एक बार फिर अन्ना हजारे लोकपाल की नियुक्ति के लिए भूख हड़ताल पर बैठे

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 30 2019 4:41PM
एक बार फिर अन्ना हजारे लोकपाल की नियुक्ति के लिए भूख हड़ताल पर बैठे
Image Source: Google

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा कि वह महाराष्ट्र मंत्रिमंडल के उस फैसले का स्वागत करते हैं जिसमें राज्य के मुख्यमंत्री के कार्यालय को लोकायुक्त के दायरे में लाने की बात कही गई है।

रालेगण सिद्धी। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार पर लोकपाल नियुक्त करने और राज्य में लोकायुक्त कानून बनाने का वादा पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए बुधवार से भूख हड़ताल शुरू कर दी। हजारे ने महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में अपने गांव रालेगण सिद्धी के पद्मावती मंदिर में सुबह पूजा की। इसके बाद उन्होंने छात्रों, युवाओं और किसानों के साथ यादवबाबा मंदिर तक यात्रा निकाली और फिर वहीं नजदीक में भूख हड़ताल पर बैठ गए।

इसे भी पढ़ें: इस बार मोदी सरकार को झुका कर ही मानेंगे अन्ना हजारे, बनाया नया प्लान

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले अन्ना ने पीटीआई-भाषा से कहा कि वह महाराष्ट्र मंत्रिमंडल के उस फैसले का स्वागत करते हैं जिसमें राज्य के मुख्यमंत्री के कार्यालय को लोकायुक्त के दायरे में लाने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी जब तब सरकार सत्ता में आने से पहले किए गए अपने वादों जैसे लोकायुक्त कानून बनाने, लोकपाल नियुक्त किये जाने तथा किसानों के मुद्दे सुलझाने को पूरा नहीं कर देती।

इसे भी पढ़ें: अन्ना के सहयोगी का मोदी पर हमला, कहा- ब्राह्मण व क्षत्रियों जातियों को भी दें आरक्षण

इससे पहले महाराष्ट्र के मंत्री और सरकार तथा अन्ना हजारे के बीच दूत की भूमिका निभा रहे गिरीश महाजन ने मंगलवार को अन्ना से भूख हड़ताल को रद्द करने की अपील की थी। उन्होंने दावा किया था कि अन्ना की लगभग सभी मांगों को पूरा किया जा चुका है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Video