। बीते 24 घंटों में जिन 757 लोगों की मौत हुई है उनमें से 278 की महाराष्ट्र, 108 की कर्नाटक, 88 की तमिलनाडु, 59 की उत्तर प्रदेश, 49 की आंध्र प्रदेश, 35 की पश्चिम बंगाल, 32 की दिल्ली, 26 की गुजरात, 14 की जम्मू कश्मीर, 11 की मध्य प्रदेश और आठ-आठ लोगों की राजस्थान और तेलंगाना में मौत हुई। वायरस संक्रमण से असम, छत्तीसगढ़ और ओडिशा में छह-छह, पंजाब में पांच, केरल और हरियाणा में चार-चार, बिहार और झारखंड में तीन-तीन तथा पुडुचेरी, त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में एक-एक मरीज की मौत हुई। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 24 जुलाई तक 1,58,49,068 नमूनों की जांच की गई जिनमें से 4,20,898 नमूनों की जांच शुक्रवार को की गई। एक दिन में कोरोना वायरस के लिए की गई ये सर्वाधिक जांच हैं। अभी तक इस वैश्विक महामारी से कुल 31,358 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से महाराष्ट्र में सबसे अधिक 13,132 लोगों की मौत हुई। इसके बाद दिल्ली में 3,777, तमिलनाडु में 3,320, गुजरात में 2,278, कर्नाटक में 1,724, उत्तर प्रदेश में 1,348, पश्चिम बंगाल में 1,290, आंध्र प्रदेश में 933 और मध्य प्रदेश में 791 लोगों की मौत हुई। राजस्थान में कोविड-19 से अब तक 602, तेलंगाना में 455, हरियाणा में 382, जम्मू कश्मीर में 296, पंजाब में 282, बिहार में 220, ओडिशा में 120, असम में 76, झारखंड में 70, उत्तराखंड में 60 और केरल में 54 मरीजों ने जान गंवाई। छत्तीसगढ़ में इस संक्रमण से 36, पुडुचेरी में 35, गोवा में 29, चंडीगढ़ में 13, हिमाचल प्रदेश और त्रिपुरा में 11-11, मेघालय में पांच, अरुणाचल प्रदेश में तीन, दादरा और नगर हेवली, दमन और दीव और लद्दाख में दो-दो तथा नगालैंड में एक व्यक्ति की मौत हुई। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि मरने वालों में 70 प्रतिशत से अधिक को कोई न कोई अन्य बीमारी भी थी। कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 3,57,117 मामले महाराष्ट्र में सामने आए। इसके बाद तमिलनाडु में 1,99,749, दिल्ली में 1,28,389, कर्नाटक में 85,870, आंध्र प्रदेश में 80,858, उत्तर प्रदेश में 60,771, पश्चिम बंगाल में 53,973 और गुजरात में 53,545 मामले सामने आए। तेलंगाना में 52,466, राजस्थान में 34,178, बिहार में 33,926, हरियाणा में 29,755, असम में 29,921 और मध्य प्रदेश में 26,210 लोग संक्रमित पाए गए। ओडिशा में कोविड-19 के मामले बढ़कर 22,693, जम्मू कश्मीर में 16,782, केरल में 16,995 और पंजाब में 12,216 पर पहुंच गए। झारखंड में 7,493, छत्तीसगढ़ में 6,731, उत्तराखंड में 5,445, गोवा में 4,540, त्रिपुरा में 3,759, पुडुचेरी में 2,515, मणिपुर में 2,146, हिमाचल प्रदेश में 1,954 और लद्दाख में 1,246 लोग संक्रमित पाए गए। नगालैंड में संक्रमण के 1,239, अरुणाचल प्रदेश में 1,056 और चंडीगढ़ में 823 मामले सामने आए। दादरा और नगर हवेली तथा दमन और दीव में 815 मामले सामने आए। मेघालय में 588, सिक्किम में 477, मिजोरम में 361 और अंडमान तथा निकोबार में 259 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए। मंत्रालय ने कहा, ‘‘हमारे आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों से मिलान किया जा रहा है।’’

महाराष्ट्र में कोविड-19 के 9,251 नये मामले

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में 9,251 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है वहीं संक्रमण से इस अवधि में 257 लोगों की मौत हुई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राज्य में अभी तक कुल 3,66,368 लोगों के शनिवार तक कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। उनका कहना है कि पिछले 24 घंटे में हुई 257 मौतों के साथ ही राज्य में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 13,389 हो गई है। शनिवार को विभिन्न अस्पतालों से इलाज के बाद एक दिन में सर्वाधिक 7,227 लोगों को छुट्टी दी गई। प्रदेश में अभी तक कुल 2,07,194 लोग कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हुए हैं। विभाग ने बताया कि राज्य में फिलहाल 1,45,785 लोग का इलाज चल रहा है। राज्य में अभी तक 18,36,920 लोगों की जांच की गई है।

गुजरात में कोरोना संक्रमण के 1,081 नए मामले

गुजरात में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के सर्वाधिक 1,081 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 54,712 हो गई। स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी। बयान में कहा गया कि पूरे राज्य में संक्रमण की वजह से पिछले 24 घंटों में 22 लोगों की मौत हो गई, जिसके बाद कुल मरनेवालों की संख्या 2,305 है। वहीं अहमदाबाद जिले में पिछले 24 घंटे में 180 नए मामले आए हैं जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या जिले में 25,529 हो गई। वहीं चार और लोगों की मौत के बाद जिले में मृतकों की संख्या 1,572 है। विभाग ने कहा कि कुल 782 मरीजों को अस्पताल से इलाज के बाद छुट्टी मिली है जिसके बाद स्वस्थ हुए मरीजों की संख्या 39,612 हो गई। गुजरात में फिलहाल 13,944 मरीजों का इलाज चल रहा है।

इसे भी पढ़ें: तमाम उतार-चढ़ाव के बाद फिर से पटरी पर लौट रही है भारतीय अर्थव्यवस्था

