फैमिली डे पर परिवार के साथ इस तरह शेयर करें बॉन्डिंग

By मिताली जैन | Publish Date: May 15 2018 5:10PM
फैमिली डे पर परिवार के साथ इस तरह शेयर करें बॉन्डिंग

वृंदा का ऑफिस टाइमिंग सुबह नौ बजे का है। इसलिए वह सुबह छह बजे उठकर अनमोल और अमन का नाश्ता और लंच बनाती है। फिर अनमोल को स्कूल के लिए तैयार करने के बाद वह ऑफिस के लिए निकल जाती है।



वृंदा सिंगल फैमिली में रहने वाली एक वर्किंग वुमन है। उसका ऑफिस टाइमिंग सुबह नौ बजे का है। इसलिए वह सुबह छह बजे उठकर अनमोल और अमन का नाश्ता और लंच बनाती है। फिर अनमोल को स्कूल के लिए तैयार करने के बाद वह ऑफिस के लिए निकल जाती है। वापिस घर आते समय वह अनमोल को डे-केयर से लेती हुई आती है और घर पहुंचते−पहुंचते उसे सात बज जाते हैं। फिर वह अनमोल को खाना देकर रात के डिनर की तैयारी में लग जाती है। उसके बाद उसे अनमोल का होमवर्क भी करवाना होता है और सब काम निपटाते−निपटाते दस कब बज जाते हैं, उसे पता ही नहीं चलता। वृंदा हर रोज ऐसी ही दिनचर्या का पालन करती है। ऐसे में उसे खुद के लिए ही समय नहीं मिल पाता। अब वह खुद को सबसे काफी दूर और अकेला महसूस करने लगी है। 

वैसे यह कहानी सिर्फ वृंदा की ही नहीं है। वर्तमान समय में एकल परिवार का चलन काफी बढ़ गया है और छोटे से परिवार में रहने के बावजूद भी लोगों के पास एक−दूसरे के लिए समय ही नहीं होता। तो फिर अपने नाते−रिश्तेदारों के लिए समय निकाल पाना लगभग नामुमकिन सा लगता है। लेकिन वह वास्तव में परिवार ही होता है, जो मुश्किल समय में हमारा सहारा बनते हैं। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि आपके आपसी रिश्ते काफी मजबूत हों। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे आसान उपाय बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप अपने परिवार के साथ−साथ रिश्तेदारों के साथ भी अच्छी बॉन्डिंग शेयर कर सकते हैं−
 
मैनेज करें समय
अगर आप वास्तव में चाहते हैं कि आपको अपने परिवार व रिश्तेदारों से रिश्ता मजबूत बने तो सबसे पहले आपको उनके लिए थोड़ा समय तो अवश्य निकालना होगा। किसी भी रिश्ते की मजबूती वास्तव में आपके प्रयासों के भीतर छिपी होती है। अगर आपको ऑफिस के काम के चक्कर में दूसरों को समय नहीं दे पाते तो महीने में कम से कम एक वीकेंड तो अपने परिवार व रिश्तेदारों के लिए निकालें। इस वीकेंड को आप किस तरह यूज करते हैं, यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। आप चाहें तो सबके साथ कहीं आउटिंग पर निकल जाएं या फिर एक अच्छा सा डिनर प्लॉन करें। इसके अतिरिक्त घर पर छोटी सी टी पार्टी भी आर्गेनाइज की जा सकती है, जिसमें आप ढेर सारे गेम्स के जरिए साथ बिताए समय को यादगार बना सकते हैं। 


 
सोशल मीडिया का सहारा
आज के समय में दूसरों से कनेक्टेड रहने का एक सबसे आसान और प्रभावी तरीका है सोशल मीडिया। आप विभिन्न माध्यमों जैसे वाट्स ऐप, फेसबुक या टि्वटर के जरिए एक−दूसरे से बातचीत कर सकते हैं। वर्तमान समय में जब हर कोई इन माध्यमों का इस्तेमाल करता है तो आप भी अपने करीबियों को इसके माध्यम से मैसेज आदि अवश्य करें। इन प्लेटफॉर्म की खासियत यह होती है कि इनकी मदद से आप उन लोगों के साथ भी बॉन्डिंग शेयर कर पाते हैं, जिनसे आप कभी−कभार ही मिलते हैं। इससे आप अपने कीमती समय को बचाते हुए भी एक अच्छी बॉन्डिंग भी शेयर कर पाएंगे। 


 
तोहफों की लें मदद
जब भी आप अपने करीबियों से मिलने जाएं तो उनके लिए कोई न कोई तोहफा अवश्य लेकर जाएं। कोशिश करें कि आप बाजार से तोहफा खरीदने की बजाय अपने हाथ से ही एक प्यारा सा तोहफा तैयार करें। इससे आपके प्यार की गर्माहट उस तोहफे में आसानी से महसूस की जा सकेगी। वहीं अगर आप घर से कुछ नहीं बना पा रहे हैं तो आप बाजार से तोहफा खरीदते समय इस बात का ख्याल रखें कि वह आपके करीबियों के काफी काम आए ताकि हर बार उसे इस्तेमाल करते समय वह आपको याद करें। इसके अतिरिक्त अपने करीबियों के जीवन के कुछ खास दिनों जैसे बर्थडे, सालगिराह आदि पर भी उन्हें एक तोहफा अवश्य दें। अगर आप उनसे मिलने नहीं जा सकते तो फोन पर उन्हें विश करें और तोहफा कोरियर कर दें। आपके इस सरप्राइज को देखकर उनके चेहरे पर बड़ी सी मुस्कान छा जाएगी।
 
कैद करें यादें


कहते हैं कि गुजरा हुआ समय कभी लौट कर नहीं आता लेकिन आप उन अच्छे पलों को तस्वीरों के जरिए कैद कर सकते हैं। इसके लिए आप जब भी उनके साथ क्वालिटी टाइम बिताएं तो कुछ क्लिक्स अवश्य करें। साथ ही उसे सबके साथ शेयर करें, फिर चाहे बात फैमिली ग्रुप की हो या सोशल मीडिया की। इस तरह आप ताउम्र उन पलों को बेहद आसानी से याद कर पाएंगे।
 
रिलेशनशिप काउंसलर रेखा मेहता से बातचीत पर आधारित
 
-मिताली जैन

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Video