Rajasthan के झालावाड़ जिले में जैविक किसान बाजार संपर्क कार्यक्रम शुरू

Organic farmers
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
झालावाड़ के जिलाधीश भारती दीक्षित ने इस महीने की शुरुआत में उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता पैदा करने, व्यापारियों को आरएसओसीए के साथ पंजीकरण करने और स्थानीय जैविक उत्पादकों के लिए एक बाजार प्रदान करने के उद्देश्य से पहली बार जैविक उत्पादकों, व्यापारियों और उपभोक्ताओं के बीच बैठक आयोजित की।

राजस्थान के झालावाड़ जिला प्रशासन ने जैविक किसान बाजार संपर्क कार्यक्रम शुरू किया है - जो जैविक खेती और व्यापार में सभी अंशधारकों के लिए एक साझा मंच है। झालावाड़ के जिलाधीश भारती दीक्षित ने इस महीने की शुरुआत में उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता पैदा करने, व्यापारियों को आरएसओसीए के साथ पंजीकरण करने और स्थानीय जैविक उत्पादकों के लिए एक बाजार प्रदान करने के उद्देश्य से पहली बार जैविक उत्पादकों, व्यापारियों और उपभोक्ताओं के बीच बैठक आयोजित की।

रबी और खरीफ दोनों फसलों की कटाई के मौसम के दौरान इसी तरह की बैठकों की योजना बनाई गई है। हालांकि, झालावाड़ में जैविक कृषि उपज बाजार अपनी शुरुआती अवस्था में है लेकिन जिले में जलवायु प्रकृति, अधिक उर्वर मिट्टी (काली कपास मिट्टी) और पानी की पर्याप्त उपलब्धता के साथ जैविक खेती की काफी संभावनाएं हैं। राजस्थान स्टेट ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन एजेंसी (आरएसओसीए) के अनुसार, झालावाड़ में केवल 10 पंजीकृत व्यक्तिक जैविक किसान हैं और किसानों के दो समूह हैं जिनमें लगभग 900 किसान शामिल हैं। इन किसानों द्वारा ज्यादातर गेहूं, मक्का, मेथी, धनिया और सब्जियां उगाई जाती हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़