मेरठ में जमीन के विवाद में फावड़े से काटकर कालेज प्रबंधक की हत्या

मेरठ में जमीन के विवाद में फावड़े से काटकर कालेज प्रबंधक की हत्या

जानी खुर्द थाना क्षेत्र के कलंजरी गांव में शुक्रवार सुबह जमीनी विवाद में बाप-बेटों ने मिलकर इंटर कालेज के प्रबंधक की फावड़े से गला काटकर हत्या कर दी। घटना से गांव में दहशत का माहौल है।

मेरठ जनपद में जानीखुर्द थाना क्षेत्र के गांव कलंजरी में शुक्रवार सुबह जमीनी विवाद में एक इंटर कालेज के प्रबंधक की फावड़े से काटकर हत्या कर दी गई। इस सनसनीखेज वारदात से गांव में सनसनी फैल गई। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। घटना को अंजाम देने में बाप-बेटों समेत तीन आरोपियों के नाम बताए जा रहे हैं।

कलंजरी गांव निवासी 58 वर्षीय इंद्रवीर सिंह पुत्र भोपाल किसान थे और कलंजरी गांव स्थित आर्य वैदिक इंटर कालेज के प्रबंधक भी थे। शुक्रवार सुबह दस बजे वह अपने खेत घर लौट रहे थे। तभी तीन हमलावरों ने उन्हें रास्ते में रोक लिया और फावड़े से गले पर कई वार कर दिए। हालांकि इंद्रवीर ने बचने के लिए शोर भी मचाया था, लेकिन हमलावर तब तक फावड़े से वार करते रहे, जब तक इंद्रवीर की गरदन धड़ से अलग नहीं हो गई। शोर सुनकर खेतों पर काम रहे किसानों को आता देख आरोपित भाग गए। घटना स्थल से खून से सना फावड़ा बरामद करने के बाद पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फोरेंसिक टीम ने भी घटना स्थल से साक्ष्य जुटाए। इंद्रवीर के भाई ओमप्रकाश की तहरीर पर पुलिस ने नौराज व उसके दो पुत्र दीपक और जोगेन्द्र उर्फ ज्योति के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया। वारदात के बाद आरोपित घर का ताला लगाकर भाग गए।

दिनदहाड़े हत्या से गांव में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों ने बताया कि आरोपित नौराज कई दिनों से वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। जिसके लिए वह हर समय फावड़ा अपने साथ रखता था।

जानी थाना प्रभारी संजय वर्मा के अनुसार घटना का कारण जमीनी विवाद बताया गया है। इंद्रवीर के परिवार के भाई सुंदर के कोई पुत्र नहीं था। कुछ साल पूर्व सुंदर की मौत हो गई थी। उसकी दो पुत्री थी। दोनों पुत्रियों की शादी होने के बाद उसकी पत्नी ओमवती ने सुंदर के नाम की जमीन मेरठ निवासी मेघराज को बेच दी थी। इस जमीन को बिकवाने में इंद्रवीर ने सहायता की थी। जिससे सुंदर का भाई नौराज इंद्रवीर से रंजिश रखता था। इसी रंजिश में घटना को अंजाम दिया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।