बंगाल की तरह उत्तर प्रदेश में भी होगा खेला, भाजपा 2022 में सत्ता से होगी बेदखल: ओमप्रकाश राजभर

बंगाल की तरह उत्तर प्रदेश में भी होगा खेला, भाजपा 2022 में सत्ता से होगी बेदखल: ओमप्रकाश राजभर

ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि महंगाई के मामले पर भाजपा को मोतियाबिंद हो गया है, भाजपा डूबती नैया है जिसे मरना हो वह उसके साथ जाए। जिस तरह बंगाल चुनाव में खेला हुआ ठीक उसी तरह 2022 के यूपी चुनाव में खेला होबे।

लखनऊ। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेता ओमप्रकाश राजभर ने भाजपा पर कड़ा प्रहार किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा को मोतियाबिंद हो गया है, भाजपा डूबती नैया है जिसे मरना हो वह उसके साथ जाए। जिस तरह बंगाल चुनाव में खेला हुआ ठीक उसी तरह 2022 के यूपी चुनाव में खेला होबे। भाजपा काल में लोकतंत्र की हत्या है। चुनाव आयुक्त से कोइ अपेक्षा नही की जा सकती है। 

इसे भी पढ़ें: सीटों के बंटवारे पर ‘भागीदारी संकल्प मोर्चा’ में कोई समस्या नहीं :राजभर 

उन्होंने कहा कि ओवैसी की पार्टी से हमारे मोर्चे में मजबूत गठबंधन है, उनके प्रदेश अध्यक्ष का बयान समझने में थोड़ी गड़बड़ हुई है, उनके बयान के बाद दो बार ओवैसी से मेरी बात हुई है। अखिलेश और शिवपाल की मुलाकात को लेकर उनहोंने कहा कि परिवार मिल जाए इससे अच्छी और कोई बात नहीं होगी। 2022 में बीजेपी सत्ता से बेदखल होगी। पंचायत अध्यक्ष के 17 जगह पर जीत गुंडागर्दी का नतीजा है। 2022 में हम आएंगे और इनके अभी बने 17 चेयरमैन को उलट कर रख देंगे।

ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि महंगाई के मामले पर भाजपा को मोतियाबिंद हो गया है, भाजपा डूबती नैया है जिसे मरना हो वह उसके साथ जाए। जिस तरह बंगाल चुनाव में खेला हुआ ठीक उसी तरह 2022 के यूपी चुनाव में खेला होबे। भाजपा काल में लोकतंत्र की हत्या है। चुनाव आयुक्त से कोइ अपेक्षा नहीं की जा सकती है। जितने भी गुडां माफिया और दुराचारी है सब भाजपा मे भरे है। भाजपा ऐसी वासिंग मशीन है जिसमें सब क्लीन हो जाते है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ सशक्त मोर्चा बनाने का प्रयास कर रहे हैं: राजभर 

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार पर महंगाई व लचर कानून व्यवस्था को लेकर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, जनता का अपार समर्थन मिल गया तो जनहित के मुद्दे को दरकिनार कर दिया। भाजपा मतलब भारतीय झूठ पार्टी का नाम देकर संबोधित किया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।