तमिलनाडु में कोविड-19 का आंकड़ा दो लाख के पार

तमिलनाडु में शनिवार को कोविड-19 के 6,988 नए मामले सामने आने के बाद, इस महामारी के मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 2,06,737 हो गया। इसके अलावा संक्रमण की वजह से 89 और लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या 3,409 हो गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार आज 7,758 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। अब तक कुल 1,51,055 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 64,315 नमूनों की जांच की गई। राज्य में अभी तक 22,87,334 नमूनों की जांच हो चुकी है। चेन्नई में 1,329 नए मामले सामने आने के बाद यहां संक्रमितों की संख्या 95,537 पहुंच गई।

जम्मू-कश्मीर में ठीक होने की दर करीब 53 प्रतिशत हुई

जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने की दर पहले से बेहतर होकर करीब 53 प्रतिशत हो गई है, वहीं नए मामले आने की दर में भी सुधार हुआ है और अब यह महज तीन प्रतिशत है। गौरतलब है कि नए मामले आने का राष्ट्रीय औसत 8.3 प्रतिशत है। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि केन्द्र शासित प्रदेश में प्रति दस लाख जनसंख्या पर जांच की दर भी सुधरी है। जम्मू-कश्मीर में प्रति 10 लाख पर 44,744 लोग की जांच की जा रही है जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह संख्या 12,742 है। एक अधिकारी ने बताया, ‘‘जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त होने की दर तीन से 23 जुलाई के बीच, 20 दिन में सुधर कर करीब 53 प्रतिशत हो गई है।’’ उन्होंने बताया कि केन्द्र शासित प्रदेश में प्रति 10 लाख की आबादी में से 1,339 लोग के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। हालांकि, जम्मू में यह महज 623 है जो कश्मीर के 1,899 के मुकाबले लगभग एक तिहाई है। अधिकारी ने बताया, ‘‘केन्द्र शासित प्रदेश में लोगों के संक्रमित होने की दर तीन प्रतिशत है जो देश के औसत 8.3 से बेहतर है। जम्मू में यह दर 1.3 प्रतिशत है जबकि कश्मीर में 4.7 प्रतिशत है।''

आईआईटी खड़गपुर ने विकसित किया उपकरण

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) खड़गपुर के अनुसंधानकर्ताओं ने कोविड-19 संक्रमण की त्वरित जांच के लिए कम कीमत वाला एक उपकरण विकसित किया है और दावा किया है कि इससे गरीबों को लाभ होगा। परियोजना का नेतृत्व कर रहे दो व्यक्तियों में से एक मैकेनिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर सुमन चक्रवर्ती ने शनिवार को डिजिटल माध्यम से संवाददाताओं से कहा कि ‘कोविरैप’ नामक उपकरण से मात्र 400 रुपये में त्वरित जांच की जा सकेगी और एक घंटे के भीतर जांच का नतीजा मोबाइल ऐप पर देखा जा सकेगा। चक्रवर्ती ने कहा कि उपकरण की कीमत दो हजार रुपये होगी और बड़े स्तर पर उत्पादन होने से मूल्य घट सकता है। उन्होंने कहा कि संस्थान ने पेटेंट के लिए आवेदन कर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रयोगशाला के उपकरणों से की गई जांच के मुकाबले कोविरैप से अधिक सरलता से जांच की जा सकती है और इससे प्राप्त नतीजे आरटी-पीसीआर जांच जितने ही सटीक होंगे। उन्होंने कहा कि एक उपकरण से कई जांच की जा सकती है और इसके लिए प्रत्येक जांच के बाद केवल कागज के कार्टरिज बदलने होंगे। प्रोफेसर ने कहा कि यह उपकरण सीमित संसाधन वाले लोगों को ध्यान में रखकर बनाया गया है और इसे चलाने के लिए किसी विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा, “वर्तमान में जांच के लिए जो तकनीक इस्तेमाल की जा रही है वह बहुत महंगी है। इसके अतिरिक्त अवसंरचनात्मक आवश्यकताएं भी हैं। हमने महसूस किया कि इसका विकल्प आरटी-पीसीआर मशीनों जैसे उपकरण में बदलाव कर उत्पन्न नहीं किया जा सकता। हमने सोचा कि इसके लिए अलग हटकर कुछ करना होगा और जांच की नई तकनीक सामने लानी होगी जो चिकित्सा के मानकों पर खरी उतरे।” अनुसंधानकर्ताओं के दल में मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के शोधकर्ता शामिल हैं, जिनका नेतृत्व प्रोफेसर चक्रवर्ती कर रहे हैं और स्कूल ऑफ बायोसाइंस के शोधकर्ताओं का नेतृत्व सहायक प्रोफेसर अरिंदम मंडल कर रहे हैं। मंडल ने कहा, “कहीं भी ले जाए जा सकने वाला यह उपकरण न केवल कोविड-19 की जांच करने में सक्षम है बल्कि उसी प्रक्रिया से किसी भी आरएनए वायरस का पता लगा सकता है।” आईआईटी खड़गपुर के निदेशक प्रोफेसर वीके तिवारी ने कहा, “इस नवाचार का लक्ष्य आम लोगों को कम कीमत पर उच्च स्तरीय स्वास्थ्य तकनीक उपलब्ध कराना है। वैश्विक स्तर पर महामारी के प्रबंधन में यह उल्लेखनीय योगदान होगा।''

