China की जनसंख्या में गिरावट दशकों के असफल परिवार नियोजन उपायों का परिणाम, इसके वैश्विक प्रभाव होंगे

Chinas population decline
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
चीन लंबे समय से दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश रहा है। ग्रेट लीप फॉरवर्ड राजनीतिक अभियान के कारण आए अकाल के वर्षों (1959-61) के अलावा, पिछले दशकों में चीन की आबादी तेजी से बढ़ी है।

चीन की जनसंख्या 60 वर्षों में पहली बार घटी है और सदी के अंत तक इसका आधी से कम होना तय है। कुछ वर्षों तक गिरावट के बाद, चीन अब उस स्थिति में पहुंचेगा जिसे एक सरकारी अधिकारी ने नकारात्मक जनसंख्या वृद्धि का युग कहा है, राष्ट्रीय जन्म दर प्रति 1,000 लोगों पर 6.77 जन्म के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गई है। चीन लंबे समय से दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश रहा है। ग्रेट लीप फॉरवर्ड राजनीतिक अभियान के कारण आए अकाल के वर्षों (1959-61) के अलावा, पिछले दशकों में चीन की आबादी तेजी से बढ़ी है।

1970 के दशक में चीन की तीव्र जनसंख्या वृद्धि धीमी होने लगी जब चीनी सरकार ने जनसंख्या के अत्यधिक बढ़ने के डर के कारण परिवार नियोजन उपायों की शुरुआत की। सबसे दूरगामी उपाय 1980 में अपनाई गई एक-बच्चा नीति थी जिसने प्रत्येक घर को केवल एक बच्चे तक सीमित कर दिया (कुछ अपवादों के साथ)। उस समय सरकार के तर्क के अनुसार, जनसंख्या वृद्धि को कम करने से जीवन स्तर को बढ़ाने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक संसाधनों की कमी हो पूरा किया जा सकेगा। तदनुसार चीन की जनसंख्या में वृद्धि की दर कई दशकों तक धीमी रही।

अब, दशकों में पहली बार जनसंख्या कम होने लगी है। लेकिन क्या चीन की आबादी वास्तव में चरम पर है, और यह कमी कब और कितनी तेजी से होगी, यह स्पष्ट नहीं है और यह कुछ बहस का विषय है। 2022 से संयुक्त राष्ट्र विश्व जनसंख्या संभावना में पहले अनुमान लगाया गया था कि चीन की जनसंख्या 2030 के आसपास घटने लगेगी। चीन की आबादी पर डेटा कुख्यात रूप से अविश्वसनीय है और गिनती कौन कर रहा है इस पर निर्भर करता है।

चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के अनुसार, देश में 2022 के अंत में एक अरब 41 करोड़ 17 लाख लोग थे, जबकि एक साल पहले यह एक अरब 41 करोड़ 26 लाख थे। लेकिन संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष ने अनुमान लगाया है कि चीन में लोगों की संख्या एक अरब 44 करोड़ 85 लाख है और विश्व जनसंख्या समीक्षा का अनुमान एक अरब 42 करोड़ 60 लाख है। जनसंख्या के रुझान के अनुमानों में भिन्नता विभिन्न मान्यताओं और डेटा स्रोतों पर आधारित होती है, जिससे अलग-अलग उम्मीदें होती हैं कि समय के साथ चीन का समाज कैसे विकसित होगा। इन अनुमानों को समय के साथ जितना आगे बढ़ाया जाता है, वे उतने ही कठिन होते जाते हैं।

कई कारक प्रभावित करते हैं कि एक दशक में प्रजनन दर कैसे विकसित होती है - आधी सदी की तो बात ही छोड़ दें। इसलिए इन भविष्यवाणियों को कि चीन की आबादी 2100 तक आधी हो जाएगी, कुछ सावधानी से पढ़ने की जरूरत है। वे इस धारणा पर निर्भर करते हैं कि समाज समय के साथ कैसे विकसित होता है। सरकार की विफलता दशकों से चीनी सरकार ने प्रजनन दर को प्रभावित करके जनसंख्या विकास को सक्रिय रूप से प्रबंधित करने का प्रयास किया है। एक बच्चे की नीति के बाद चीन की प्रजनन दर (2020 में 1.3) में तेजी से कमी आई, 2016 में इस नीति के अंत में परिवारों को दो, फिर तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति दी गई।

