Unlock 5 के 29वें दिन संक्रमण मुक्त हो चुके लोगों की संख्या 73 लाख के पार, सक्रिय मामलों में गिरावट जारी

corona
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शहर में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है और संक्रमितों के सम्पर्क में आए लोगों की पहचान तथा जांच अब और तेजी से की जा रही है।

नयी दिल्ली। भारत में कोविड-19 के 49,881 नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या 80 लाख के पार पहुंच गई। वहीं 73.15 लाख लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर 90.99 प्रतिशत हो गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार देश में अभी तक कोविड-19 के कुल 80,40,203 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, पिछले 24 घंटे में 517 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,20,527 हो गई। देश में कोविड-19 से मृत्यु दर 1.49 प्रतिशत है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी 6,03,687 लोगों का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 7.5 प्रतिशत है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 28 अक्टूबर तक कुल 10,65,63,440 नमूनों की कोविड-19 की जांच की गई, जिनमें से 10,75,760 नमूनों का परीक्षण बुधवार को ही किया गया।

भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को संक्रमितों की संख्या 40 लाख के पार चली गई थी। वहीं, कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख के पार, 28 सितम्बर को 60 लाख और 11 अक्टूबर को 70 लाख के पार चले गए थे। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिन 517 लोगों की मौत हुई, उनमें से सबसे अधिक 91 लोग महाराष्ट्र के थे। इनके अलावा पश्चिम बंगाल के 60, कर्नाटक तथा छत्तीसगढ़ के 55, दिल्ली के 40, तमिलनाडु के 35 और केरल के 27 लोग थे। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, वायरस से देश में अभी तक 1,20,527 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से सबसे अधिक 43,554 लोग महाराष्ट्र के थे। इनके अलावा कर्नाटक के 11,046 , तमिलनाडु के 11,018, उत्तर प्रदेश के 6,958, आंध्र प्रदेश के 6,643, पश्चिम बंगाल के 6,664, दिल्ली के 6,396, पंजाब के 4,158 और गुजरात के 3701 लोग थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 70 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं। मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था में सुधार की रफ्तार उम्मीद से तेज, 5,000 अरब डॉलर अर्थव्यवस्था के लक्ष्य पर कायम: मोदी

देश में पिछले छह सप्ताह में कोविड-19 के लिए प्रतिदिन लगभग 11 लाख नमूनों की जांच: स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि पिछले छह सप्ताह में कोविड-19 के लिए औसतन लगभग 11 लाख नमूनों की जांच की गई है और जांच की कुल संख्या 10.65 करोड़ के पार पहुंच चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि 15 लाख जांच अब प्रतिदिन की जा सकती हैं। उसने बताया, ‘‘पिछले तीन सप्ताह में संक्रमण दर में गिरावट का रुझान देश की जांच सुविधाओं के व्यापक विस्तार का प्रमाण है।’’ बयान के अनुसार, ‘‘पिछले 24 घंटे में 10,75,760 नमूनों की जांच की गई और अब जांच की कुल संख्या 10.65 करोड़ (10,65,63,440) के पार पहुंच चुकी है। पिछले छह सप्ताह के दौरान लगभग 11 लाख नमूनों की जांच प्रतिदिन की गई है।’’ मंत्रालय ने बताया कि 79 प्रतिशत नये मामले 10 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से हैं। उसने बताया, ‘‘नये मामलों में से सबसे ज्यादा आठ हजार से अधिक मामले केरल में सामने आये है जबकि महाराष्ट्र में छह हजार से अधिक मामले सामने आये है।’’ बयान में बताया गया है, ‘‘इस महामारी से स्वस्थ हुए लोगों की संख्या 73 लाख (73,15,989) के पार पहुंच चुकी हैं।’’ मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कुल 56,480 लोग स्वस्थ हुए और 49,881 नये मामले सामने आये।

इसे भी पढ़ें: अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में कोरोना वायरस के 15 नए मामले

