1. सिर्फ लालबत्ती हटाने से नहीं खत्म होगा ''वीआईपी कल्चर''

    सिर्फ लालबत्ती हटाने से नहीं खत्म होगा ''वीआईपी कल्चर''

    अपने देश में किसी वीआईपी की सुरक्षा के लिए आमतौर पर 17 जवानों को लगाया जाता है...जो पूरी दुनिया में कहीं नहीं है। सिर्फ लालबत्ती हटाकर नेताओं को खास से आम नहीं बनाया जा सकता।

  2. अमानुषिक अत्याचार के आदी पाक को जवाब देना जरूरी

    अमानुषिक अत्याचार के आदी पाक को जवाब देना जरूरी

    वास्तव में कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी सेना की कंगारू अदालत ने प्राणदंड की घोषणा कर भारत पर युद्ध का ही ऐलान किया है। दरअसल अमानुषिक अत्याचार पाकिस्तान की फितरत में है।

  3. पत्थरबाजों का हौसला बढ़ाने वाले नेताओं से होती है निराशा

    पत्थरबाजों का हौसला बढ़ाने वाले नेताओं से होती है निराशा

    अबदुल्ला साहब से इस प्रश्न का उत्तर भी अपेक्षित है कि कश्मीर के नौजवानों को टूरिज्म से मतलब नहीं है यहाँ तक तो ठीक है लेकिन उन्हें टैरेरिज्म से मतलब क्यों है और आप जैसे नेता इसे जायज़ क्यों ठहराते हैं?

  4. मोदी का शासन लोकतांत्रिक लेकिन यह एक व्यक्ति का शो

    मोदी का शासन लोकतांत्रिक लेकिन यह एक व्यक्ति का शो

    बेशक प्रधानमंत्री मोदी का शासन लोकतांत्रिक है, लेकिन एक से अधिक अर्थों में यह एक व्यक्ति का शो है। बांग्लादेश के लोगों को उस तरह नहीं दबना चाहिए जिस तरह भारत के लोग मोदी के सामने हो गए हैं।

  5. कश्मीर में सरकार आपकी पर ‘राज’ किसका?

    कश्मीर में सरकार आपकी पर ‘राज’ किसका?

    कश्मीर एक ऐसी अंतहीन आग में जल रहा है जो हमारे प्रथम प्रधानमंत्री की नादानियों की वजह से एक नासूर बन चुका है। तब से लेकर आज तक सारा देश कश्मीर को कभी बेबसी और कभी लाचारी से देख रहा है।

  6. चीनी मिलों की बिक्री की जांच से माया की बढ़ेंगी मुश्किलें

    चीनी मिलों की बिक्री की जांच से माया की बढ़ेंगी मुश्किलें

    योगी सरकार ने 2011 में तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती द्वारा नियम विरूद्ध प्रदेश की 35 चीनी मिलों की बिक्री की जांच का आदेश देकर माया की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

  7. इस तरह मोदी सरकार बचा सकती है जाधव की जान

    इस तरह मोदी सरकार बचा सकती है जाधव की जान

    कुलभूषण जाधव को भी पाकिस्तान की फौज यदि रिहा कर देगी तो लोग उसे भी शाबाशी देंगे। यों तो जाधव पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय में जा सकते हैं। वह न माने तो राष्ट्रपति से अपील कर सकते हैं।

  8. भारत रत्न ही नहीं विश्व रत्न भी हैं बाबा साहेब

    भारत रत्न ही नहीं विश्व रत्न भी हैं बाबा साहेब

    डॉ. अम्बेडकर की सामाजिक और राजनैतिक सुधारक की विरासत का आधुनिक भारत पर गहरा प्रभाव पड़ा है। स्वतंत्रता के बाद के भारत में उनकी सामाजिक और राजनीतिक सोच को सारे राजनीतिक हलके का सम्मान हासिल हुआ।

  9. चुप क्यों हैं केजरीवाल? कहां गई उनकी ईमानदारी?

    चुप क्यों हैं केजरीवाल? कहां गई उनकी ईमानदारी?

    जंतर-मंतर पर अपनी पार्टी का ऐलान करते समय गाड़ी, बंगला और सुरक्षा लेने से इनकार करने वाले केजरीवाल ने सत्ता में आने के बाद किस तरह यूटर्न लिया ये दिल्ली ही नहीं देश का बच्चा-बच्चा जानता है।

  10. योगी का ''चाबुक'' अपने पराये में अंतर नहीं कर रहा

    योगी का ''चाबुक'' अपने पराये में अंतर नहीं कर रहा

    मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी का ''चाबूक'' अपने पराये में अंतर नहीं कर रहा है। योगी ने कानून व्यवस्था चुस्त−दुरूस्त करने के लिये पुलिस को खुली छूट दे रखी है, जिसकी वजह से ही अपराध का ग्राफ घटा है।

  11. दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर चीन का विरोध नया नहीं

    दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर चीन का विरोध नया नहीं

    तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा ने कुछ दिन पहले अरूणाचल प्रदेश की यात्रा चीन की इस चेतावनी के बावजूद की है कि इससे दोनों देशों के बीच सामान्य संबंधों पर असर पड़ेगा।

  12. कश्मीर में हिंसा की कमान अब आतंकियों नहीं पत्थरबाजों के हाथ में

    कश्मीर में हिंसा की कमान अब आतंकियों नहीं पत्थरबाजों के हाथ में

    कश्मीर में किसी चुनाव या उपचुनाव में पहली बार सबसे कम मतदान हुआ साथ ही यह भी पहला अवसर था कि कश्मीर में चुनावी हिंसा की बागडोर आतंकियों के हाथों में नहीं बल्कि पत्थरबाजों के हाथों में थी।

वीडियो