पटना के एम्स में कोविड-19 मरीज ने आत्महत्या की

कोविड-19 से संक्रमित 21 वर्षीय एक युवक ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में आत्महत्या कर ली। एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। लगभग एक महीने के भीतर इस अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति के आत्महत्या का यह दूसरा मामला है। कोविड-19 नोडल अधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि पटना जिले के रहने वाले राहुल कुमार ने शुक्रवार की शाम को अस्पताल की तीसरी मंजिल से छलांग लगा दी। उन्होंने बताया कि राहुल को 20 जुलाई को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डा. कुमार ने बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जाने के बाद युवक के तनाव में आने की आशंका है जिस कारण यह घटना हुई। कोविड-19 मरीज के आत्महत्या का एम्स, पटना में यह दूसरा मामला है जबकि राज्य में तीसरा मामला है। गौरतलब है कि 22 जून को 32 वर्षीय एक मरीज ने अस्पताल के खाली कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। वैशाली जिले के हाजीपुर में एक पृथक केन्द्र में गत 20 मई को दिल्ली से लौटे 30 वर्षीय एक प्रवासी श्रमिक ने आत्महत्या कर ली थी।

आंध्र प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 7,813 मामले

आंध्र प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 7,813 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद शनिवार को कुल संक्रमितों की संख्या 88,671 हो गई। स्वास्थ्य बुलेटिन में बताया गया कि 52 और लोगों की मौत हो गई जिसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 925 हो गई। बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 3,208 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिली है। अब तक 43,255 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। वहीं 44,431 मरीजों का इलाज चल रहा है। पूर्वी गोदावरी जिला में पिछले 24 घंटों में 1,324 नए मामले सामने आए जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 12,391 से अधिक हो गई। वहीं यहां 14 लोगों की मौत हो गई। वहीं पश्चिमी गोदावरी में संक्रमण के 1,012 नए मामले सामने आए हैं। बुलेटिन के अनुसार, पिछले सप्ताह तक संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित कुर्नूल जिले में संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़कर 10,357 हो गई जिनमें से 4,527 मरीजों का इलाज चल रहा है। राज्य में संक्रमित होने की दर 5.56 प्रतिशत है।

मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 716 नए मामले

मध्य प्रदेश में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 716 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाये गये लोगों की कुल संख्या 26,926 तक पहुंच गयी। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से आठ और व्यक्तियों की मौत हो गयी जिससे मरने वालों की संख्या 799 हो गयी है। मध्य प्रदेश के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से भोपाल में चार और इंदौर, उज्जैन, जबलपुर एवं छतरपुर में एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।’’ उन्होंने बताया, ‘‘राज्य में अब तक कोरोना वायरस से सबसे अधिक 303 मौत इन्दौर में हुई है। भोपाल में 154, उज्जैन में 72, सागर में 31, बुरहानपुर में 23, खंडवा में 19, जबलपुर में 24, खरगोन में 17, देवास, मंदसौर एवं ग्वालियर में 10-10 और धार, नीमच, मुरैना एवं राजगढ़ में नौ-नौ लोगों की मौत हुई है। बाकी मौतें अन्य जिलों में हुई हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में शनिवार को कोविड-19 के सबसे अधिक 153 नये मामले इंदौर जिले में आये हैं, जबकि भोपाल में 132, जबलपुर में 60, ग्वालियर में 29, बड़वानी में 28, छतरपुर में 26, सीहोर में 24 और विदिशा में खरगोन में 22-22 नये मामले आये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 26,926 संक्रमितों में से अब तक 18,488 मरीज स्वस्थ हो गये हैं और 7,639 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा कि शनिवार को 622 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में राज्य में कुल 2,980 निषिद्ध क्षेत्र हैं।

जम्मू-कश्मीर में कोविड-19 के 523 नए मामले सामने आए

जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से शनिवार को नौ और लोगों की मौत हो गई जिसके बाद मृतकों की संख्या 305 पहुंच गई। वहीं संक्रमण के 523 नए मामले सामने आए हैं जिससे केंद्रशासित प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 17,000 के पार चला गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया, ‘‘कोविड-19 से संक्रमित नौ लोगों की मौत जम्मू-कश्मीर में हुई। इनमें से एक व्यक्ति की मौत जम्मू तथा आठ लोगों की मौत कश्मीर घाटी में हुई।’’ केंद्र शासित प्रदेश में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 305 हो गई है, जिनमें से 283 मौतें घाटी तथा 22 लोगों की मौत जम्मू क्षेत्र में हुई। अधिकारियों ने बताया कि कुल नए मामलों में से जम्मू से 156 और कश्मीर से 367 मामले सामने आए हैं। केंद्र शासित प्रदेश में 7,483 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि 9,517 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। नए संक्रमितों में से 88 लोग हाल में जम्मू-कश्मीर लौटे थे। अधिकारी ने बताया कि नए मामलों में सबसे ज्यादा, मध्य कश्मीर के श्रीनगर जिले में 145 और जम्मू में 66 मामले आए हैं।

नागपुर में जनता कर्फ्यू को अच्छी प्रतिक्रिया मिली

महाराष्ट्र के नागपुर में शनिवार को जनता कर्फ्यू के दूसरे दिन लोगों ने अच्छी तरह पाबंदियों को पालन किया। इस दौरान केवल जरूरी सामानों की आपूर्ति से जुड़े प्रतिष्ठान ही खुले। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। जनता कर्फ्यू लागू करने का फैसला शुक्रवार को नागपुर नगर निगम के आयुक्त तुकाराम मुंडे, महापौर संदीप जोशी और अन्य निर्वाचित प्रतिनिधियों तथा और अधिकारियों की बैठक में लिया गया था। अधिकारियों ने कहा कि जनता कर्फ्यू के दौरान दवा की दुकानों, स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठान, किराने तथा सब्जी की दुकानें, डेयरी, ईंधन पंप और औद्योगिक इकाइयों के संचालन की ही अनुमति थी। बाजार इत्यादि बंद रहे। उन्होंने कहा कि जनता कर्फ्यू लागू कराने के लिये नागपुर शहर में लगभग 3 हजार पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था। महापौर संदीप जोशी ने कहा, 'जनता कर्फ्यू को लोगों की ओर से अच्छी प्रतिक्रिया मिली। हम उनके आभारी हैं।' नागपुर में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 150 से अधिक मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या 3,837 हो गई है।

