कुरैशी ने लगाया आरोप, चीन विवाद से ध्यान हटाने के लिए पाक पर हमले की साजिश रच रहा भारत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2020   19:32
कुरैशी ने लगाया आरोप, चीन विवाद से ध्यान हटाने के लिए पाक पर हमले की साजिश रच रहा भारत

पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ‘जियो पाकिस्तान’ चैनल से बातचीत करते हुए कहा, भारत का रुख स्पष्ट है (सब देख सकते हैं) क्योंकि वह चीन के साथ अपने सीमा विवाद से ध्यान पाकिस्तान की ओर हटाना चाहता है। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तान के खिलाफ भारत फॉल्स फ्लैग आपरेशन’ शुरू करने का बहाना ढूंढ रहा है।

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को भारत पर आरोप लगाया कि वह चीन के साथ सीमा विवाद से अपने विपक्ष का ध्यान हटाने के लिए उनके देश पर हमले की साजिश रच रहा है।भारत ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान से कहा था कि वह नयी दिल्ली स्थित अपने उच्चायोग से कर्मचारियों की संख्या में कटौती करे। कुरैशी ने ‘जियो पाकिस्तान’ चैनल से बातचीत करते हुए कहा, भारत का रुख स्पष्ट है (सब देख सकते हैं) क्योंकि वह चीन के साथ अपने सीमा विवाद से ध्यान पाकिस्तान की ओर हटाना चाहता है। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तान के खिलाफ भारत फॉल्स फ्लैग आपरेशन’ (ऐसी शत्रुतापूर्ण कार्रवाई जिसमें कार्रवाई करने वाले की पहचान अस्पष्ट हो) शुरू करने का बहाना ढूंढ रहा है। लेकिन उन्होंने इसका कोई ब्यौरा नहीं दिया और न ही कोई सबूत दिया।

इसे भी पढ़ें: UNSC में Pakistan को खानी पड़ी मुंह की, भारत के खिलाफ रच रहा था साजिश

उन्होंने चीन के साथ सीमा विवाद पर नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना का जिक्र करते हुए कहा, भारत में विपक्ष सवाल उठा रहा है कि उनकी सरकार जवाब नहीं दे रही है। कुरैशी ने भारत को उनके देश पर कोई हमला करने से परहेज करने की चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वह कोई दुस्साहस करता है तो पाकिस्तान पूरी ताकत से जवाब देगा। उन्होंने कहा कि भारत ने नयी दिल्ली में पाकिस्तानी राजनयिकों के खिलाफ जासूसी के बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि भारत में पाकिस्तानी कर्मचारियों को परेशान किया गया और अधिकारियों द्वारा उनकी कारों का पीछा किया गया। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने न केवल आरोपों की निंदा की, बल्कि उन्हें खारिज भी किया। उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद में भारतीय मिशन के प्रभारी को मंगलवार को तलब किया गया था और उनसे कहा गया कि भारतीय कर्मचारियों से भी ऐसा ही व्यवहार किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।