Surya Grahan 2022: साल के पहले सूर्य ग्रहण से पहले जान लें ये जरुरी बातें, गर्भवती महिलाऐं भूलकर भी न करें ये काम

Surya Grahan 2022: साल के पहले सूर्य ग्रहण से पहले जान लें ये जरुरी बातें, गर्भवती महिलाऐं भूलकर भी न करें ये काम
unsplah

साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को लगेगा। सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ नियम बताए गए हैं। मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के दौरान, कुछ काम वर्जित होते हैं। खासतौर पर गर्भवती महिलाओं को इन बातों का खास ध्यान रखना चाहिए।

हिंदू पंचांग के अनुसार, साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को लगेगा। यह आंशिक सूर्य ग्रहण होगा, जो कि दोपहर 12 बजकर 15 मिनट से शाम 04 बजकर 07 मिनट तक रहेगा। यह ग्रहण दक्षिण/पश्चिम अमेरिका, प्रशांत अटलांटिक और अंटार्कटिका में दिखाई देगा। ज्योतिष गणना के अनुसार यह एक आंशिक सूर्यग्रहण है इसलिए इस सूर्य ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं है। हालांकि, सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ नियम बताए गए हैं। मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के दौरान, कुछ काम वर्जित होते हैं। खासतौर पर गर्भवती महिलाओं को इन बातों का खास ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए - 

इसे भी पढ़ें: इस दिन है वरुथिनी एकादशी, जानें शुभ मुहर्त, व्रत कथा और पूजन विधि

सूर्य ग्रहण के दौरान करें ये काम

सूर्य ग्रहण के सूतक काल की शुरुआत से लेकर सूर्य ग्रहण की समाप्ति तक भगवान का ध्यान करना चाहिए। भगवान के मंत्रों का जाप करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के दौरान नकारात्मकता बढ़ जाती है जिससे बचने के लिए भगवान का ध्यान करना अच्छा होता है। 

सूर्य ग्रहण के दौरान पके हुए खाने या फिर खाने-पीने की किसी भी चीज में तुलसी के पत्ते डाल देने चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पके खाने में तुलसी के पत्ते डाल देने से खाना अशुद्ध होने से बच जाता है। 

घर में गंगाजल का छिड़काव करें। सूर्य ग्रहण के बाद पानी में गंगाजल की कुछ बूंदे डालकर स्नान करें। सूर्य ग्रहण के बाद दान-पुण्य करना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान ना करें ये काम

मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को नंगी आंखों से सूर्य को नहीं देखना चाहिए। ऐसा करने से सूर्य की किरणों से आंखों को नुकसान हो सकता है। कहा जाता है कि ग्रहण के दौरान नंगी आंखों से सूर्य को देखने से महिला और शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। 

ग्रहण काल के दौरान गर्भवती महिला को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। माना जाता है कि ग्रहण के दौरान सूर्य की किरणों से महिला और गर्भ में पल रहे शिशु की त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। ग्रहण की छाया गर्भ में पल रहे शिशु के लिए अशुभ मानी जाती है।

इसे भी पढ़ें: घर में पूर्वजों की तस्वीर लगाने से पहले जान लें ये नियम वरना हो छिन जाएंगी सारी खुशियाँ

सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ खाना-पीना नहीं चाहिए। हालाँकि, गर्भवती महिलाओं को ज़्यादा देर तक भूखा नहीं रहना चाहिए इसलिए वे फलाहार कर सकती हैं।  

मान्यताओं के अनुसार गर्भवती महिलाओं को ग्रहण काल में अपने पास एक नारियल रखना चाहिए। कहा जाता है कि इससे नकारात्मक ऊर्जा आसपास नहीं आती है।

सूर्य ग्रहण में सूतक के दौरान भगवान की मूर्तियों को स्पर्श नहीं करना चाहिए। इस दौरान बाल और नाखून नहीं काटने चाहिए। 

सूर्य ग्रहण में ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। सूर्य ग्रहण के वक्त भोजन नहीं करना चाहिए।

- प्रिया मिश्रा