जम्मू में 60 घंटे का लॉकडाउन लागू

पिछले सप्ताह कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि के चलते वायरस के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर जम्मू में शुक्रवार शाम से छह बजे से 60 घंटे का पूर्ण लॉकडाउन लागू किया गया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। जम्मू क्षेत्र में आने वाले 10 जिलों में से जम्मू जिले में कोरोना वायरस के कारण जान गंवाने वालों की संख्या सबसे अधिक 14 है जबकि संक्रमण के 472 मामले हैं। जम्मू-कश्मीर के 20 जिलों में से संक्रमण और मौत के मामलों में यह नौवें स्थान पर है। इस सूची में श्रीनगर जिला 82 मौत के मामलों और कोविड-19 के 2,088 उपचाराधीन मरीजों के साथ पहले स्थान पर है। एक अधिकारी ने कहा, 'सप्ताहांत लॉकडाउन प्रभावी रूप से जारी है। दिशानिर्देशों के उल्लंघन की कोई बड़ी सूचना नहीं है। यह सख्ती से लागू किया जा रहा है।' उन्होंने कहा कि विभिन्न इलाकों में कुछ लोग विभिन्न कारणों से बाहर निकले और उन्हें चेतावनी देकर वापस भेज दिया गया। केवल स्थानीय दवा दुकानों, फल, सब्जियों और दूध की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है। साथ ही हवाईअड्डा और रेलवे स्टेशन आने-जाने वालों को वैध टिकट दिखाने के बाद यात्रा की अनुमति दी गई। अधिकारी ने कहा कि आवश्यक सेवाओं में लगे सरकारी कर्मचारियों और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े कर्मियों को पहचान पत्र दिखाने के साथ छूट दी गई है। पिछले रविवार को जम्मू जिले के अधिकारियों ने संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए 24 जुलाई से सप्ताहांत के दौरान पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी। जम्मू की जिलाधिकारी सुषमा चौहान ने 24 जुलाई से हर शुक्रवार को शाम छह बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक के लिए पूर्ण लॉकडाउन लागू करने के आदेश दिए थे।

दिल्ली में संक्रमण के 1,142 नए मामले

दिल्ली में शनिवार को 1,142 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 1.29 लाख से अधिक हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, बीते 24 घंटे में 29 रोगियों की मौत भी हुई है। विभाग ने कहा कि दिल्ली में संक्रमितों की कुल संख्या 1,29,531 हो गई है। इससे पहले 20 जून को एक दिन में सामने आए संक्रमण के मामलों की संख्या गिरकर 954 रह गई थी। अगले दिन 1,349 नए मामले सामने आए थे। मंगलवार से प्रतिदिन एक हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। दिल्ली में अब भी 12,657 मरीजों का इलाज चल रहा है। जबकि शुक्रवार को इलाजरत मरीजों की संख्या 13,681 थी। 23 जून को दिल्ली में संक्रमण के, एक दिन में सबसे अधिक 3,947 मामले सामने आए थे।

इसे भी पढ़ें: दुनियाभर में कोरोना वायरस की चेन तोड़ने के लिए लिया जा रहा है तकनीक का सहारा

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि शहर के दो करोड़ लोग, उनकी सरकार और केन्द्र ने साथ मिलकर कोविड-19 को नियंत्रित करने में सफलता पा ली है लेकिन इस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। बुराड़ी में दिल्ली सरकार के 450 बिस्तरों वाले अस्पताल के उद्घाटन कार्यक्रम को आनलाइन संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि पिछले एक महीने में दिल्ली में कोविड से जुड़े मानदंडों में सुधार हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली के दो करोड़ लोगों, उनकी सरकार और केन्द्र सरकार ने साथ मिलकर कोविड-19 को नियंत्रित करने में सफलता पा ली है लेकिन यह कहना अभी सही नहीं होगा कि इस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई खत्म हो गई है।’’ मुख्यमंत्री ने इंगित किया कि पिछले एक महीने में संक्रमण के मामले कम हुए हैं, मृत्यु दर कम हुई है, लोगों के संक्रमण मुक्त होने की दर बढ़ी है और नए मामलों में भी कमी आयी है। उन्होंने कहा, ‘‘यह सभी लोगों के कठिन परिश्रम का परिणाम है।मैं सभी डॉक्टरों, नर्सों, स्वास्थ्य अधिकारियों और कर्मचारियों, अधिकारियों और अन्य सभी लोग, जिन्होंने इस लक्ष्य की प्राप्ति में मदद की है, को बधाई देना चाहता हूं।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि बुराड़ी के इस अस्पताल के शुरू होने से शहर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के लिए उपलब्ध बिस्तरों की संख्या बढ़ेगी। केजरीवाल ने कहा, ‘‘मुझे बुराड़ी अस्पताल का उद्घाटन करते हुए आज बहुत खुशी हो रही है। कोविड और अन्य कारणों से मैं आज वहां नहीं हूं। इस अस्पताल के शुरू होने से दिल्ली की स्वास्थ्य सुविधाओं में 450 बिस्तर और जुड़ जाएंगे।’’ अस्पताल का उद्घाटन स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने किया और मुख्यमंत्री वीडियो कांफ्रेंस के जरिए इसमें शामिल हुए। दिल्ली सरकार के बयान के अनुसार, इस अस्पताल में कुल 700 बिस्तर होंगे जिनमें से 125 बिस्तरों पर ऑक्सीजन की सुविधा होगी।

