अगस्त से अक्टूबर महीने में हवाई सफर पर भारी छूट, एडवांस बुकिंग की कीमतें 50 फीसद घटी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   17:57
अगस्त से अक्टूबर महीने में हवाई सफर पर भारी छूट, एडवांस बुकिंग की कीमतें 50 फीसद घटी

सरकार ने इस साल जून-जुलाई में हवाई यात्रा के लिए न्यूनतम किराया सीमा लगभग 15 प्रतिशत बढ़ी दी है। कोरोना वायरस के मामलों में कमी आने के बाद हवाई सफर की मांग में इजाफा हुआ है। वहीं आपको बता दें कि मुंबई-दिल्ली मार्ग पर 10 हजार रुपए से ज्यादा की कीमत का सबसे सस्ता किराया रहा।

आमतौर पर यह देखा जाता है कि जून जुलाई में हवाई किराए में कमी रहती है, लेकिन इस साल इन महीनों के दौरान किराया ज्यादा रहा। सरकार ने इस साल जून-जुलाई में हवाई यात्रा के लिए न्यूनतम किराया सीमा लगभग 15 प्रतिशत बढ़ी दी है। कोरोना वायरस के मामलों में कमी आने के बाद हवाई सफर की मांग में इजाफा हुआ है। वहीं आपको बता दें कि मुंबई-दिल्ली मार्ग पर 10 हजार रुपए से ज्यादा की कीमत का सबसे सस्ता किराया रहा। यहां तक कि अगले महीने के अंत में भी यात्रा के लिए भी यह सबसे सस्ता किराया है।

विमानन कंपनियों ने अगस्त-अक्टूबर में सबसे कम रखा किराया

वहीं अगर बात करें अगस्त महीने की मुंबई-दिल्ली फ्लाइट के लिए रिटर्न टिकट की तो इसका न्यूनतम किराया 4600 रुपए है। घरेलू क्षेत्रों के हवाई किराए में ज्यादातर इस तरह की गिरावट देखी जा सकती है। कुछ विमानन कंपनियों ने सेल के जरिए या बिना सेल के जरिए अगस्त-अक्टूबर में किराया कम रखा है जिससे कि फॉरवर्ड बुकिंग रेवेन्यु हासिल किया जा सके, जिसकी सबसे ज्यादा जरुरत है। वहीं अगस्त महीने में जून-जुलाई के मामले में जिन हवाई मार्गों पर किराए में कमी आई है उनमें मुंबई से कोलकाता, श्रीनगर, चेन्नई, कोच्चि, वाराणसी और लखनऊ शामिल है। जून-जुलाई में मुंबई से श्रीनगर की रिटर्न टिकट पर सबसे सस्ता किराया 15 हजार रुपए से ज्यादा था लेकिन अगस्त के लिए यह किराया 8300 रुपए से शुरु हो रहा है। वहीं पिछले हफ्ते अलायंस एयर, विस्तारा, स्पाइसजेट ने मॉनसून सेल स्कीम्स की घोषणा की लेकिन अगस्त-अक्टूबर में ज्यादातर विमान कंपनियों ने किराया कम रखा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।