IPL 2022: RR vs DC मैच में नो बॉल का ट्विस्ट, फैंस को आई धोनी की याद

IPL 2022: RR vs DC मैच में नो बॉल का ट्विस्ट, फैंस को आई धोनी की याद

आखरी ओवर के तीन बॉल पर रोवमैन पावेल ने 3 छक्के जमा दिए थे। तीसरी गेंद को डगआउट में बैठे ऋषभ पंत ने नोबेल बता दिया जबकि अंपायर ने ऐसा इशारा नहीं किया। तभी ऋषभ पंत को गुस्सा आ गया और उन्होंने अपने बल्लेबाजों को वापस आने का इशारा कर दिया।

शुक्रवार को आईपीएल का एक बेहद दिलचस्प मुकाबला खेला गया। दिल्ली को इस मैच में राजस्थान से 15 रनों से हार मिली। हालांकि, मैच के आखिरी ओवर में एक गेंद को लेकर विवाद शुरू हो गया है। दरअसल, दिल्ली को जीत के लिए 223 रन बनाने थे। आखरी ओवर में दिल्ली को 36 रनों की दरकार थी। आखरी ओवर के तीन बॉल पर रोवमैन पावेल ने 3 छक्के जमा दिए थे। तीसरी गेंद को डगआउट में बैठे ऋषभ पंत ने नोबेल बता दिया जबकि अंपायर ने ऐसा इशारा नहीं किया। तभी ऋषभ पंत को गुस्सा आ गया और उन्होंने अपने बल्लेबाजों को वापस आने का इशारा कर दिया।

इसी घटनाक्रम को लेकर अब क्रिकेट प्रशंसक महेंद्र सिंह धोनी को याद कर रहे हैं। 2019 में एक मुकाबले के दौरान राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ ही धोनी अंपायर के फैसले को नाराज हो गए थे। तब भी मामला नो बॉल का था। उस समय तो धोनी अचानक ही मैदान में आ गए थे और अंपायर से बहस किया था। ऋषभ पंत भी नो बॉल को लेकर काफी गुस्से में दिखे। उन्होंने अपने बल्लेबाजों को वापस पवेलियन में आने तक का इशारा कर दिया था। यही कारण है कि अब सोशल मीडिया पर यूजर्स पंत और धोनी को लेकर ट्रोल कर रहे हैं। ज्यादातर यूजर्स यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि गुरु और चेला दोनों एक जैसे ही है। 

इसे भी पढ़ें: जडेजा ने धोनी की धमाकेदार पारी पर कहा, यह अच्छा है कि वह अब भी रनों का भूखा है

तीसरे अंपायर को हस्तक्षेप करके उसे नोबॉल देना चाहिए था : पंत

दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत ने कहा कि राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच के अंतिम ओवर में कमर से ऊपर की गयी फुलटॉस के लिये तीसरे अंपायर को हस्तक्षेप करना चाहिए था क्योंकि यह उनकी टीम के लिये अहम साबित हो सकती थी। अंपायरों ने जब संभावित नोबॉल के लिये गेंद का रीप्ले नहीं देखा तो पंत ने अपने बल्लेबाजों रोवमैन पॉवेल और कुलदीप यादव को वापस बुला दिया था। पंत से जब मैच के बाद उस घटना के बारे में पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि वह नोबॉल हमारे लिये कीमती साबित हो सकती थी। मुझे लगता है कि यह पता किया जाना चाहिए था कि वह नोबॉल है या नहीं लेकिन यह मेरे नियंत्रण में नहीं है।’’