उत्तर प्रदेश में 39 और मौतें

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 से 39 और लोगो की मौत होने के साथ इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा शनिवार को 1387 पहुंच गया जबकि एक दिन में इस महामारी के सर्वाधिक 2971 नये मामले सामने आये। शनिवार को जारी सरकारी स्वास्थ बुलेटिन के मुताबिक अब तक उत्तर प्रदेश में 63,742 लोग कोविड-19 से संक्रमित हो चुके हैं। बुलेटिन के मुताबिक जिन 39 मरीजों की जान गयी उनमें कानपुर और वाराणसी में पांच-पांच रोगी, गोरखपुर में चार, प्रयागराज, बरेली, फिरोजाबाद और सुल्तानपुर में दो-दो रोगी थे जबकि लखनऊ, झांसी, मुरादाबाद, बुलंदशहर, हापुड., संभल, हरदोई, संत कबीरनगर, रामपुर, इटावा, कन्नौज, मऊ, पीलीभीत, रायबरेली, भदोही, बहराइच और बलरामपुर में भी एक एक रोगी की मौत हुई है। उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के 22,452 रोगी उपचाररत हैं जबकि 39,903 रोगी ठीक हो चुके हैं। शुक्रवार तक प्रदेश में इस बीमारी से मरने वालो की संख्या 1348 थी।

16 कंपनियों के लाइसेंस निलंबित

भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने त्वरित जांच उपकरण बेचने वाली तीन कंपनियों का लाइसेंस रद्द कर दिया है और 16 अन्य कंपनियों का लाइसेंस निलंबित कर दिया है। डीसीजीआई का कहना है कि अमेरिकी खाद्य एवं दवा प्रसाधन (यूएसएफडीए) ने इन कंपनियों को अपनी कोरोना वायरस सीरो जांच की सूची से निकाल दिया है और निर्देश दिया है इनका वितरण न किया जाए। कैडिला हेल्थकेयर, एमडीएएसी इंटरनेशनल और एन डब्ल्यू ओवरसीज का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है और ट्रांस एशिया बायो मेडिकल्स, कॉस्मेटिक साइंटिफिक, इन बायोस इंडिया, एस डी बायो सेंसर, एक्यूरेक्स बायो मेडिकल समेत 16 कंपनियों का लाइसेंस निलंबित कर दिया गया है। डीसीजीआई द्वारा एक आदेश में कहा गया कि इन कंपनियों को 17 जुलाई को कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा गया कि यूएसएफडीए द्वारा इन कंपनियों के जांच उपकरणों को सूची से हटाए जाने के बाद इनका लाइसेंस क्यों न रद्द किया जाए। कंपनियों को 20 जुलाई तक रिपोर्ट सौंपनी थी। डीसीजीआई द्वारा 21 जुलाई को सोलह कंपनियों को दिए आदेश में कहा गया, “यूएसएफडीए ने अपनी सूची से उक्त जांच उपकरण को क्यों हटाया इसके विषय में भेजे गए कारण बताओ नोटिस पर आपकी प्रतिक्रिया संतोषजनक नहीं है।” आदेश में कहा गया, “हालांकि अपने उत्पाद के बारे में अपने कहा है कि आयात लाइसेंस रद्द न किया जाए। इसलिए जनहित में आपका लाइसेंस अगले आदेश तक निलंबित किया जाता है।” जिन कंपनियों के लाइसेंस रद्द किए गए उनको दिए आदेश में कहा गया, “यूएसएफडीए ने अपनी सूची से उक्त जांच उपकरण क्यों हटाया और उसके वितरण पर पाबंदी क्यों लगाई इसके विषय में भेजे गए कारण बताओ नोटिस पर आपकी प्रतिक्रिया संतोषजनक नहीं है।” आदेश में कहा गया, “आपने कहा है कि आप अपने उत्पाद का लाइसेंस सरेंडर करना चाहते हैं। इसलिए जनहित में उक्त उत्पाद का आपका आयात लाइसेंस तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाता है।''

मामले एक साथ चरम पर नहीं पहुंचेंगे

भारत जैसे विशाल देश में कोविड-19 के मामले एक साथ चरम पर नहीं पहुंचेंगे और हर राज्य में इसका अपना वक्त होगा जो इस बात पर निर्भर करेगा कि उसके लोग कब इस संक्रमण की चपेट में आए । एक जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने यह बात कही है। भारतीय जन स्वास्थ्य संस्थान (आईआईपीएच) के निदेशक प्रोफेसर जीवीएस मूर्ति ने कहा कि दिल्ली जैसे राज्यों में इस महीने के अंत या अगस्त की शुरुआत में कोरोना वायरस का प्रकोप चरम पर पहुंच सकता है जबकि तमिलनाडु, महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे राज्यों में यह सितंबर के आसपास चरम पर पहुंच सकता है। उन्होंने कहा कि झारखंड जैसे राज्य में इसमें ज्यादा वक्त लग सकता है क्योंकि वहां प्रवासी मजदूरों के लौटने के बाद ही संक्रमण फैला है। उन्होंने कहा, ‘‘हर राज्य में इसका चरम अलग होगा और इस पर निर्भर करेगा कि उसके लोग इस संक्रमण की चपेट में कब आए। देश में हर जगह कोरोना वायरस का प्रकोप एक साथ चरम पर नहीं होने जा रहा।’’ उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए बिहार में अन्य शहरों खासतौर से मुंबई और दिल्ली से प्रवासी मजदूरों के लौटने के बाद अचानक से बड़ी संख्या में संक्रमण के मामले सामने आने लगे। मूर्ति ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित किसी मरीज को अपने परिवार के अन्य सदस्यों को संक्रमित करने में 10 से 14 दिन लगते हैं और फिर संक्रमण का नया दौर शुरू होगा। उन्होंने कहा कि सरकार को संक्रमण से निपटने के लिए एहतियाती कदमों को जारी रखने की जरूरत है और समुदाय को भी हाथ धोने और सामाजिक दूरी बनाए रखने जैसे दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करने की आवश्यकता है। उन्होंने घनी आबादी वाले इलाकों में तेजी से कदम उठाने पर भी जोर दिया। झारखंड, छत्तीसगढ़ और पूर्वी उत्तर प्रदेश में पहले बहुत कम मामले थे लेकिन जैसे ही प्रवासियों ने अपने घर लौटना शुरू किया तो मामले बढ़ने लगे। उन्होंने कहा, ‘‘वहां संक्रमण के मामलों को चरम पर पहुंचने में अधिक वक्त लगेगा। यह सितंबर के आखिर या अक्टूबर तक हो सकता है।’’ मूर्ति ने कहा कि लेकिन हरियाणा, तेलंगाना, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु जैसे राज्यों में सितंबर के मध्य तक कोरोना वायरस के सर्वाधिक मामले सामने आ जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में अगस्त के मध्य तक भी स्थिति चरम पर पहुंच सकती है। उदाहरण के लिए दिल्ली में इस महीने के अंत या अगस्त की शुरुआत में कोरोना वायरस की स्थिति सबसे खराब स्तर पर पहुंच सकती है। उन्होंने कहा कि घनी आबादी वाले इलाकों पर पूरी तरह नजर रखने की जरूरत है और उन जगहों पर तेजी से कदम उठाने चाहिए जहां मामले अचानक से बढ़े। मूर्ति ने कहा कि संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए जांच, निगरानी और इलाज सबसे महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अगर किसी को संक्रमित होने का संदेह हो तो उन्हें फौरन चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। बड़ी सभाओं से बचना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘एक समुदाय के तौर पर हम पूरा दारोमदार सरकार पर नहीं रख सकते। एहतियात बरतना हमारी जिम्मेदारी है।’’ सरकार के स्तर पर मूर्ति ने सुझाव दिया कि हैदराबाद जैसे शहर में नमूने एकत्रित करने के लिए मोबाइल लैब होनी चाहिए ताकि भीड़भाड़ से बचा जा सके।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना से संक्रमित

