क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन का रेट धड़ाम, भारतीयों को लगा तगड़ा झटका, सस्ती करेंसियां 10 फीसदी तक और लुढ़की

क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन का रेट धड़ाम, भारतीयों को लगा तगड़ा झटका, सस्ती करेंसियां 10 फीसदी तक और लुढ़की

ग्लोबल क्रिप्टो एडॉप्शन इंडेक्स में भारत दूसरे स्थान पर है, जिसका इंडेक्स स्कोर 0.37 है। भारत में करीब 7.3 मिलियन से अधिक क्रिप्टो उपयोगकर्ता हैं जिसका ट्रेडिंग वॉल्यूम 21.8 बिलियन डॉलर से अधिक है। अब तो छोटे भारतीय शहरों के लोगों ने भी क्रिप्टो में पैसा लगाना शुरू कर दिया है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य में क्रिप्टोकरेंसी हमारे जीवन पर वैसे ही असर डाल रही है, जैसे कि कभी इंटरनेट ने किया था। इससे इसके बढ़ते महत्व का अंदाजा तुलनात्मक दृष्टि से लगाया जा सकता है। हालांकि अभी भी इस बात पर अनिश्चितता है कि दुनिया भर की सरकारें इसे कैसे रेगुलेट करेंगी। लेकिन नॉन-फंजीबल टोकन और विकेंद्रीकृत फाइनेंस प्रोजेक्ट्स में निवेश बढ़ रहा है और भारतीय भी इसमें बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। 

क्रिप्टो डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस वर्ष वैश्विक स्तर पर क्रिप्टोकरेंसी रखने वाले लोगों की संख्या दोगुनी होकर लगभग 220 मिलियन हो गई है। निवेशकों ने क्रिप्टोकरेंसी में 2021 में लगभग $ 30 बिलियन का निवेश किया, जो पिछले सभी वर्षों की तुलना में अधिक है। इस वर्ष (2022) भी इसमें प्रारम्भिक उछाल के साथ ही एक तगड़ा झटका भी महसूस किया जा रहा है, जिसपर हम आगे बात करेंगे।

आपके लिए यह जानना जरूरी है कि भले ही अल सल्वाडोर जैसे कुछ देशों ने बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार कर लिया है, लेकिन अभी भी कई देश  क्रिप्टो करेंसी को लेकर सतर्क हैं। वैसे तो वियतनाम ग्लोबल क्रिप्टो एडॉप्शन इंडेक्स में 1 के इंडेक्स स्कोर के साथ पहले स्थान पर है। क्योंकि रेमिटेंस भुगतान इसके पीछे का सबसे कारण है। दरअसल क्रिप्टोकरेंसी ने वियतनाम में प्रवासियों को विनिमय शुल्क का भुगतान किए बिना घर भेजने का एक तरीका प्रदान किया है, जिसके चलते लगभग 20 प्रतिशत वियतनामी बिटकॉइन में निवेश करने का दावा करते हैं।

वहीं, ग्लोबल क्रिप्टो एडॉप्शन इंडेक्स में भारत दूसरे स्थान पर है, जिसका इंडेक्स स्कोर 0.37 है। भारत में करीब 7.3 मिलियन से अधिक क्रिप्टो उपयोगकर्ता हैं जिसका ट्रेडिंग वॉल्यूम 21.8 बिलियन डॉलर से अधिक है। अब तो छोटे भारतीय शहरों के लोगों ने भी क्रिप्टो में पैसा लगाना शुरू कर दिया है। समझा जाता है कि बिटकॉइन की कीमतों में दिखा तेज उछाल भारत में क्रिप्टो में बढ़ती दिलचस्पी का एक प्रमुख कारण था।

हालांकि हालिया तगड़ा झटके के बाद क्रिप्टोकरेंसी का बाजार इन दिनों बेहद सुर्खियों में है। भले ही बहुतेरे लोगों ने इसे अमीर बनने का सबसे आसान जरिया समझ लिया था। लेकिन अचानक दुनियाभर के कई देशों की सरकारों द्वारा दिखाई गई सख्ती के चलते बिटक्वाइन से लेकर कई क्रिप्टो करेंसी के रेट बिल्कुल ही धड़ाम हो गए हैं। यह बात दीगर है कि कई क्रिप्टोकरेंसी के रेट अभी भी ऊपर जा रहे हैं। लेकिन कुछ क्रिप्टोकरेंसी तो ऐसी हैं, जिनके रेट 2 डॉलर यानी 150 रुपये से भी कम हैं। इन्होंने अच्छा रिटर्न भी दिया है।

इसे भी पढ़ें: क्रिप्टो सुपर ऐप क्रिप्टोवायर अब क्रिप्टोकरेंसी के वैश्विक सूचकांक आईसी15 के जरिए मॉनिटर करेगा टॉप क्रिप्टो को

ऐसे में आइये यहां समझते हैं कि इस वक्त बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी, डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी, एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी और एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी के अलावा कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी का नवीनतम (लेटेस्ट) रेट क्या है, उसमें कितनी गिरावट आई है। इसकी मार्केट कैप कितनी बिलियन डॉलर है। इस साल इन्होंने कितना नेगेटिव रिटर्न दिया है। इसकी आल टाइम हाई कीमत कितनी डॉलर रही है।

# बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी में आई है 7.35 फीसदी की गिरावट

बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी का इस वक्त क्वाइनडेस्क पर रेट 38,853.71 डॉलर का चल रहा है। इसमें इस वक्त 7.35 फीसदी की गिरावट आई है। इस रेट पर बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 735.67 बिलियन डॉलर है। बीते चौबीस घंटे के दौरान बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 43,494.41 डालर और न्यूनतम कीमत 8,287.00 डॉलर रही है। इसलिए जहां तक रिटर्न की बात है तो 1 जनवरी 2022 से अब तक बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी ने 16.48 फीसदी का निगेटिव रिटर्न दिया है। बिटक्वाइन क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 68,990.90 डॉलर रही है।

# एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी में आई है 8.34 फीसदी की गिरावट 

एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी का इस वक्त क्वाइनडेस्क पर रेट 2,864.37 डॉलर का चल रहा है। इसमें इस वक्त 8.34 फीसदी की गिरावट आई है। इस रेट पर एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 337.04 बिलियन डॉलर है। बीते चौबीस घंटे के दौरान एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 3,271.24 डालर और न्यूनतम कीमत 2,809.51 डॉलर रही है। इसलिए जहां तक रिटर्न की बात है तो 1 जनवरी 2022 से अब तक एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी ने 22.58 फीसदी का निगेटिव रिटर्न दिया है। एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 4,865.57 डॉलर रही है।

# एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी में आई है 6.48 फीसदी की गिरावट 

एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी का इस वक्त क्वाइनडेस्क पर रेट 0.696351 डॉलर का चल रहा है। इसमें इस वक्त 6.48 फीसदी की गिरावट आई है। इस रेट पर एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 69.61 बिलियन डॉलर है। बीते चौबीस घंटे के दौरान एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 0.76 डालर और न्यूनतम कीमत 0.69 डॉलर रही है। इसलिए जहां तक रिटर्न की बात है तो 1 जनवरी 2022 से अब तक एक्सआरपी क्रिप्टो करेंसी ने 16.05 फीसदी का निगेटिव रिटर्न दिया है। एक्सआरपी क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 3.40 डॉलर रही है।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय बजट 2022: क्रिप्टो कारोबार पर कर लगाने, विशेष दायरे में लाने पर हो सकता है विचार

# कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी में आई है 10.39 फीसदी की गिरावट 

कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी का इस वक्त क्वाइनडेस्क पर रेट 1.21 डॉलर का चल रहा है। इसमें इस वक्त 10.39 फीसदी की गिरावट आई है। इस रेट पर कार्डानो क्रिप्टो करेंसी की मार्केट कैप 40.05 बिलियन डॉलर है। बीते चौबीस घंटे के दौरान कार्डानो क्रिप्टो करेंसी की अधिकतम कीमत 1.43 डालर और न्यूनतम कीमत 1.20 डॉलर रही है। जहां तक रिटर्न की बात है तो 1 जनवरी 2022 से अब तक कार्डानो क्रिप्टो करेंसी ने -7.30 फीसदी का निगेटिव रिटर्न दिया है। कार्डानो क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 3.10 डॉलर रही है। 

# डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी में आई है 8.15 फीसदी की गिरावट 

डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी का इस वक्त क्वाइनडेस्क पर रेट 0.151307 डॉलर का चल रहा है। इसमें इस वक्त 8.15 फीसदी की गिरावट आई है। इस रेट पर डॉगकॉइन क्रिप्टो करेंसी की मार्केट कैप 20.11 बिलियन डॉलर है। बीते चौबीस घंटे के दौरान डॉगकॉइन क्रिप्टो करेंसी की अधिकतम कीमत 0.17 डालर और न्यूनतम कीमत 0.15 डॉलर रही है। इसलिए जहां तक रिटर्न की बात है तो 1 जनवरी 2022 से अब तक डॉगकॉइन क्रिप्टो करेंसी ने 11.62 फीसदी का रिटर्न दिया है। डॉगकॉइन क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 0.740796 डॉलर रही है।

बता दें कि क्रिप्टो करेंसी में निवेश के मामले में वियतनाम और भारत के बाद पाकिस्तान तीसरे स्थान है। इसलिए वह भी इस झटके से पस्त हो चुका होगा, ऐसी खबरें मिल रही हैं। उम्मीद है कि क्रिप्टो करेंसी में निवेश के मामले में अमेरिका, चीन, रूस, ग्रेट ब्रिटेन, यूरोपीय यूनियन आदि देशों के लोगों की धीमी गति से वियतनाम, भारत और पाकिस्तान के लोग भी सबक लेंगे और लगे ताजा झटके से शीघ्र ही उबरने की कोशिश करेंगे।

- कमलेश पांडेय

वरिष्ठ पत्रकार व स्तम्भकार