सरकार के पास मृतक किसानों के आंकड़े नहीं होने पर भड़की कांग्रेस, पूछा- कोरोना में मृत लोगों का आंकड़ा कहां से लिया ?

सरकार के पास मृतक किसानों के आंकड़े नहीं होने पर भड़की कांग्रेस, पूछा- कोरोना में मृत लोगों का आंकड़ा कहां से लिया ?

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अगर सरकार के पास 700 लोगों का आंकड़ा नहीं है तो महामारी के दौरान मृत लोगों का आंकड़ा कहां से लिया। सरकार जनगणना के आधार पर गिनती करे और मृत किसानों को मुआवज़ा दें।

नयी दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार ने लोकसभा को लिखित जवाब देकर सूचित किया कि उनके पास आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों का कोई आंकड़ा नहीं है। जिसको लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि बॉर्डर पर किसानों की मृत्यु हुई क्या इसकी जानकारी सरकार को नहीं है ? यह किसानों का अपमान है। 700 लोगों का अगर सरकार के पास आंकड़ा नहीं है तो सरकार ने कोरोना से मृत लोगों का आंकड़ा कहां से लिया। 

इसे भी पढ़ें: किसान संगठनों की एकता में आई दरार! टिकैत को दर्शन पाल की सलाह, जिम्मेदारी से दें बयान

हम सरकार को देंगे आंकड़ा

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अगर सरकार के पास 700 लोगों का आंकड़ा नहीं है तो महामारी के दौरान मृत लोगों का आंकड़ा कहां से लिया। सरकार जनगणना के आधार पर गिनती करे और मृत किसानों को मुआवज़ा दें। वहीं दूसरी तरफ दोआबा किसान कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष जंगवीर सिंह चौहान ने कहा कि अगर सरकार के पास आंकड़ा नहीं है तो हम उन्हें मुआवजे के लिए किसानों की मौत का आंकड़ा देंगे। 

इसे भी पढ़ें: सरकार के पास किसानों की मौत का कोई आंकड़ा नहीं, कृषि मंत्री बोले- मुआवजा देने का सवाल ही नहीं

कांग्रेस ने भी साधा निशाना 

इसके अलावा कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट किया कि तोमर साहब, नाकामी छुपाने के लिए इतना बड़ा झूठ! सच्चाई- 2020 में 10677 किसानों ने आत्महत्या की। 4090 किसान वो जिनके खुद के खेत हैं, 639 किसान जो ठेके पर ज़मीन ले खेती करते थे, 5097 वो किसान जो दूसरों के खेतों में काम करते थे। पिछले 7 सालों में 78303 किसान आत्महत्या कर चुके। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।