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये हैं। उन्हें शहर के चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया है। चौहान ने शनिवार को ट्वीट कर एवं संदेश जारी कर कहा, ‘‘मेरे प्रिय प्रदेशवासियों, मुझमें कोविड-19 के लक्षण नजर आ रहे थे। जांच के बाद मेरी रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई है। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वे अपनी कोरोना वायरस जांच करवा लें। मेरे निकट संपर्क वाले लोग पृथक-वास में चले जाएं।’’ अस्पताल में भर्ती होने से पहले उन्होंने कहा, ‘‘मुझे डॉक्टर्स ने अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी है। मैं कोविड-19 के लिए निर्दिष्ट चिरायु अस्पताल (भोपाल) में भर्ती होने जा रहा हूँ।’’ चौहान ने कहा कि कोरोना वायरस के मरीज को ज़िद नहीं करना चाहिए कि हम घर में ही पृथक रहेंगे या अस्पताल नहीं जायेंगे। हमें डॉक्टर्स के निर्देश का पालन करना चाहिये। उन्होंने कहा, ‘‘मैं अपने सभी साथियों से अपील करता हूँ कि कोविड-19 के ज़रा भी लक्षण आये तो लापरवाही न बरतें, तत्काल टेस्ट कराएँ और उपचार प्रारम्भ करें।’’ चौहान ने कहा, ‘‘मैं कोरोना वायरस दिशा-निर्देश का पूरा पालन कर रहा हूं। प्रदेश की जनता से मेरी अपील है कि सावधानी रखें, जरा सी असावधानी कोरोना वायरस को निमंत्रण देती है।’’ मुख्यमंत्री ने बताया, ‘‘मैंने कोरोना वायरस से सावधान रहने के हर संभव प्रयास किए, लेकिन समस्याओं को लेकर कई लोग मिलते ही थे। मेरी उन सब को सलाह है कि जो मुझसे मिले वह अपना टेस्ट करवा लें।’’ उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना वायरस का समय पर इलाज होता है तो यह बिल्कुल ठीक हो जाता है। चौहान ने बताया, ‘‘मैं 25 मार्च से प्रत्येक शाम को कोरोना वायरस की समीक्षा बैठक करता रहा हूँ। मैं यथासंभव अब वीडियो कॉन्फ्रेंस से कोरोना वायरस की समीक्षा करने का प्रयास करूंगा और मेरी अनुपस्थिति में यह बैठक प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरीय विकास एवं प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं स्वयं भी पृथक-वास में रहते हुए इलाज के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस नियंत्रण के हर संभव प्रयास करता रहूंगा। चौहान ने कहा, ‘‘आप सब सावधान रहें, सुरक्षित रहे और गाइडलाइन का पालन जरूर करें।'' इसी बीच, मध्य प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर ने बताया कि चौहान को शहर के कोविड-19 अस्पताल चिरायु मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। उन्होंने बताया, ‘‘मुख्यमंत्री ने कहा कि वह चिरायु अस्पताल में आम आदमी की तरह इलाज कराएंगे।’’ मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया, ‘‘मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अस्वस्थ होने की जानकारी मिली। ईश्वर से उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।’’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘दुख है शिवराज जी आप कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। ईश्वर आपको शीघ्र स्वस्थ करें। आपको सामाजिक दूरी का ख़्याल रखना था जो आपने नहीं रखा। मुझ पर तो भोपाल पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली थी, आप पर कैसे करते। आगे अपना ख़्याल रखें।’’ वहीं, भाजपा सांसद एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट किया, ‘‘ईश्वर से आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करता हूँ। आप जल्द ही स्वस्थ होकर प्रदेशवासियों की सेवा करें, ऐसी कामना करता हूँ।’’

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट ने बदल दिये हैं जीवन के मायने, इसे स्वीकार कर आगे बढ़ें