चीनी सरकार ने भी अन्य तरीकों से परिवारों का समर्थन करना शुरू कर दिया है, उदाहरण के लिए, लंबे समय तक मातृत्व अवकाश और बच्चे पैदा करने के लिए कर प्रोत्साहन को बढ़ावा देकर। लेकिन ये नीतिगत बदलाव बहुत कम, बहुत देर से किए गए प्रतीत होते हैं। कई विशेषज्ञों - चीन और अन्य जगहों पर - ने तर्क दिया है कि एक-बच्चे की नीति को खत्म करने में एक दशक की देरी से इसकी जनसंख्या वृद्धि में तेजी से कमी आई है। नई परिवार नियोजन नीतियों को अपनाने में भी कमी आई है। तीन सदस्यों वाले परिवार को दशकों तक बढ़ावा देने के बाद, यह छवि चीनी समाज में गहराई से समाहित हो गई है।

इतना ही नहीं, शिक्षा, आवास और विवाह की लागत में भी वृद्धि हुई है। अधिक बच्चे पैदा करना कई परिवारों के लिए बहुत महंगा माना जाता है। फिर भी, कुछ पूर्वानुमानकर्ताओं के लिए, यह जनसंख्या गिरावट अपेक्षा से अधिक तेज गति से आई है। एक कारण कोविड महामारी हो सकता है जिसने परिवारों को अधिक बच्चे पैदा करने से हतोत्साहित किया है। लेकिन कोविड के प्रभावों को आंकना कठिन है। उदाहरण के लिए, चीन की कोविड से संबंधित मौतों का डेटा अविश्वसनीय है। दुनिया के लिए इसका क्या मतलब है?

जब अधिक लोग लंबे समय तक जीवित रहते हैं - और कम बच्चे पैदा होते हैं - इसके दो परिणाम होते हैं: एक सिकुड़ता हुआ कार्यबल और दूसरा वृद्धावस्था में लोगों के लिए बढ़ी हुई लागत। चीन की तीव्र आर्थिक वृद्धि उसके बड़े और सस्ते कार्यबल का परिणाम है। कम श्रमिकों के उपलब्ध होने और चीन से अलग होने के वैश्विक कदमों के साथ, कंपनियां अपना उत्पादन कहीं और ले जा रही हैं। यह चीन के आर्थिक विकास मॉडल को ऐसे समय में खतरे में डालता है जब वह श्रम-गहन से ज्ञान-गहन अर्थव्यवस्था में संक्रमण कर रहा है।

एक और बढ़ती हुई चिंता यह है कि तेजी से बढ़ती उम्रदराज आबादी की देखभाल कैसे की जाए। अनुमानों के अनुसार 2079 तक कार्यबल के भीतर की तुलना में बाहर अधिक चीनी लोग होंगे। यहां तक ​​कि अगर जनसंख्या की उम्र बढ़ने की गति अपेक्षा से धीमी हो जाती है, तब इसकी पेंशन, स्वास्थ्य और सामाजिक देखभाल की लागत आर्थिक विकास पर भारी दबाव बन जाएगी, जब तक कि उत्पादकता में वृद्धि न हो। चीन इस तरह के मुद्दों का सामना करने वाला अकेला नहीं है।

अन्य पूर्वी एशियाई देश, जैसे जापान और दक्षिण कोरिया में भी जनसंख्या की तेजी से बढ़ती उम्र का सामना कर रहे हैं। इसी तरह, जर्मनी और इटली सहित कई यूरोपीय देशों ने दशकों से जनसंख्या में गिरावट का सामना किया है। लेकिन चीन की स्थिति अलग है। सबसे पहले, यह जनसंख्या की उम्र बढ़ने और गिरावट का सामना कर रहा है, जबकि यह अभी भी एक मध्यम-आय वाला देश है, जिससे सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन को वित्त देना कठिन हो गया है।

दूसरा, एक अंतरराष्ट्रीय दृष्टिकोण से, चीन ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं में एक केंद्रीय स्थान ग्रहण कर लिया है - इसलिए जो कुछ भी चीन को प्रभावित करता है, उसका विश्व अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ेगा। तो चीन की जनसंख्या में गिरावट की इस कहानी का दुनिया में चीन की स्थिति और वैश्विक अर्थव्यवस्था को बड़े पैमाने पर प्रभावित करता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़