Covid-19 | हफ्तेभर में दोगुने हुए कोरोना वायरस के मामले, आने वाले खतरे की अभी तक लोगों को नहीं लगी भनक, मास्क का प्रयोग बंद!

Covid-19 | हफ्तेभर में दोगुने हुए कोरोना वायरस के मामले, आने वाले खतरे की अभी तक लोगों को नहीं लगी भनक, मास्क का प्रयोग बंद!
ani

दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक मामले दर्ज किए गए, जिनमें से अधिकांश मामलों में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का लेखा-जोखा था। कोविड के मामलों में स्पाइक पहली बार केवल इन राज्यों में देखा गया था। पिछले हफ्ते, केरल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, राजस्थान, पंजाब और कर्नाटक सहित नौ और राज्यों ने मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की।

नयी दिल्ली। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अभी तक कोविड की चौथी लहर पर अलार्म नहीं बजाया है, लेकिन देश भर में मामलों में वृद्धि अचूक है। पिछले एक हफ्ते में आये 15,700 से अधिक मामलों के साथ नये मामलों की संख्या लगभग दुगनी हो गयी है। ताजा आंकड़ो के अनुसार भारत में एक दिन में कोविड-19 के 2,541 नए मामले सामने आने से देश में कोरोना वायरस से अब तक संक्रमित हो चुके लोगों की संख्या बढ़कर 4,30,60,086 हो गई। दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक मामले दर्ज किए गए, जिनमें से अधिकांश मामलों में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का लेखा-जोखा था। कोविड के मामलों में स्पाइक पहली बार केवल इन राज्यों में देखा गया था। पिछले हफ्ते, केरल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, राजस्थान, पंजाब और कर्नाटक सहित नौ और राज्यों ने मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की।

कोरोना वायरस से 30 की मौत 

वहीं, उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी बढ़कर 16,522 पर पहुंच गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह आठ बजे जारी अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, भारत में संक्रमण से 30 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 5,22,223 हो गई है। वहीं, देश में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 16,522 पर पहुंच गई है, जो कुल मामलों का 0.04 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 649 की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं, मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 98.75 प्रतिशत है। अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण की दैनिक दर 0.84 प्रतिशत और साप्ताहिक दर 0.54 प्रतिशत है। देश में अभी तक कुल 4,25,21,341 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और कोविड-19 से मृत्यु दर 1.21 प्रतिशत है।

इसे भी पढ़ें: इफ्तार में पहले नेताओं की जुगलबंदियों और अब चिराग की भविष्यवाणी, नीतीश ने CM आवास खाली करना शुरू किया

 

राजधानी सहित इन राज्यों में बढ़ा कोरोना का प्रकोप 

 पिछले सप्ताह में, राष्ट्रीय राजधानी में 6,300 से अधिक मामले देखे गए, जो एक सप्ताह पहले दर्ज किए गए लगभग तीन गुना थे। सरकारी सूत्रों ने पिछले हफ्ते कहा था कि दिल्ली में कोरोनोवायरस के ओमिक्रॉन संस्करण और इसके उप-प्रकार तेजी से बढ़ रहे हैं। नमूनों ने BA.2.12.1 और ओमाइक्रोन के आठ अन्य उपप्रकारों की उपस्थिति को दिखाया। नमूनों की जीनोम अनुक्रमण का अध्ययन करने के बाद निष्कर्ष निकाले गए। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने फरवरी में कहा था कि Omicron का BA.2 सब-वेरिएंट BA.1 स्ट्रेन की तुलना में अधिक ट्रांसमिसिबल है।

इसे भी पढ़ें: बार्सिलोना घरेलू मैदान पर फिर हारा, रीयाल मैड्रिड खिताब से एक अंक दूर

भारत में कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण की अपडेट

वहीं, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड-19 रोधी टीकों की 187.71 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। गौरतलब है कि देश में सात अगस्त 2020 को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त 2020 को 30 लाख और पांच सितंबर 2020 को 40 लाख से अधिक हो गई थी। संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर 2020 को 50 लाख, 28 सितंबर 2020 को 60 लाख, 11 अक्टूबर 2020 को 70 लाख, 29 अक्टूबर 2020 को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे। देश में 19 दिसंबर 2020 को ये मामले एक करोड़ से अधिक हो गए थे। पिछले साल चार मई को संक्रमितों की संख्या दो करोड़ और 23 जून 2021 को तीन करोड़ के पार पहुंच गई थी। इस साल 26 जनवरी को मामले चार करोड़ के पार हो गए थे।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण से मौत के 30 मामले सामने आए, जिनमें केरल में 24, महाराष्ट्र तथा उत्तर प्रदेश में दो-दो और दिल्ली तथा मिजोरम में एक-एक मामला सामने आया। देश में अभी तक संक्रमण से कुल 5,22,223 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 1,47,834, केरल के 68,843, कर्नाटक के 40,057, तमिलनाडु के 38,025, दिल्ली के 26,167, उत्तर प्रदेश के 23,505 और पश्चिम बंगाल के 21,201 लोग थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अब तक जिन लोगों की कोरोना वायरस के संक्रमण से मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से अधिक मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं। मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।