नो इफ नो बट, सिर्फ जाट: सभी पार्टियां वंदना में लगी, शब्द की उत्पत्ति, इतिहास से लेकर वर्तमान तक का पूरा विश्लेषण

charan singh atal
अभिनय आकाश । Jan 29, 2022 6:21PM
1950 और 60 के दशक में देवी लाल और रणबीर सिंह हुड्डा (हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के पिता) (अविभाजित) पंजाब के प्रमुख जाट नेता थे। राजस्थान में नाथूराम मिर्धा और यूपी में चौधरी चरण सिंह थे। 1966 में हरियाणा बनने के बाद बंसीलाल जैसे नेता सामने आए।

उत्तर प्रदेश में चुनाव है और शुरुआती दो चरण में पश्चिमी यूपी में वोट डाले जाने हैं। जिसके बारे में एक कहावत  जिसके जाट उसके ठाठ बेहद ही मशहूर है। हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक वर्ष 2012 में भारत में जाटों की जनसंख्या 8.25 करोड़ थी। इससे हम अनुमान लगा सकते हैं कि वर्तमान में जाटों की जनसंख्या 10 करोड़ के आसपास हो सकती है। जानें जाट शब्द की उत्तपत्ति कैसे हुई, इसके प्रमुख नेता कौन रहे हैं और मंडल-कमंडल के वर्षों में यूपी में जाटों ने किस ओर रूख किया। जाट मतदाताओं के बीच भाजपा का प्रदर्शन कैसा रहा है। 2022 में जाटलैंड किसके साथ होगा?

जाट शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

जाट शब्द की उत्पत्ति के बारे में निम्नलिखित बातें कहीं जाती है-

1.जाट शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द ‘ज्ञात’ से हुई है।

ज्ञात से सब “जात” बना और फिर कालांतर में यह शब्द अपभ्रंश होकर “जाट” बन गया।

2. जाट शब्द “जट्टा” से बना है। जट्टा पशु चराने वाले और ऊंट प्रजनकों  के लिए एक सामान्य शब्द है जो समूह या जत्था में घूमते हैं।

जाट कौन हैं

कुछ इतिहासकारों और विद्वानों का मानना है कि जाट जाति की उत्पत्ति “ज्येष्ठ” शब्द से हुई है। इस मान्यता के अनुसार, राजसूय यज्ञ के बाद भगवान श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को “ज्येष्ठ” घोषित किया था। बीसवीं शताब्दी तक, जमींदार जाट पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई हिस्सों में एक प्रभावशाली वर्ग के रूप में उभरे। जाट केंद्रीय सूची में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में शामिल होना चाहते हैं। यूपी, राजस्थान, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में उन्हें पहले से ही ओबीसी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। राजस्थान के जाट - धौलपुर और भरतपुर को छोड़कर केंद्रीय सूची में ओबीसी हैं। जाट राजनीतिक रूप से शक्तिशाली समुदाय हैं, और यूपी, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली में लगभग 40 लोकसभा सीटों और लगभग 160 विधानसभा सीटों के परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं। यूपी में, वे पश्चिमी जिलों में केंद्रित हैं, मुख्य रूप से गन्ने की खेती करते हैं, और राज्य के सबसे अमीर कृषक समुदाय हैं। 

इसे भी पढ़ें: रूस यूक्रेन विवाद: जंग हुआ तो कितने देश चपेट में आएंगे, क्या इसे रोका जा सकता है? हर सवाल का जवाब 8 Points में समझिए

प्रमुख नेता कौन रहे हैं?

1950 और 60 के दशक में देवी लाल और रणबीर सिंह हुड्डा (हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के पिता) (अविभाजित) पंजाब के प्रमुख जाट नेता थे। राजस्थान में नाथूराम मिर्धा और यूपी में चौधरी चरण सिंह थे। 1966 में हरियाणा बनने के बाद बंसीलाल जैसे नेता सामने आए। हरियाणा में जाटों की संख्या 25 फीसदी से ज्यादा है और लंबे समय से यहां की राजनीति पर उनका दबदबा है। 1987 में उनके निधन तक, चरण सिंह देश के सबसे बड़े जाट नेताओं में से एक थे, जिनका अन्य जातियों में भी अनुसरण था। वह दो बार यूपी के मुख्यमंत्री, उप प्रधान मंत्री और 1979-80 में छह महीने से भी कम समय के लिए प्रधान मंत्री रहे। यूपी में, चरण सिंह ने कांग्रेस और भारतीय जनसंघ दोनों से किसान समुदायों का नेतृत्व किया। 1967 के चुनावों के बाद इन समुदायों के बड़ी संख्या में विधायक थे। चरण सिंह की राजनीतिक विरासत उनके बेटे अजीत को विरासत में मिली थी। लेकिन मडंल और कमंडल के उदय ने उत्तर प्रदेश में राजनीति को मौलिक रूप से बदल दिया। 

यूपी में जाट वोट कहां है?

पश्चिमी यूपी में एक दर्जन लोकसभा और लगभग 40 विधानसभा सीटों पर समुदाय का महत्वपूर्ण प्रभाव है। कुछ 15 जिलों में 10 से 15 प्रतिशत आबादी शामिल है, लेकिन वे सामाजिक रूप से प्रभावशाली, मुखर हैं, और एक राजनीतिक माहौल बनाने की क्षमता रखते हैं। बागपत, मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बिजनौर, गाजियाबाद, हापुड़, बुलंदशहर, मथुरा, अलीगढ़, हाथरस, आगरा और मुरादाबाद में महत्वपूर्ण जाट आबादी है। छोटी संख्या रामपुर, अमरोहा, सहारनपुर और गौतमबुद्ध नगर में रहती है। यूपी में जाटों ने कुल मिलाकर सत्ताधारी पार्टी के साथ अपना पक्ष रखा है। चरण सिंह द्वारा बनाए गए राजनीतिक आधार का उपयोग मुलायम सिंह यादव ने किया और जाटों का एक बड़ा वर्ग पिछले दशक के दौरान भाजपा में शामिल हो गया। 2022 के विधानसभा चुनाव में मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, बागपत, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, अलीगढ़, मथुरा और आगरा जिलों की 58 सीटों पर पहले चरण में 10 फरवरी को मतदान होगा। दूसरे चरण में 14 फरवरी को बिजनौर, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, अमरोहा, बरेली, बदायूं और शाहजहांपुर जिलों में 55 सीटों पर मतदान होगा। इन दो चरणों में होने वाली अधिकांश सीटें जाट बहुल हैं।

इसे भी पढ़ें: आजादी का अमृत महोत्सव: दिल्ली मेट्रो ने चलाई आठ डिब्बों वाली तिरंगे के रंग में रंगी स्पेशल ट्रेन,इस मेट्रो स्टेशन से हुई रवाना

अजीत सिंह का राजनीतिक करियर कैसा रहा?

चरण सिंह के आईआईटी-शिक्षित बेटे चौधरी अजीत सिंह ने राष्ट्रीय और यूपी की राजनीति में प्रासंगिक बने रहने के लिए बार-बार पाला बदला। अजित सिंह भारतीय राजनीति के ऐसे नेताओं में गिने जाते हैं जो लगभग हर सरकार में मंत्री रहे हैं। वे कपड़ों की तरह सियासी साझेदार बदलते रहे हैं। छोटे चौधरी को यह गुण राजनीतिक विरासत को रुप में प्राप्त हुआ है। उनके पिता चौधरी चरण सिंह ने 1967 में पहले कांग्रेस की सरकार गिराई और फिर खुद मुख्यमंत्री बन गए। इसी तरह 1979 में उन्होंने पहले मोरारजी देसाई का सरकार गिराई और फिर पाला बदल कर कांग्रेस के समर्थन से प्रधानमंत्री बन बैठे। पुराने दौर में कहा जाता था कि चौधरी चरण सिंह चुनाव के वक़्त बूढ़ों के सपनों में आकर उन्हें बेटे का ख़्याल रखने की ताक़ीद कर जाते थे नतीजतन क्षेत्र में सक्रियता न होने के बावजूद चुनाव परिणाम में वोट जमकर छोटे चौधरी के खाते में बरसते थे। लेकिन इस बार लगता है नई पीढ़ी के वोटरों ने सपने को वास्तिवकता से जोड़कर मतदान किया। 1999 में, उन्होंने राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) का गठन किया, जिसने उस वर्ष के लोकसभा चुनाव में दो सीटें जीतीं - बागपत और उससे सटे कैराना। 2004 में इसने इन सीटों को बरकरार रखा। अजीत सिंह अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रालय का हिस्सा थे, और उन्होंने मनमोहन सिंह सरकार में शामिल होने की कोशिश की, लेकिन यह कई सालों तक नहीं हुआ।

मंडल-कमंडल के वर्षों में यूपी में जाटों ने क्या किया?

