Unlock 5 के 31वें दिन देश में कोरोना संबंधी मृत्युदर 1.5 प्रतिशत से नीचे आई

corona
विशेषज्ञों का मानना है कि दिल्ली में बड़ी संख्या में अप्रामाणिक रैपिड एंटीजन जांच होने की वजह से ऐसे समय में कोविड-19 के मामलों में इजाफा होने की आशंका है, जब प्रदूषण बढ़ रहा है तथा त्योहारों के मौसम में बाजारों में भीड़ है।

भारत में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की मृत्यु दर (सीएफआर) शनिवार को 1.5 प्रतिशत से नीचे आ गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी और मृत्यु दर को नीचे रखने का श्रेय केंद्र सरकार के नेतृत्व वाली ‘‘जांच करने, संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने और उपचार करने’’ की रणनीति को दिया। उसने बताया कि देश में प्रति 10 लाख लोगों में मौत की दर बहुत कम (88) है। मंत्रालय ने बताया कि 23 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में सीएफआर राष्ट्रीय औसत से कम है, जबकि कुल मृतकों में से 65 प्रतिशत लोगों की मौत पांच राज्यों में हुई है। उसने बताया कि शुक्रवार को कुल 551 लोगों की मौत हुई और संक्रमण से रोजाना मारे जा रहे लोगों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। मंत्रालय ने बताया कि सीएफआर गिरकर 1.49 प्रतिशत हो गई है। उसने एक बयान में कहा कि ‘जांच करने, संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने और उनका उपचार करने’ की केंद्र सरकार के नेतृत्व वाली रणनीति के तहत महामारी को काबू करने की प्रभावी योजना, आक्रामक तरीके से जांच करने और मानक क्लीनिकल प्रबंधन प्रोटोकॉल पर ध्यान केंद्रित किया गया है। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने इस रणनीति को प्रभावी तरीके से लागू किया है, जिसके कारण संक्रमण का शुरुआत में ही पता लगाने, संक्रमित व्यक्तियों को तत्काल पृथक-वास में रखने और अस्पताल में भर्ती लोगों के समय से क्लीनिकल प्रबंधन में मदद मिली। उसने कहा, ‘‘इन बातों ने यह सुनिश्चित किया कि भारत में कोविड-19 के कारण मौत के मामले कम रहें।’’

मंत्रालय ने बताया कि जिन लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई है, उनमें से 65 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र (36.04 प्रतिशत), कर्नाटक (9.16 प्रतिशत), तमिलनाडु (9.12 प्रतिशत), उत्तर प्रदेश (5.76 प्रतिशत) और पश्चिम बंगाल (5.58 प्रतिशत) से आये हैं। उसने बताया कि मौत के 85 प्रतिशत मामले 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों--महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, गुजरात और मध्य प्रदेश से हैं। मंत्रालय ने बताया कि भारत में शुक्रवार को59,454 और लोग संक्रमणमुक्त हुए, जबकि संक्रमण के 48,268 नए मामले सामने आए। देश में अब तक संक्रमणमुक्त हुए लोगों की संख्या 74,32,829 हो गई है। उसने कहा, ‘‘एक दिन में संक्रमणमुक्त हुए लोगों की अधिक संख्या दर्शाती है कि संक्रमण के बाद स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर लगातार बढ़ रही है और यह इस समय 91.34 प्रतिशत है।’’ मंत्रालय ने कहा, ‘‘भारत में उपचाराधीन मामलों की संख्या लगातार कम हो रही है। देश में अब तक संक्रमित पाए जा चुके लोगों में से मात्र 7.16 प्रतिशत लोगों का उपचार चल रहा है। इस समय 5,82,649 लोग उपचाराधीन हैं।’’ देश में उपचाराधीन लोगों की संख्या शनिवार को लगातार दूसरे दिन छह लाख से कम रही। मंत्रालय ने बताया कि जो लोग स्वस्थ हुए हैं, उनमें से 79 प्रतिशत लोग 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में हैं। उसने कहा, ‘‘कर्नाटक और महाराष्ट्र में एक दिन में सर्वाधिक 8,000 से अधिक लोग स्वस्थ हुए। इसके बाद केरल में एक दिन में 7,000 से अधिक लोग संक्रमणमुक्त हुए।’’ मंत्रालय ने बताया कि संक्रमण के जो 48,268 नए मामले सामने आए हैं, उनमें से 78 प्रतिशत मामले 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में सामने आए। इसके अलावा शुक्रवार को जिन 551 लोगों की मौत हुई है, उनमें से करीब 83 प्रतिशत लोग 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों से थे। इनमें से महाराष्ट्र में 23 प्रतिशत लोगों (127) की मौत हुई। देश में अब तक 81,37,119 लोग संक्रमित हो चुके हैं और कुल 1,21,641 लोगों की मौत हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,548 नए मामले, 74 और मरीजों की मौत

