Hindi word processor
  आयोग ने सू की को उपचुनाव लड़ने की अनुमति दी
स्रोतः प्रभासाक्षी
स्थानः
यंगून
तिथिः
06 Qjojh 2012
 

   

म्यामांर के चुनाव आयोग ने आज विपक्ष की नेता आंग सान सू की को संसदीय उपचुनाव लड़ने की अनुमति दे दी जिससे देश में सैन्य शासन के आधी सदी के लंबे दौर के बाद राजनीतिक खुलेपन की दिशा में देश ने एक और कदम बढ़ा दिया है। सू की ने पिछले महीने चुनाव लड़ने की इच्छा जतायी थी और आयोग से इसकी आधिकारिक अनुमति मिलने की राह देख रही थीं। अप्रैल में होने वाले चुनाव के लिए आयोग ने उनकी योग्यता की जांच करने की बात कही थी। सू की की पार्टी के एक प्रवक्ता ने कहा कि आयोग ने सू की की उम्मीदवारी को अपनी स्वीकृति दे दी है। पिछले साल म्यांमार में औपचारिक नागरिक शासन की स्थापना की गयी थी। इस नयी सरकार ने देश के सबसे बड़े आलाचकों को चौंकाते हुए सैकड़ों राजनीतिक कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जातीय विद्रोहियों के साथ संघर्ष विराम के समझौते किएए मीडिया की स्वतंत्रता को बढ़ावा दिया और सेंसरशिप के कानूनों को सरल किया। म्यांमार की सरकार को उम्मीद है कि इन सुधारों से पश्चिमी देश सैन्य शासन के दौरान म्यांमार पर लगाए गए आथ्िरक प्रतिबंधों को हटा लेंगे। पश्चिम देशों की सरकार और संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि वह अप्रैल में होने वाले चुनावों की समीक्षा के बाद ही इस पर कोई निण्रय लेंगे। अप्रैल में 48 रिक्त संसदीय सीटों के लिए उपचुनाव होंगे। कैबिनेट और दूसरे पदों के लिए चुने गये सासंदों की ओर से सीटें छोड़ने के कारण ये पद रिक्त पड़े हुए हैं। सू की की पार्टी अगर ये सभी 48 सीटें जीत भी ले तो वह ज्यादा ताकतवर नहीं हो सकती क्योंकि 440 सदस्यीय संसद के निचले सदन में सेना के सहयोगी और उसकी ओर से नियुक्त किए गए लोगों का वर्चस्व है। लेकिन सू की के लिए यह जीत ऐतिहासिक होगी क्योंकि वह पिछले दो दशकों तक नजरबंद रही हैं। 1990 के चुनावों में उनकी पार्टी ने पूण्र बहुमत से चुनाव जीता था लेकिन जुंता सरकार ने चुनाव परिणामों को मानने से इंकार कर दिया था। सू की यंगून के दक्षिण में स्थित काव्हमू जिले की सीट से चुनाव लड़ेंगी।


समयः
14%51