बीकेकेपी अजीत सिंह का नौवां राजनीतिक परिवर्तन था। 1996 के यूपी चुनावों में, उन्होंने किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत का समर्थन मांगा, और मुलायम सिंह के एसपी के साथ सीट समायोजन में प्रवेश किया। उन्होंने 38 सीटों पर चुनाव लड़ा लेकिन सिर्फ आठ जीते। रालोद ने 2002 का चुनाव भाजपा के साथ गठबंधन में लड़ा और 38 में से 14 सीटों पर जीत हासिल की। यह मायावती के नेतृत्व वाली भाजपा-बसपा सरकार में शामिल हो गई, लेकिन भाजपा के साथ रालोद का गठबंधन जल्द ही टूट गया। 2003 में जब मुलायम सिंह ने शपथ ली तो अजित सिंह के विधायक सरकार में शामिल हो गए। लेकिन फिर, 2007 के यूपी चुनाव से कुछ महीने पहले, रालोद ने मुलायम की सरकार से हाथ खींच लिया।

जाट मतदाताओं के बीच भाजपा का प्रदर्शन

रालोद के साथ गठबंधन ने कभी बीजेपी के लिए फायदेमंद नहीं रहा। यह हमेशा समझा जाता था कि भाजपा ने अपने वोट रालोद उम्मीदवारों को हस्तांतरित कर दिए, लेकिन बदले में उसे रालोद के वोट प्राप्त नहीं होते थे। नरेंद्र मोदी और अमित शाह की 'नई' बीजेपी ने रालोद के साथ गठबंधन नहीं करने का फैसला किया, बल्कि अपने जाट उम्मीदवारों को मैदान में उतारा। 2013 में मुजफ्फरनगर में हुए सांप्रदायिक दंगों ने एक मजबूत ध्रुवीकरण किया और 2014 के लोकसभा चुनावों में मोदी लहर ने जाटलैंड में सेंध लगा दी। 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने पश्चिमी यूपी के 17 जिलों की 94 में से 73 सीटें जीती थीं। सपा ने 15, बसपा ने तीन, कांग्रेस ने दो और जाटों की पार्टी रालोद ने सिर्फ एक सीट हासिल हुई थी। किसान समुदायों में यादवों को भाजपा विरोधी और सपा का वोटबैंक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि कुर्मी पार्टी लाइन से ऊपर उठकर अपने समुदाय के उम्मीदवारों को वोट देते है। ओबीसी के अन्य बड़े वर्ग - मौर्य-शाक्य-सैनी-कुशवाहा ने 2014, 2017, और 2019 में भाजपा के पक्ष में वोट किया था। लेकिन हाल ही में इस समूह से शक्तिशाली नेताओं का पलायन पार्टी के लिए एक झटके के रूप में सामने आया है। मुजफ्फरनगर हिंसा ने आखिरकार चरण सिंह द्वारा बनाए गए जाटों और मुसलमानों के पुराने गठबंधन को तोड़ दिया। वीपी सिंह द्वारा अपने शक्तिशाली उप प्रधानमंत्री देवी लाल का मुकाबला करने के लिए मंडल आयोग की रिपोर्ट को लागू करने के बाद, जाट नाराज थे। इन वर्षों में, जाटों और अन्य कृषक समुदायों, जिन्हें ओबीसी के रूप में वर्गीकृत किया गया था के बीच की दूरी बढ़ती गई।

चुनावों से पहले क्या स्थिति है?

2017 में, भाजपा ने 15 जाट उम्मीदवारों को मैदान में उतारा; 14 जीता। इस बार पार्टी ने समाज से 17 उम्मीदवार उतारे हैं। रालोद ने 12 जाट और सपा ने छह उम्मीदवार उतारे हैं। अब वापस ले लिए गए कृषि कानूनों पर समुदाय में रोष; गन्ना बकाया के भुगतान जैसे मुद्दों में भी है। अखिलेश-जयंत के लिए जाट और मुस्लिम मतदाताओं का एक साथ आना अहम है। दूसरी ओर, भाजपा चुनाव का हिंदू-मुस्लिम आधार पर ध्रुवीकरण करने की पूरी कोशिश कर रही है। 

-अभिनय आकाश 

अन्य न्यूज़