तमिलनाडु में नवंबर से पुनः खुलेंगे स्कूल, कालेज सिनेमाघर

तमिलनाडु सरकार ने प्रतिबंधों में ढील देते हुए तथा मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करते हुए अगले महीने से स्कूल, कालेज, सिनेमाघर, चिड़ियाघर इत्यादि पुनः खोलने की मंजूरी शनिवार को दी। केंद्र सरकार के निर्णय के मुताबिक, उपनगरीय ट्रेन सेवा के पुनः संचालन को मंजूरी मिल चुकी है। मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने एक आधिकारिक वक्तव्य में कहा कि स्कूल, सभी कालेज, शोध एवं अन्य शैक्षणिक संस्थान और छात्रावासों को 16 नवंबर से खोलने की अनुमति दी जाती है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं ही संचालित होंगी। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में कोरोना के 3,014 नए मरीज मिले, 28 मरीजों की मौत

आंध्र प्रदेश में अब तक कुल 80 लाख नमूनों की कोविड-19 जांच की गयी

आंध्र प्रदेश में शनिवार तक 80 लाख नमूनों की कोरोना वायरस जांच की जा चुकी है जिसमें से अब तक कुल 8,23,348 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। ताजा बुलेटिन के अनुसार शनिवार रात नौ बजे तक पिछले चौबीस घंटे में संक्रमण के 2,783 नए मामले सामने आए और कोविड-19 से 14 और मरीजों की मौत हो गई। बुलेटिन के अनुसार इस दौरान 3,708 मरीज ठीक हो गए। इसमें कहा गया है कि राज्य में अब तक महामारी से 6,690 मरीजों की मौत हो चुकी है और 7,92,083 मरीज ठीक हो चुके हैं। बुलेटिन के मुताबिक प्रदेश में कोविड-19 मरीजों के ठीक होने की दर 96.20 प्रतिशत है और इस महामारी से होने वाली मौत की दर 0.81 फीसदी है।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से नौ और मौत, 1780 नये मामले

कोविड-19 के मामलों में कमी आने के बाद गोवा के अस्पतालों में खाली पड़े हैं बिस्तर

गोवा में कोविड-19 के मामलों में तेजी से कमी आने और ज्यादातर संक्रमित लोगों द्वारा घरों में पृथक-वास का विकल्प चुनने के बाद सरकारी और निजी अस्पतालों में हर गुजरते दिन खाली बिस्तरों की संख्या बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह दावा किया। हालांकि राज्य के मंत्री विश्वजीत राणे ने कहा कि सरकार आत्मसंतुष्ट नहीं हो सकती है क्योंकि नवंबर और दिसंबर में संक्रमण की ‘दूसरी लहर’ की आशंका है। वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार तक सरकारी कोविड-19 केंद्रों और निजी अस्पतालों में 805 बिस्तरों में से 405 बिस्तर खाली पड़े हैं। उन्होंने बताया कि निजी अस्पतालों ने कोविड-19 मरीजों के लिए 72 बिस्तरों को तैयार रखा है जिनमें से 42 खाली हैं। वहीं 733 बिस्तर सरकारी अस्पतालों में हैं, जिनमें से 363 खाली हैं। हालांकि मंत्री ने कहा कि ऐसी आशंका है कि जैसे-जैसे राज्य में कारोबार खुलते जाएंगे और यहां आने वाले लोगों की संख्या बढ़ेगी तो मामले भी बढ़ सकते हैं और इसके लिए जागरूक रहने की जरूरत है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार गोवा में कोविड-19 के 43,416 मामले सामने आए हैं जिनमें से 40,409 लोग अब तक स्वस्थ हो चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: झारखंड में 24 घंटों में कोविड-19 के 323 नये मरीज, मृतकों की कुल संख्या 883 पर स्थिर

बड़ी संख्या में अप्रामाणिक जांच की वजह से दिल्ली में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि: विशेषज्ञ

विशेषज्ञों का मानना है कि दिल्ली में बड़ी संख्या में अप्रामाणिक रैपिड एंटीजन जांच होने की वजह से ऐसे समय में कोविड-19 के मामलों में इजाफा होने की आशंका है, जब प्रदूषण बढ़ रहा है तथा त्योहारों के मौसम में बाजारों में भीड़ है। वहीं, विशेषज्ञों ने यह भी कहा कि आरटी-पीसीआर जांच बढ़ाने से बड़ी संख्या में संक्रमण के मामलों का पता लगाने में भी मदद मिली है, अन्यथा उनका पता ही नहीं चल पाता। राष्ट्रीय राजधानी में देशभर की प्रवृत्ति के विपरीत पिछले कुछ दिन में कोविड-19 के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। शुक्रवार को दिल्ली में संक्रमण के 5,891 नये मामले सामने आए। फोर्टिस अस्पताल, वसंत कुंज की डॉ रिचा सरीन के मुताबिक, ‘‘अगर आरटी-पीसीआर जांच और बढ़ाई जाए, तो यह संख्या और भी भयावह होगी। मैं समझती हूं कि लोग खासतौर पर युवा घरों में बैठे-बैठे मानसिक रूप से थक गये हैं और लोगों से मिलना-जुलना चाहते हैं। लेकिन अधिक जिम्मेदार नागरिक होने के बजाय उन्होंने सारी सावधानियों और एहतियात को तिलांजलि दे दी हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार की पत्‍नी समेत परिवार के सात सदस्‍य कोरोना संक्रमित

उप्र में कोविड-19 के 1822 नए मामले, 21 और मरीजों की मौत

राज्‍य में शनिवार को 21 और मरीजों की मौत के बाद कोरोना संक्रमण से अब तक मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 7025 हो गई जबकि पिछले 24 घंटे में 1822 संक्रमण के नये मामले आने के बादसंक्रमितों की कुल संख्‍या बढ़कर 4.81 लाख से अधिक हो गई है। शनिवार को अपर मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने मीडिया को बताया, “पिछले 24 घंटों में राज्य से 1,822 नए मामले सामने आए, जबकि इस अवधि के दौरान 2,426 लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।” उन्होंने कहा, “राज्य में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 23,768 है, जबकि अब तक कुल 4,51,070 मरीजों को इलाज के बाद छुट्टी दी जा चुकी है।” उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 4,81,863 है। सहगल ने कहा कि शुक्रवार को राज्य में 1.45 लाख से अधिक नमूनों का परीक्षण किया गया। स्‍वास्‍थ्‍य बुलेटिन में कहा गया है कि कोविड-19 से मेरठ से तीन मरीजों की मौत हुई है, जबकि वाराणसी, सीतापुर में दो-दो मरीजों की जान गई। 

इसे भी पढ़ें: मिजोरम में कोरोना के 28 नए मामले, संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 2,722 हुई

गुजरात में कोरोना वायरस संक्रमण के 935 नए मामले, पांच मरीजों की मौत

गुजरात में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संकम्रण के 935 नए मामले सामने आने के बाद शनिवार को राज्य में संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,72,944 तक पहुंच गई। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी। विभाग के मुताबिक, इसी अवधि में 1,014 लोग संक्रमणमुक्त हुए, जिसके साथ ही अब तक राज्य में 1,56,119 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। इसके मुताबिक, शनिवार को कोविड-19 के छह मरीजों की मौत के बाद राज्य में अब तक इस घातक वायरस से 3,719 लोगों की जान जा चुकी है। राज्य में फिलहाल 13,106 मरीज उपचाराधीन हैं।

त्रिपुरा में कोरोना वायरस संक्रमण के 54 नए मामले सामने आए

त्रिपुरा में शनिवार को 54 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई, जिसके बादराज्य में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 30,717 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से अब तक राज्य में 343 लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकारी ने कहा कि त्रिपुरा में अभी कोविड-19 के 1,496 मरीज उपचाराधीन हैं जबकि 28,855 मरीज ठीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि 23 मरीज अन्य राज्यों में चले गए हैं।

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में कोरोना वायरस संक्रमण के 105 नए मामले, अब तक 592 मरीजों की मौत

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के 413 नये मामले

उत्तराखंड में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 413 नये मामले सामने आये जबकि इस महामारी से 12 और मरीजों की मौत हो गई। यहां प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार, 413 नए मरीजों के मिलने से प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 62,328 हो गयी है। नये मामलों में से सर्वाधिक 96 मामले देहरादून जिले में , रुद्रप्रयाग में 65, नैनीताल में 32, पौडी गढ़वाल में 52 और हरिद्वार में 33 मामले सामने आए। बुलेटिन के अनुसार राज्य में शनिवार को इस महामारी से 12 और मरीजों की मौत हो गई। महामारी से अब तक मरने वालों की संख्या 1023 हो गई है। प्रदेश में अब तक कुल 56,923 लोग स्वस्थ हो चुके हैं और उपचाराधीन मरीजों की संख्या 3,883 है। कोविड-19 के 499 मरीज राज्य से बाहर चले गए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


Tags

अन्य न्यूज़