न्यायालय ने कोविड-19 उपचार में रेमडेसिविर, फेवीपिराविर के इस्तेमाल को लेकर केन्द्र से मांगा जवाब

उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 के इलाज के लिये बगैर किसी मंजूरी के ही कथित रूप से रेमडेसिविर और फेवीपिराविर दवाओं के इस्तेमाल को लेकर दायर याचिका पर बृहस्पतिवार को केन्द्र से जवाब मांगा। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन की पीठ ने इस याचिका पर केन्द्र को नोटिस जारी किया और उसे चारसप्ताह के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया। यह जनहित याचिका अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने दायर की है। याचिकाकर्ता ने विश्व स्वास्थ संगठन की 15 अक्टूबर की रिपोर्ट का हवाला दिया और कहा कि कोरोना वायरस के लियेइन दवाओं को आधिकारिक रूप से कहीं भी नामित नहीं किया गया है। पीठ ने कहा कि वह इस बारे में केन्द्र सरकार को सचेत करने जा रही है और इसीलिए उसे नोटिस जारी कर रही है। इससे पहले, 16 सितंबर को न्यायालय ने नयी दवायें और क्लिनिकल ट्रायल नियम, 2018 का उल्लेख करते हुये कहा था कि सरकार ने कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिये इन दवाओं के इस्तेमाल की अनुमति दी है। शीर्ष अदालत कोविड-19 के इलाज की इन दो दवाओं का कथित रूप से बगैर वैध लाइसेंस के ही उत्पादन और बिक्री करने वाली दस भारतीय दवा कंपनियों के खिलाफ सीबीआई द्वारा प्राथमिकी दर्ज करने के लिये दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। रेमडेसिविर और फेवीपिराविर एंटी वायरल दवायें हैं और कोविड-19 के मरीजों के इलाज में इनकी उपयोगिता को लेकर चिकित्सा विशेषज्ञों में बहस छिड़ी हुयी है।

इसे भी पढ़ें: ओडिशा में कोरोना के 1,617 नए मरीज सामने आए, 13 और लोगों की मौत

कोविड-19 पर रणनीति में किया बदलाव, संक्रमितों के सम्पर्क में आए लोगों की पहचान, जांच में तेजी :जैन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शहर में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है और संक्रमितों के सम्पर्क में आए लोगों की पहचान तथा जांच अब और तेजी से की जा रही है। जैन ने पत्रकारों से कहा कि कोविड-19 के नये मामले तेजी से बढ़ने को लेकर इसे संक्रमण के प्रसार की ‘‘तीसरी लहर’’ कहना अभी जल्दबाजी होगी। त्योहारों के मौसम और बढ़ते वायु प्रदूषण के बीच दिल्ली में बुधवार को पहली बार कोविड-19 के सर्वाधिक 5,600 से अधिक मामले सामने आए थे। राष्ट्रीय राजधानी में अचानक पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के नये मामले तेजी से बढ़े हैं। जैन ने कहा, ‘‘ हमने अपनी रणनीति में बदलाव किया है और अब हम संक्रमितव्यक्तियों के सम्पर्क में आए लोगों की और तेजी से पहचान और जांच कर रहे हैं। इसलिए भी मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।’’ उन्होंने कहा कि संक्रमित व्यक्तियों के पूरे परिवार, करीबी लोगों, जिनमें इस रोग के कोई लक्षण नहीं है, उनकी भी जांच की जा रही है। आरटी-पीसीआर जांच भी बढ़ाई गई है। विशेषज्ञों द्वारा एक दिन में 15,000 मामले सामने आने का अनुमान लगाए जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘ नए मामलों में वृद्धि को देखते हुए विशेषज्ञों ने यह अनुमान लगाया है, लेकिन मामले उस स्तर तक नहीं पहुंचेंगे। हालांकि, हम पूरी तरह तैयार रहना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना पर रणनीति में किया बदलाव, संक्रमितों के सम्पर्क में आए लोगों की जांच में तेजी: सत्येंद्र जैन