अरुणाचल प्रदेश में मामले 1,000 के पार

अरुणाचल प्रदेश में 33 सुरक्षाकर्मियों समेत 65 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद संक्रमण के कुल मामले 1,000 के पार चले गए हैं। राज्य के निगरानी अधिकारी डॉ. एल जम्पा ने बताया कि नए मरीजों के सामने आने से संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,056 हो गए हैं। उन्होंने बताया कि नए मामलों में 30 पापुम परे जिले, पांच तिराप, तीन लोहित, दो लोअर दिबांग घाटी और एक-एक मामला नमसई और पश्चिम कामेंग तथा 23 कैपिटल कॉम्प्लेक्स क्षेत्र से सामने आए। उन्होंने कहा, ‘‘पापुम परे में संक्रमित पाए गए सभी 30 लोग भारत तिब्बत सीमा पुलिस कर्मी हैं और वे पृथक केंद्र में रह रहे हैं जबकि कैपिटल कॉम्प्लेक्स में 23 मामले क्षेत्र के विभिन्न इलाकों से सामने आए हैं।’’ तिराप में पांच नए मरीजों में से दो राज्य पुलिसकर्मी हैं। उन्होंने बताया कि जल संसाधन विभाग का एक कर्मचारी और असम से लौटा एक शख्स भी जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। जम्पा ने बताया कि लोहित जिले में संक्रमित तीन लोग सीमा सड़क कार्य बल (बीआरटीएफ) से हैं। वे हाल ही में उत्तर प्रदेश से लौटे और पृथक केंद्र में रह रहे थे। राज्य निगरानी अधिकारी ने बताया कि लोअर दिबांग घाटी जिले में रोइंग के दो मरीज असम से लौटे थे जबकि पश्चिम कामेंग में संक्रमित एक शख्स सेना का कर्मचारी है जो हाल ही में आंध्र प्रदेश से लौटा था। उन्होंने बताया कि नमसई का मरीज भी असम से लौटा था। जम्पा ने कहा, ‘‘छह को छोड़कर सभी मरीजों में लक्षण नहीं हैं और उन्हें कोविड देखभाल केंद्रों में ले जाया गया।’’ अरुणाचल प्रदेश में देश के अन्य हिस्सों से प्रवासियों के लौटने के बाद कोरोना वायरस के मामले बढ़ गए हैं। जम्पा ने बताया कि राज्य में एक जुलाई के बाद से कोरोना वायरस के मामले बढ़ गए हैं। इस महीने 865 लोग संक्रमित पाए गए। राज्य में कोविड-19 का पहला मामला दो अप्रैल को सामने आया था और वह व्यक्ति 16 अप्रैल को स्वस्थ हो गया। राज्य में 24 मई को करीब छह हफ्तों के अंतर के बाद दूसरा मामला सामने आया। कैपिटल कॉम्प्लेक्स में सबसे अधिक 374 मामले सामने आए। कैपिटल कॉम्प्लेक्स में ईटानगर, नहार्लगुन, निर्जुली और बंदेरदेवा इलाके शामिल हैं। इसके बाद पापुम परे में 57, नमसई में 42, पूर्वी सियांग में 39 और चांगलांग जिलों में 20 मामले सामने आए। अधिकारी ने बताया कि कैपिटल कॉम्प्लेक्स में 45, चांगलांग जिले में 10, लोअर सुबनसिरी में दो और नमसई में एक मरीज को शुक्रवार को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। राज्य में अब भी 661 लोग संक्रमित हैं जबकि 392 लोग इस बीमारी से उबर चुके हैं और तीन की मौत हो चुकी है। जम्पा ने कहा, ‘‘राज्य में स्वस्थ होने की दर 35 प्रतिशत है।’’ उन्होंने बताया कि राज्य में अभी तक 53,335 नमूनों की जांच की गई है।''

त्रिपुरा में कोविड-19 के मामले 3778 हुए

त्रिपुरा में कोविड-19 से एक और मरीज की मौत के बाद मृतक संख्या 11 हो गई है। वहीं राज्य में संक्रमण के 106 नए मामले सामने आने के बाद कुल मामले बढ़कर 3,778 हो गए। स्वास्थ्य अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि गोमती जिले के उदयपुर में शुक्रवार को कोविड-19 के 70 वर्षीय मरीज की मौत हो गई। मरीज को दिल की बीमारी और उच्च रक्तचाप की भी समस्या थी। मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब ने शुक्रवार देर रात ट्वीट किया, “4,045 नमूनों की जांच की गई जिनमें से 106 नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई।” राज्य में फिलहाल 1,618 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि 2,131 मरीज ठीक हो चुके हैं और 18 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। इस बीच शिक्षा मंत्री एवं मंत्रालय के प्रवक्ता रतन लाल नाथ ने कहा कि कोविड-19 के मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए 27 जुलाई से घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में संक्रमण की दर 2.86 प्रतिशत और संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर 0.27 प्रतिशत है। राष्ट्रीय स्तर पर यह औसत क्रमश: 8.36 प्रतिशत और 2.83 प्रतिशत है।

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से छह और मौत

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से शनिवार को छह और लोगों की मौत हो गयी जिससे राज्य में संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 608 हो गई है। इसके साथ ही राज्य में 557 नये मामले सामने आने से राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या 34,735 हो गयी जिनमें से 9,470 रोगी उपचाराधीन हैं। एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार को कोटा व अजमेर में तीन-तीन और संक्रमितों की मौत हो गयी। इससे राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 608 हो गई है। केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 179 हो गयी है जबकि जोधपुर में 79, भरतपुर में 46, कोटा में 33, अजमेर में 31, बीकानेर में 30, पाली में 24, नागौर में 22 और धौलपुर में 15 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। अन्य राज्यों के 34 रोगियों की भी यहां मौत हुई है। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह साढ़े दस बजे तक 557 नये मामले आए जिनमें अलवर में 313, कोटा में 80, जयपुर में 58, अजमेर में 41 और बाड़मेर में 20 नये मामले सामने आये। राज्यभर में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण कई थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है।

इसे भी पढ़ें: पर्यावरण हितैषी ईद मनाएँ, पशुओं को मारने की बजाय कुर्बानी का केक काटें

