प्रधानमंत्री को देश को गुमराह नहीं करना चाहिए : बघेल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2022   08:09
प्रधानमंत्री को देश को गुमराह नहीं करना चाहिए : बघेल
ANI Photo.

बघेल ने कहा यदि महंगाई राज्यों के कारण से बढ़ रही है तब आप (केंद्र सरकार) पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत क्यों बढ़ा रहे हैं। 12 दिन में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 10 रुपए की बढ़ोतरी हुई है।

रायपुर|  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर देश को गुमराह नहीं करना चाहिए और केंद्र को पेट्रोलियम पदार्थों पर लगने वाले सेस को समाप्त करना चाहिए। बघेल ने बृहस्पतिवार को विधानसभा परिसर में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि भाजपा शासित राज्यों को पहले ईंधन पर वैट कम करना चाहिए।

मुख्यमंत्री से बातचीत में जब संवाददाताओं ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत कम करने के लिए राज्य सरकारों द्वारा वैट कम करने के प्रधानमंत्री के आह्वान को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा भारत सरकार पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतें लगातार बढ़ा रही है। रसोई गैस में तो वैट नहीं लगता है उसका रेट क्यों बढ़ रहा है।अभी जो खाने का तेल है उसका रेट लगातार क्यों बढ़ रहा है। यह आम आदमी को बहकावे में लाने जैसी बात है कि महंगाई हमारे कारण नहीं राज्यों के कारण बढ़ रही है।

बघेल ने कहा यदि महंगाई राज्यों के कारण से बढ़ रही है तब आप (केंद्र सरकार) पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत क्यों बढ़ा रहे हैं। 12 दिन में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 10 रुपए की बढ़ोतरी हुई है।

प्रधानमंत्री को देश को गुमराह नहीं करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस दौरान पेट्रोलियम पदार्थों पर सेस खत्म करने की मांग की। बघेल ने इस दौरान कहा छत्तीसगढ़ में पेट्रोलियम पदार्थों पर वैट की दर अन्य राज्यों से कम है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यों से राष्ट्र हित में पेट्रोलियम उत्पादों पर से वैट घटा कर आम आदमी को राहत देने तथा वैश्विक संकट के इस दौर में सहकारी संघवाद की भावना के साथ काम करने की अपील की थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।