महाराष्ट्र के मंत्री दिलीप वालसे पाटिल कोरोना वायरस से संक्रमित हुए

महाराष्ट्र के मंत्री एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता दिलीप वालसे पाटिल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनके कोरोना वायरस जांच में, संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और वह इसका उपचार करा रहे हैं। पिछले कुछ महीनों में राज्य के एक दर्जन से अधिक मंत्री संक्रमित हुए हैं, जिनमें उप मुख्यमंत्री अजित पवार भी शामिल हैं। आबकारी एवं श्रम विभाग के मंत्री पाटिल ने ट्विटर पर कहा कि उन्होंने कोविड-19 की जांच कराई थी और उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई। मंत्री ने बताया कि वह उपचाराधीन हैं। साथ ही, उन्होंने संपर्क में आए लोगों से एहतियात के तौर पर अपनी जांच कराने का अनुरोध किया।

इसे भी पढ़ें: कपिल देव के सेहत में सुधार, वीडियो संदेश में कहा- अच्छा महसूस कर रहा हूं

कोविड-19 से 25 और लोगों की मौत, 1979 नए मामले सामने आये

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 संक्रमित 25 और लोगों की मौत हो गई तथा 1979 नए मरीजों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बृहस्पतिवार को बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में कोविड-19 से 25 और मरीजों की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में अब तक इस वायरस से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 6983 हो गई है। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान 1979 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि की गई जबकि इसी दौरान 2465 मरीज पूरी तरह ठीक भी हुए हैं। प्रदेश में मरीजों के ठीक होने की दर 93.33 प्रतिशत हो गई है। प्रसाद ने बताया कि राज्य में अब तक कोविड-19 संक्रमण के 477895 मामले आ चुके हैं जिनमें से 446054 मरीज पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं। राज्य में इस वक्त 24858 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बुधवार को राज्य में 138027 नमूनों की जांच की गई। प्रदेश में अब तक एक करोड़ 45 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में कोरोना संक्रमण के 181 नए मामले, दो और मरीजों की मौत

झारखंड में कोविड-19 के 345 नये मामले सामने आये, चार और मरीजों की मौत

झारखंड में पिछले चौबीस घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण से चार और व्यक्तियों की मौत हो गयी जिससे राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 880 हो गयी। वहीं आज कोविड-19 के 345 नये मामले सामने आये जिन्हें मिलाकर राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 100569 हो गयी। स्वास्थ्य विभाग की आज दिन में जारी रिपोर्ट के अनुसार राज्य में पिछले चौबीस घंटे में चार और संक्रमितों की मौत हो गयी जिन्हें मिलाकर राज्य में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 880 हो गयी। इसमें कहा गया है कि इसके अलावा राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले चौबीस घंटे में 345 नये मामले सामने आये जिससे राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 100569 हो गयी है। झारखंड राज्य के 100569 संक्रमितों में से 94356 अब तक ठीक होकर अपने घरों को लौट चुके हैं। इसके अलावा 5333 अन्य संक्रमितों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में जारी है जबकि 880 अन्य की मौत हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें: मिजोरम में 20 स्कूली छात्रों समेत कोरोना के 49 नए मरीज मिले

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,902 नये मामले सामने आये जिसके बाद प्रदेश में इससे संक्रमित होने वाले लोगों की कुल संख्या बृहस्पतिवार को बढ़ कर 16,66,668 हो गयी । स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में 156 लोगों की मौत हो गयी है जिससे राज्य में कोविड-19 की वजह से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़ कर 43,710 हो गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सफल इलाज के बाद 7,883 मरीज ठीक हुये हैं। इन्हें मिला कर राज्य में अब तक संक्रमण मुक्त होने वाले मरीजों की कुल संख्या बढ़ कर 14,94,809 हो गयी है। अधिकारी के अनुसार, प्रदेश में फिलहाल 1,27,603 मरीजों का इलाज चल रहा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


Tags

अन्य न्यूज़