ब्राजील के राष्ट्रपति का संदेश

ब्राजील के राष्ट्रपति जार बोलसोनारो ने शनिवार को बताया कि अब वह कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। गौरतलब है कि बोलसोनारो ने सात जुलाई को पहली जांच के बाद अपने संक्रमित होने की घोषणा की थी, और आज चौथी जांच के बाद संक्रमण मुक्त होने की बात कही है। जांच रिपोर्ट ‘नेगेटिव’ आने की सूचना देते हुए बोलसोनारो ने फेसबुक पर लिखा है ‘‘सभी को सुप्रभात।’’ हालांकि 65 वर्षीय नेता ने यह नहीं बताया है कि यह अंतिम जांच उन्होंने कब करायी। बुधवार को हुई तीसरी जांच में भी उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। बोलसोनारो ने मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के एक डिब्बे के साथ अपनी एक तस्वीर भी साझाा की है, हालांकि यह दवा कोविड-19 के इलाज में बहुत प्रभावी नहीं रही है।

दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के मामले बढ़े

दक्षिण कोरिया में शनिवार को चार महीने में पहली बार कोरोना वायरस के 100 से अधिक मामले सामने आए, वहीं दक्षिण अफ्रीका में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हुई है और अमेरिका के कुछ राज्यों ने महामारी के खिलाफ पाबंदियां कड़ी की हैं। दक्षिण कोरिया में 113 मामलों में 36 इराक से लौटे लोग हैं और 32 एक रूसी जहाज के चालक दल के सदस्य हैं। यह जानकारी सरकार ने दी। अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि विदेशों से लौटने वालों के कारण मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है और लोगों से भयभीत नहीं होने की अपील की। चीन में कोरोना वायरस के मामलों में कमी आने के बाद उसने महामारी के खिलाफ पाबंदियों में काफी छूट दी है लेकिन वहां 34 नये मामले सामने आए हैं। उनमें 29 ऐसे मामले हैं जो देश के अंदर संक्रमित हुए हैं। जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय द्वारा एकत्रित आंकड़ों के मुताबिक पूरी दुनिया में छह लाख 38 हजार 352 लोगों की मौत हो चुकी है और एक करोड़ 56 लाख 72 हजार 841 लोग अभी तक संक्रमित हुए हैं। अफ्रीका में सबसे बुरी तरह प्रभावित देश दक्षिण अफ्रीका में 13,104 नये मामलों की पुष्टि हुई है जिससे कुल संक्रमितों की संख्या चार लाख आठ हजार 52 हो गई है। सरकार ने बताया कि 6093 लोगों की महामारी से मौत हो चुकी है। राष्ट्रपति साइरिल रामफोसा ने बृहस्पतिवार को बताया कि बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूलों में एक महीने की छुट्टी रहेगी। बढ़ते संक्रमण के बावजूद रेस्तरां और होटल एवं पर्यटन क्षेत्र में काम करने वाले लोगों ने इस हफ्ते प्रदर्शन किए और अपने उद्योगों पर छूट देने की मांग की। अमेरिका और ब्राजील के बाद दुनिया के तीसरे सर्वाधिक संक्रमित देश भारत में 740 लोगों की मौत के साथ ही कुल मृतकों की संख्या 30,601 हो गई है। सरकार ने बताया कि 49,310 नये मामलों के साथ कुल संक्रमित लोगों की संख्या 12 लाख 87 हजार 945 हो गई है। गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को परामर्श जारी कर 15 अगस्त को होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोहों में ज्यादा संख्या में लोगों से एकत्रित होने से बचने के लिए कहा। अमेरिका में मिसिसिपी के गवर्नर टेटे रीव्स ने बार पर पाबंदियों को कड़ा किया ताकि ‘‘युवा, नशे में धुत, असावधान’’ लोगों को बचाया जा सके। बार को पहले ही आधी क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी गई थी। इसी तरह न्यू आर्लियंस ने भी पाबंदियां कड़ी की हैं। अमेरिका में कोरोना वायरस से अभी तक एक लाख 45 हजार 391 लोगों की मौत हो चुकी है और 41 लाख लोग संक्रमित हुए हैं। ऑस्ट्रेलिया में दक्षिणी राज्य विक्टोरिया के प्रीमियर डैनियल एंड्रयूज ने कोविड-19 से पांच लोगों की मौत होने और 357 नये मामले आने की घोषणा की। यूरोप में फ्रांस के प्रधानमंत्री जीन कास्टेक्स ने घोषणा की कि अमेरिका और 15 अन्य देश जहां संक्रमण ज्यादा है वहां से आने वाले लोगों की जांच होगी और उन्हें साबित करना होगा कि पिछले 72 घंटे में उनकी जांच रिपोर्ट नेगेटिव रही है। यमन में वायरस से 97 मेडिकल कर्मचारियों की मौत हो चुकी है। यह जानकारी मानवीय सहायता समूह मेडग्लोबल ने एक रिपोर्ट में दी।

-नीरज कुमार दुबे





Related Topics
covid-19 test kit covid-19 test kit in India corona vaccine Unlock2 PM Modi coronavirus मोदी लॉकडाउन कोरोना वायरस कोरोना संकट कोरोना वायरस से बचाव के उपाय आरोग्य सेतु एप कोरोना टेस्ट नरेंद्र मोदी अर्थव्यवस्था भारतीय अर्थव्यवस्था एमएसएमई केंद्रीय मंत्रिमंडल Coronavirus India LIVE Updates COVID-19 recovery rate India Lockdown News Live Updates coronavirus coronavirus latest news india coronavirus cases lockdown news lockdown latest news coronavirus today news corona cases in india india news coronavirus news covid 19 india coronavirus live news corona news corona latest news india coronavirus coronavirus live news coronavirus latest news in india coronavirus live update covid 19 tracker india covid 19 tracker covid 19 tracker live corona cases in india corona cases in india delhi coronavirus news Union Health Minister Dr Harsh Vardhan केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय कोरोना वायरस संक्रमण कोविड-19 एच1एन1 फ्लू कोरोना वायरस महामारी व्हाइट हाउस ऑक्सफोर्ड डॉ. हर्षवर्धन शिवराज सिंह चौहान जम्मू-कश्मीर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान